कोरोना महामारी के बीच , भोपाल स्वयंसेवको ने पेश किया मानवता का अद्भुत उदाहरण

भोपाल.Desk/ @www.rubarunews.com-कोरोना काल मे जहाँ एक तरफ कई परिवारों ने सपने परिजनों को खोया है तो कई परिवार अंतिम समय मे ना उनके दर्शन कर पाए और मजबूरी में ना ही उनका अंतिम संस्कार कर पाए है। इसी बीच मानवता की एक अद्भुत मिसाल दुनिया के सामने रखते हुए , भोपाल के सवयं सेवकों ने शनिवार को 200 से ज्यादा ऐसे लोगों की अस्थियों को होशंगाबाद के मंगल घाट पर नर्मदा में विसर्जित किया जिन लोगो का किसी कारणवश उनके परिवार वाले विसर्जन नही कर पाए या करने में असमर्थ है।

 

भोपाल के स्वयं सेवको ने समाज के लिए एक बेहतरीन उदहारण पेश किया स्वयं सेवको ने मध्यभारत प्रांत के 53 स्थानों पर अंतिम संस्कार किये और जिनमे कई शव ऐसे मिले जिनके साथ कोई परिजन नही थे । स्वयं सेवको ने उन सभी लोगो का निःस्वार्थ भाव से नर्मदा में विसर्जन किया।

स्वयं सेवको के साथ रहे रमेश लेखवानी ने कहा कि , ये सभी लोग शनिवार सुबह 7 बजे अस्थियों के साथ भोपाल से होशंगाबाद की और निकले और घाटों पर स्वयंसेवक सफाई, लकड़ी, पूजन सामग्री समेत अन्य व्यवस्थाएं की इस कार्य मे कई स्थानीय लोगों ने उनकी सहायता भी की ।

प्रस्थान के दौरान मध्यभारत के प्रांत संघचालक अशोक पांडेय ने पुष्पांजलि अर्पित की और दो मिनट का मौन रखकर उन सभी लोगो को श्रद्धांजलि दी जो कोरोना से लड़ते हुए यह जंग हर गए।

स्वयं सेवकों ने भी सम्पूर्ण भाव से पीड़ितों की हर संभव सहायता करने का संकल्प करते हुए करीबन 200 अस्थियो का विसर्जन नर्मदा में किया और आने में असमर्थ परिजनों को वीडियो कॉल के द्वारा जोड़ा भी गया।