शनिदेव की मूर्ति रौन थाना क्षेत्र के ग्राम जैतपुरा के हार से बरामद, मंदिर कमेटी बोली ये मूर्ति मंदिर की नही

भिण्ड। लहार थाना क्षेत्र के भाटनताल स्थित शनिदेव मंदिर की मूर्ति विगत 22 दिसम्वर की दरमियानी रात गायब हो गयी थी, जिसको लेकर पुलिस प्रशासन द्वारा काफी मसक्कत ओर जद्दोजहद के बाद मूर्ति गुरुवार को रौन थाना क्षेत्र के ग्राम जैतपुरा के हार से बरामद कर ली गई, चोरी गयी मूर्ति को लहार थाने में पहचान हेतु मंदिर समिति को बुलबाया गया तो वहां मन्दिर कमेटी के अध्यक्ष पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष रामकुमार महाते एवं अन्य कमेटी सदस्यों ने मूर्ति को पहचानने से इंकार करते हुए कहा कि यह मूर्ति चोरी गयी नहीं बल्कि उससे बडी है मतलब खरीदकर मामले को दबाने के लिए रखी गयी है तो वहीं अनुविभागीय अधिकारी लहार अवनीश बंसल द्वारा मंदिर से चोरी गयी मूर्ति को सही बताया और मन्दिर के पुजारी द्वारा उसकी शिनाख्त करना बताया ।
दबाब के चलते मामला रफा-दफा करने की कोशिश
जनचर्चा के अनुसार लहार थाना प्रभारी द्वारा एक प्रतिष्ठित परिवार के व्यक्ति को शनिदेव मंदिर की चोरी से जोडा जा रहा था जिसके चलते गुरुवार को पुलिस दबाब को हटाने और मामले को रफादफा करने के लिए नई मूर्ति खरीदकर रौन थाना क्षेत्र के ग्राम जैतपुरा के हार से जानबूझकर बरामद करवाई गयी है, लेकिन मंदिर कमेटी ने मूर्ति को न पहचानकर एक बार फिर मूर्ति चोरी केश को असमंजस में डाल दिया है और पुलिस द्वारा भी लगातार हो रहे, ज्ञापन ओर दबाब के चलते मूर्ति को ही सही मानकर कार्यवाही की जा रही है।