नहीं रहे स्काउटिंग के पारीक सतत सेवा करते रहे और जाते-जाते भी सेवा व दूसरों की सहायता का संकल्प दिला कर गए

बूंदी.KrishnakantRathore/@www.rubarunews.com-भारत स्काउट गाइड के समर्पित निष्ठावान कार्यकर्ता जिन की दिनचर्या सेवा से शुरू होती थी और सेवा के साथ ही समाप्त होती थी ऐसे वरिष्ठ रोवर लीडर सेवानिवृत्त शिक्षक व विभिन्न समाज सेवा मंच से जुड़े रमेश चंद पारीक का गुरुवार रात्रि आकस्मिक निधन हो गया। स्काउटिंग वाले पारीक साहब के नाम से लोकप्रिय छियासठ वर्षीय रमेश चंद पारीक ने इससे कुछ घंटे पूर्व ही स्काउट गाइड भवन पर सांयकाल रोवर स्काउट बैठक की अध्यक्षता की। इस अवसर पर संभागियों को संबोंधित करते हुए समाज सेवा हेतु प्रेरित किया युवा पीढ़ी ईश्वर और अपने देश के प्रति कर्तव्य पालन का पालन करें। यथा सम्भव दूसरों की सेवा व सहायता करें उन्होंने संभागियों को स्काउट प्रतिज्ञा के साथ यह संकल्प भी दिलाया, उस समय किसी को पता नहीं था कि यही पारीक का अंतिम सन्देश होगा ।

उल्लेखनीय है कि जिले में सेवाभावी युवाओं का मृदुल अग्रज सेवा दल गठित करने वाले पारीक के सक्रिय प्रयासों से बस स्टैंड स्थित मृदुल जल मंदिर प्याऊ कई वर्षों से संचालित है, साथ ही सेवानिवृत्ति के बाद पारीक द्वारा युवाओं के व्यक्तित्व उन्नयन हेतु स्काउट के मालवीय स्वतंत्र रोवर क्रू का संचालन किया जा रहा था। नियमित रूप से प्रातः भ्रमण, मंदिर जाने से गायों को चारा, कुत्तों को रोटी देने व अन्य जरूरतमंद व्यक्ति की मदद , परामर्श देने के साथ स्काउट भवन की देखभाल व बस स्टैंड स्थित प्याऊ की संभाल पारीक की नियमित दिनचर्या का हिस्सा था।वे जिला विधिक सेवा प्राधिकरण में पैरा लीगल वॉलिंटयर व स्वयंसेवी संस्था उमंग संस्थान में मार्गदर्शक के रूप में भी सेवाएं दे रहे थे । उनके आकस्मिक निधन पर स्काउट गाइड परिवार, शिक्षा विभाग सहित गणमान्य नागरिकों ने संवेदना प्रकट की व भावभीनी श्रद्धांजलि दी।