यूआईटी के कॉमर्शियल प्लॉट की बोली बढ़ने से पहले ही वेबसाईट हुई हेक

कोटा.KrishnakantRathore/ @www.rubarunews.com- नगर विकास न्यास में ई-ऑक्शन के माध्यम से कॉमर्शियल प्लॉट की बोली में गड़बड़झाला सामने आया है। मामला यूआईटी के राजीव गांधी नगर स्पेशल स्कीम पार्ट 2 के कॉमर्शियल भूखण्ड का है, जिसमें बोलीदाताओं ने जब बोली बढ़ाने के लिए भाग लिया, तो अचानक से वेबसाईट ही जाम हो गई, जिससे बोली नहीं बढ़ पाई और वे इस प्लॉट की बोली लगाने से वंचित रह गए।

इस संबंध में बोलीदाता अंकुश गुप्ता ने जिला कलेक्टर एवं यूआईटी सचिव को लिखित शिकायत दी है, जिसमंे उन्होंने बताया कि नगर विकास न्यास द्वारा राजीव गांधी नगर स्पेशल पार्ट 2 के कॉर्मशियल प्लॉट बिक्री की विज्ञप्ति जारी की थी, जिसमें मैंने यूआईटी के इस प्लॉट को खरीदने के लिए 15 लाख 71 हजार 300 रूपये जमा करवाकर इस ई-ऑक्शन मंे भाग लिया था। उन्होंने बताया कि यह बोली दो दिन से चल रही थी, लेकिन आज करीब 2 बजकर 15 मिनट पर मैंने बोली बढाने की कोशिश की तो अचानक से पॉर्टल से मेरी बढ़ी हुई बोली लेना बंद कर दिया। और कुछ मिनट बाद ही जब मैंने दोबारा लॉगिन किया तो वो प्लॉट बिक चुका था।

उन्होंने आरोप लगाया कि इस तरह से बोली नहीं बढने के कारण एक ओर जहां मैं बोली लगाने से वंचित रह गया वहीं इसके कारण यूआईटी को भी राजस्व की भारी हानि हुई है, उन्होंने बताया कि जिस बोलीदाता को यूआईटी ने यह प्लॉट आवंटित किया है उसने इस प्लॉट की बोली 63 हजार 50 रूपये प्रति वर्गमीटर लगाई थी। जबकि मैंने इसे बढ़ाकर 64 हजार कर सबमिट करने की कोशिश की थी, लेकिन वो नहीं हो सकी।
उन्होंने बताया कि इस बोली मंे करीब 6 बोलीदाता भाग ले रहे थे, वे भी इस बोली को आगे बढ़ाने में वंचित रह गए। बोलीदाता अंकुश गुप्ता ने बताया कि अन्य सभी बोलीदाताओं ने भी इस संबंध में अपनी शिकायत यूआईटी सचिव को मौखिक या लिखित रूप मंे दी है। उन्होंने यूआईटी से इस पूरे मामले की जांच करवाने एवं नये सिरे से उक्त प्लॉट के री-ऑक्शन की मांग की है।