समावेशी प्रजनन स्वास्थ्य को बेहतरी हेतु समुचित प्रयास किए जावेंगे- डॉ. एस.एन. उदयपुरिया

समावेशी प्रजनन स्वास्थ्य को बेहतर बनाने हेतुजिला स्तरीय स्वास्थ्य जनसंवाद आयोजित

दतिया @rubarunews.com>>>>>>>>>>>  मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान मध्यप्रदेश जिला इकाई दतिया व नेशनल अलायंस फ़ॉर मेटरनल हेल्थ & ह्यूमन राइट दिल्ली के संयुक्त तत्वावधान में समावेशी प्रजनन स्वास्थ्य को बेहतर बनाने हेतु जिला स्तरीय स्वास्थ्य जनसंवाद सभागार मेटरनिटी विंग दतिया में आयोजित किया गया।

आयोजित जिला स्तरीय स्वास्थ्य जनसंवाद में मुख्य अतिथि डॉ. एस.एन. उदयपुरिया मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी दतिया, विशिष्ट अतिथि डॉ. एस.एन. शाक्य सिविल सर्जन जिला चिकित्सालय, डॉ. डी.के. सोनी जिला टीकाकरण अधिकारी, डॉ. के.के. अमरया नोडल अधिकारी कोटपा रहे। कार्यक्रम में अध्यक्षता अरविन्द उपाध्याय जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग ने की। कार्यक्रम में प्रमुख रूप से वरिष्ठ समाजसेवी बल्देवराज बल्लू , अजय जैन सदस्य रोगी कल्याण समिति, समाजसेवी पुनीत टिलवानी, विपुल नीखरा आदि उपस्थित रहे।

आयोजित जनसंवाद में जिले में समुदाय आधारित निगरानी (CBM) द्वितीय चरण के निष्कर्ष से उपस्थित अतिथियों को अवगत कराने हेतु रामजीशरण राय सदस्य राज्य समन्वय समिति ने प्रस्तुतिकरण प्रस्तुत किया। जिसमें आवश्यक विन्दुओं पर जिम्मेदार अधिकारियों ने समाधान करने हेतु आश्वस्त किया गया। कार्यक्रम का सफल संचालन सुमित शर्मा व दीक्षा लिटौरिया ने किया।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी एस एन उदयपुरिया ने ब्लॉक अथवा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र से प्रसूता को रैफर करने पर जिला चिकित्सालय में जल्द ही 2 नम्बर जारी किए जानेंगे जो कॉल सेंटर का काम करेंगे उन पर कॉल आने पर आने वाली प्रसूता को आवश्यकता अनुसार सेवाएं बिना विलम्ब के मुहैया कराई जा सकेंगी। सिविल सर्जन डॉ. एस एन शाक्य द्वारा असंवेदनशील सेवाप्रदाताओं को बदलकर संवेदनशील सेवा प्रदाताओं को अवसर दिया जावेगा। प्रसूताओं व उनके परिजनों से प्रसव के दौरान की जाने वाली प्रक्रिया को रोकने हेतु आकस्मिक निरीक्षण किया जावेगा। जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग अरविन्द उपाध्याय ने प्रधानमंत्री मातृत्व वन्दना योजना के हितग्राहियों को अविलंब राशि उपलब्ध कराई जावेगी साथ ही पिछले 2 वर्ष तक लम्बित प्रकरणों को विशेष रूप से कलेक्टर की विशेष अनुमति लेकर निबटान किया जावेगा।

अभियान के तहत सीबीएम में चयनित 9 ग्रामों से आईं हितग्राही महिलाओं ने विभिन्न स्तरों पर मातृत्व स्वास्थ्य की सेवाओं व सुविधाओं संबंधित अपने-अपने अनुभव प्रस्तुत किए। जिन पर मुख्य अतिथि डॉ. एस.एन. उदयपुरिया मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी व विशिष्ट अतिथि डॉ. एस.एन. शाक्य सिविल सर्जन व अध्यक्षता अरविन्द उपाध्याय जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग ने सरल व सहज ढंग से सुनकर समाधान करने हेतु आश्वस्त किया। प्रमुख रूप से कुछ स्टाफ को हटाने के आदेश दिए, जननी एक्सप्रेस को बेहतर बनाने हेतु नवाचार किया जावेगा। योजनाओं के लंबित भुगतान को अविलंब कराया जावेगा। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों से समय रहते रैफर करने व अनावश्यक रैफर न करने के लिए प्रयास किए जावेंगे। अन्य विन्दुओं पर भी संवाद के दौरान समाधान के लिए प्रयास करने की सहमति प्रदान की। ताकि समावेशी प्रजनन स्वास्थ्य को बेहतर बनाया जा सके।

कार्यक्रम में ब्लॉक कम्युनिटी मोबीलाइजर उनाव कीर्ति चौहान, अमरचंद राजपूत एमपीएस, बालगृह से सौरभ सोनी, मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान के वीरेन्द्र शर्मा, संजय तिवारी, प्रतिभा बुन्देला, पीयूष राय, पंकज शर्मा, बलवीर पाँचाल, शीतल रायकवार, अशोककुमार शाक्य, आकांक्षा लिटौरिया, अभिषेक लिटौरिया, अनिल, मीना सूर्यवंशी, नीलम जाटव, जानकी यादव, रानी पाल, दीक्षा पाल, कमला सेंन, बसुंधरा अहिरवार, आदि की उपस्थिति सराहनीय रही।

कार्यक्रम के अंत में अभियान के साथियों ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एस.एन. उदयपुरिया व सिविल सर्जन डॉ. एस.एन. शाक्य को समावेशी प्रजनन स्वास्थ्य को बेहतर बनाने हेतु 13 विन्दुओं का मांगपत्र सौंपा गया। आगामी दिवस में कलेक्टर को भी मांगपत्र सौंपा जावेगा। अंत में सभी का आभार व्यक्त सुबोध शर्मा अभियान सदस्य ने किया। उक्त जानकारी प्रशान्त गुप्ता सदस्य मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान ने दी।