सहकारिता मंत्री ने पावई माता मंदिर में आयोजित यज्ञ में आहूति दी

भिण्ड.ShashikantGoyal/ @www.rubarunews.com>> लोकसेवा प्रबंधन एवं सहकारिता मंत्री डॉ अरविन्द सिंह भदौरिया रविवार को अटेर क्षेत्र की पावई माता मंदिर में आयोजित महायज्ञ में शामिल होकर आहूति दी। इसके बाद मंत्री ने ग्राम टीकरी में डॉ भीमराव अम्बेडकर की प्रतिमा का फीता काटकर अनावरण किया। सहकारिता मंत्री जिला मुख्यालय स्थित कीर्ति स्तम्भ परिसर में संस्कृति भारतीय द्वारा आयोजित कार्यक्रम जनपद सम्मेलनम में शामिल हुए। तत्पश्चात मंत्री संस्कृति मैरिज गार्डन में शैक्षणिक दक्षता मूल्यांकन एवं गुणवत्ता सुधार कार्यक्रम व शिक्षको के सम्मेलन कार्यक्रम में शामिल हुए। इस अवसर पर एसडीएम भिण्ड-अटेर उदयसिंह सिकरवार, सहकारिता उपायुक्त आरएस गौर के अलावा, जनप्रतिनिधिगण उपस्थित थे।

सहकारिता मंत्री डॉ अरविन्द सिंह भदौरिया ने पावई माता मंदिर पर चल रहे महायज्ञ में आहूति दी और पावई माता की आरती कर दर्शन किए। उन्होंने कहा कि मॉ पावई वाली माता की कृपा से पावई वाली माता मंदिर पर सिद्व तीर्थ क्षेत्र को म.प्र.सरकार द्वारा पर्यटन स्थल में सिम्मलित करने का आश्वासन दिया। अगर क्षेत्र पर्यटन क्षेत्र में शामिल हो जाएगा, तो आने वाले श्रद्वालुओं को समुचित सुविधाओं का लाभ मिल सकेगा। इस अवसर पर महायज्ञ में अन्य धर्मप्रेमी, पार्टी पदाधिकारी एवं ग्रामीणजन उपस्थित थे।

मंत्री डॉ भदौरिया ने ग्राम टीकरी पहुंचकर बाबा साहब डॉ भीमराव अम्बेडकर की प्रतिमा का अनावरण किया। कार्यक्रम में एसडीएम अटेर-भिण्ड उदयसिंह सिकरवार, भंते विनयशील, भंते सुभद्र थेरे एवं ग्रामीणजन उपस्थित थे। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि डॉ भीमराव अम्बेडकर ने दलित समाज के लिए उत्थान का काम किया। इस अवसर पर गांव के रामनाथ सिंह ठेकेदार ने 30 लाख कीमत की जमीन जाटव धर्मशाला के लिए देने की घोषणा की। मंत्री के समक्ष ग्रामीणों द्वारा सामुदायिक भवन बनवाने की मांग पर उन्होंने कहा कि गांव में सामुदायिक भवन बनाया जाएगा।

सहकारिता मंत्री डॉ अरविन्द सिंह भदौरिया ने कीर्ति स्तम्भ परिसर भिण्ड में संस्कृति भारतीय द्वारा आयोजित जनपद सम्मेलनम में पहुंचकर मध्यमा नामक का विवोचन किया। उन्होंने कहा कि संस्कृति भाषा पुरानी व उच्च भाषा है। संस्कृति भाषा हिन्दुस्तान में कहीं भी अगर बोलते है तो समझ में आती है कि यह भारत की भाषा है। उन्होंने कहा कि आज संस्कृति पढे हुए व्यक्ति 5 प्रतिशत ही कर्मकांड कर रहे है। उन्होंने कहा कि यह कार्यक्रम हर तीन साल में होता है यह अच्छी बात है। सहकारिता मंत्री ने संस्कृति मैरिज गार्डन में शैक्षणिक दक्षता मूल्यांकन एवं गुणवत्ता सुधार कार्यक्रम व शिक्षको के सम्मेलन कार्यक्रम को संबोधित किया। सम्मेलन में बोलते हुए उन्होंने कहा कि शिक्षको द्वारा जो समस्याऐं बताई गई है उनको समाधान हेतु विचार कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि शैक्षणिक गुणवत्ता में सुधार हेतु सुधार किया जाए। उन्होंने कहा कि जिले में प्रायवेट स्कूल की तर्ज पर स्कूल खोलने पर सरकार विचार कर रही है कम से कम 10 हजार विद्यार्थी एक साथ पढे और उसमें सारी सुविधाऐं प्रायवेट स्कूल जैसी हो। इस अवसर पर क्षेत्रीय विधायक संजीव सिंह कुशवाह, एसडीएम भिण्ड-अटेर उदयसिंह सिकरवार सहित पार्टी पदाधिकारी एवं शिक्षकगण उपस्थित थे।