देवारण्य‘‘ योजना में होगी औषधिय पौधों की खेती

श्योपुर.Desk/ @www.rubarunews.com-कलेक्टर  शिवम वर्मा की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयुष आधारित आर्थिक उन्नयन योजना ‘‘देवारण्य‘‘ पर कार्यशाला का आयोजन किया गया। इस अवसर पर सीईओ जिला पंचायत राजेश शुक्ल, अपर कलेक्टर  टीएन सिंह, एसडीएम  लोकेन्द्र सरल, उपसंचालक कृषि  पी गुजरे, सहायक संचालक उद्यानिकी  एमएस तोमर, आयुष अधिकारी डॉ जीपी वर्मा, डीपीएम एनआरएलएम  एसके मुदगल सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
कलेक्टर  शिवम वर्मा ने कार्यशाला को संबोधित करते हुए कहा कि मनरेगा के अभिसरण से देवारण्य योजना के तहत औषधिय एवं सुंगधित पौधों की खेती की जायेगी। इसके लिए उद्यानिकी विभाग, कृषि विभाग तथा एनआरएलएम द्वारा हितग्राहियों का चयन योजना की गाइडलाइन के अनुसार किया जाना सुनिश्चित करें तथा कलस्टर बनाकर औषधिय पौधों की खेती की जाये।
सीईओ जिला पंचायत  राजेश शुक्ल ने कार्यशाला में देवारण्य योजना पर प्रस्तुतीकरण देते हुए बताया कि इस योजना के अतंर्गत मनरेगा एवं अन्य कल्याणकारी योजनाओं के कन्वर्जेन्स से औषधिय तथा सुंगध वाले पौधों की खेती की जायेगी। इस योजना के तहत अनुसूचित जनजाति बाहुल्य क्षेत्रों में हितग्राहियों का चयन किया जायेगा। निजी भूमि होने पर कम से कम 10 किसानों को मिलाकर तथा शासकीय भूमि पर एनआरएलएम के स्वसहायता समूहों के माध्यम से खेती के लिए कार्य योजना तैयार की जायेगी। इसके अंतर्गत मनरेगा के प्रावधानों का पालन किया जायेगा। जिसमें हितग्राही के पास जॉबकार्ड होने के साथ ही लद्यु सीमांत कृषक होना चाहिए। उद्यानिकी विभाग एवं कृषि विभाग के माध्यम से हितग्राहियों का चयन किया जायेगा तथा औषधिय व सुंगधित पौधों एवं फसलों की खेती के लिए तकनीकी सहयोग लिया जायेगा।
कार्यशाला में सहायक संचालक उद्यानिकी  एमएस तोमर द्वारा अवगत कराया गया कि विजयपुर क्षेत्र में अजवाइन की खेती तथा रघुनाथपुर क्षेत्र में पोदीना की खेती के लिए अनुकूल वातावरण है। इस क्षेत्र में इन औषधिय फसलों की खेती को उक्त योजना के तहत बढावा दिया जा सकता है।

Umesh Saxena

I am the chief editor of rubarunews.com