विज्ञान संचार के गुर जानेंगे शिक्षक ताकि नई पीढ़ी में ला सकें वैज्ञानिक दृष्टिकोण

बून्दी.KrishnakantRathore/ @www.rubarunews.com- शिक्षक गणों को विज्ञान के विभिन्न विषयों पर लोकप्रिय विज्ञान संचार की कला सिखाने के लिए बुधवार से डाइट संस्थान में तीन दिवसीय कार्यशाला का शुभारंभ होगा। ‘डेली साइंस न्यूज एंड फीचर्स फॉर डिजिटल एंड प्रिन्ट वर्जन ऑफ वैज्ञानिक दृष्टिकोण फॉर प्रोमोटिंग साइंस लिटरेसी’ नामक इस कार्यशाला की स्थानीय संयोजक डाइट के प्रधानाचार्य गिरिराज प्रसाद राठोड ने बताया कि यह कार्यशाला विज्ञान एवं प्रोद्योगिकी संचार परिषद, विज्ञान एवं प्रोद्योगिकी विभाग, भारत सरकार एवं वैज्ञानिक दृष्टिकोण सोसायटी के सानिध्य में डाइट बूंदी में आयोजित की जा रही है।
कार्यशाला में बूंदी क्षेत्र के 30 शिक्षक प्रतिभागी हिस्सा ले रहे हैं। इन्हें विज्ञान के विभिन्न विषय विशेषज्ञ कार्यक्रमानुसार प्रशिक्षण देंगे। तीन दिन के विभिन्न तकनीकी सत्रों में प्रशिक्षण देने के लिए हॉर्टिकल्चर वैज्ञानिक दुर्गालाल मोर्य, आयुर्वेद विशेषज्ञ डॉ सुनील कुशवाहा, टीबी संस्थान के प्रमुख डॉ.कुलदीप मीणा, शिक्षा विभाग के अधिकारी दिनकर शर्मा एवं वरिष्ठ पत्रकार नागेश शर्मा मौजूद रहेंगे। कार्यशाला के समापन पर सभी सफल प्रतिभागियों को भारत सरकार की ओर से प्रमाणपत्र प्रदान किए जाएंगे।
सम्पूर्ण मिशन के संयोजक और वैज्ञानिक दृष्टिकोण के संपादक तरुण कुमार जैन ने बताया कि भारत सरकार के वैज्ञानिक ‘एफ’ और निदेशक डॉ पंपोश कुमार के निर्देशन में यह मुहिम चलाई जा रही है। इस मुहिम के तहत प्रयास किया जा रहा है कि देशभर में अधिक से अधिक विज्ञान संचारक तैयार किए जा सकें ताकि सरल और सहज भाषा में देश के नागरिकों को विज्ञान की उपयोगी एवं प्रमाणिक जानकारी उपलब्ध हो सके।