गुरियांची गांव में अंधे कत्ल की गुत्थी सुलझी नहीं थी कि एक ओर बुर्जुग पर जान लेवा हमला, एसपी शैलेन्द्रसिंह खुद हुए मामले में सक्रिय

-दो घटनाओं में खुद की एसपी ने मामले की छानबीन, जल्द गिरफ्तार हो सकते हैं आरोपी
भिण्ड। मौ थाना क्षेत्र के ग्राम गुरियाची गांव में तीन दिन में दूसरी वारदात घटित हुई। यहां खेत पर बने कमरे में सो रहे बुजुर्ग पर जान लेवा हमला हुआ। घटना के समय पीडित का बेटा भी मौजूद था। जब उसने पिता को खून से लथपथ देखा तो वो दहशत में आ गया और उसने हाथ तक नहीं लगाया। इसी समय उसने अपने भाइयों को सूचना दी। इसके बाद मौके पर पुलिस पहुंच गई। पीडित को उपचार के लिए ग्वालियर भेजा गया है और पुलिस अधीक्षक शैलेन्द्रसिंह को घटना की जानकारी लगी तो मामले की स्वंम छानबीन करने के लिए ग्राम गुरियांची पहुंचे जहां बेटों से बातचीत करने के दौरान पता चला कि पूरा मामला संदेहीपूर्ण है और किसी तरह की वृद्ध को गोली नहीं लगी, सिर्फ पुलिस को गुमराह करने के लिए किसी ने फायर कर इस तरह की साजिश रची है, लेकिन जल्द ही आरोपी पुलिस गिरफ्त में होगे। इसी गांव में तीन दिन पहले पूर्व सरपंच की हुई हत्या के मामले में जांच पड़ातल करने के लिए एसपी ने फिर से परिवार के बीच पहुंचकर पूछताछ की लेकिन परिजन पुलिस को कुछ भी नहीं बता रहे हैं और एसपी ने उन्हें पूरा आश्वासन दिया है कि आप लोग किसी तरह से डरे नहीं और भयभीत होने की जरुरत नहीं है पूरी बात बतायें, ताकि आरोपी पुलिस गिरफ्तार में हो सके। दोनों घटनाओं में पुलिस अधीक्षक ने स्वयं बागडोर अपने हाथों में थाम ली है और जल्द ही मामले से पर्दा उठ सकता है, क्योंकि एसपी जिस मामले में हाथ धोकर पीछे पड जाते है वह आरोपी ज्यादा दिनों तक खुले में सांस नहीं ले सकते हैं फिलहाल जांचपड़ताल जारी है।
खेत पर सो रहा था वृद्ध तभी घटित हुई घटना
गोहद एसडीओपी नरेंद्र सोलंकी से घटना के संबंध में बात की गई तो उन्होंने बताया गुरयाची गांव में रहने वाले रुस्तम सिंह यादव उम्र 70 वर्ष रात के समय अपने बेटे कल्लू यादव के साथ खेत पर बने ट्यूवबैल पर सोने के लिए गया। बुजुर्ग रुस्तम कमरे में सो गया। जबकि कल्लू कमरे के ऊपर बने कमरे में जाकर सो गया। रात करीब ढाई बजे गोलियां चलने की आवाज आई। यह आवाज को सुनकर कल्लू डर गया। वो अपने कमरे से बाहर नहीं निकला। कुछ देर बाद नीचे के कमरे से पिता के तडपने की आवाज आई। इसके बाद कल्लू सीढ़ी से नीचे उतरा तो पिता को खून में लथपथ देख दहशत में आ गया। इसके बाद उसने पहले दोनों छोटे भाई रामशंकर और शिवशंकर को फोन पर सूचना दी। इसके बाद दोनों भाई खेत पर आ गए। इसी समय मौ पुलिस मौके पर आ गई। करीब एक घंटे बाद पुलिस के आने के बाद पीडित बुजुर्ग को पहले मौ प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर उपचार के लिए ले जाया गया। यहां से पीडित को उचित उपचार के लिए ग्वालियर रेफर किया गया। पुलिस पूरे मामले की पडताल में जुटी हुई है। पुलिस को मौके पर दो कारतूस भी मिले है। घायल के सिर व पीठ के पास घाव के निशान है। पुलिस ने इस मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज कर लिया है और आरोपीगणों की तलाश जारी है।
खेत पर सो रहे पूर्व सरपंच कर तीन दिन पहले हुआ था मर्डर
इसी गांव के पूर्व सरपंच कप्तान सिंह की हत्या विगत शनिवार-रविवार की मध्य रात हुई थी। इन दोनों घटना स्थलों के बीच करीब एक किलोमीटर की दूरी है। दोनों वारदातें एक जैसी है। दोनों ही बुजुर्ग थे। हालांकि एक की मौत हो गई जबकि दूसरा अस्तपाल में भर्ती है। पहली घटना की गुत्थी सुलझ भी नहीं पाई कि दूसरी वारदात हो गई। अभी तक पुलिस कप्तान नदी में डूबे हुए बच्चों के शव बरामद करने में लगे हुए थे, इसलिए इस मामले में ध्यान नहीं दे पाया है, लेकिन अब जल्द ही दोनों मामले की गुत्थी सुलझ जायेगी। पुलिस कप्तान शैलेंद्र सिंह चौहान दूसरी वारदात के बाद घटना स्थल पर पहुंचे और दोनों परिवारों के पीडितों से मिले। पुलिस पूरे मामले की तह तक जाने में जुटी है। पुलिस दोनों वारदातों को चुनौती के तौर पर स्वीकार रही है और जल्द ही अब आरोपी पुलिस गिरफ्त में हो सकते हैं। दोनों घटनाओं के बाद एसपी ने पूरे क्षेत्र में रात्रिकालीन गश्त को बडा दिया गया है। ग्राम रक्षा समिति को भी एक्टिव किया जा रहा है।


इनका कहना है:
ग्राम गुरियांची की दोनो घटना एक किलो मीटर की एरिया में घटित हुई है अभी जो घटना घटित हुई है उसमें घायल वृद्ध को किसी तरह की गोली नहीं लगी है और उसका बेटा मामले से पुलिस को गुमराह कर रहा है वहीं पूर्व सरपंच हत्याकांड मामले की जांच की जा रही है, जल्द ही दोनों वारदात के आरोपी पुलिस गिरफ्त में होगे।
-शैलेन्द्र सिंह चौहान, एसपी भिण्ड