वर्तमान में अधिकार एवं कर्तव्य के मध्य सामंजस्य की आवश्यकता At present, the need for harmony between rights and duties

बून्दी.Krishnakantrathore/ @www.rubarunews.com>> राजकीय महाविद्यालय बूंदी में सोमवार को कर्तव्य बोध दिवस प्राचार्य डॉ. एन. के. जैतवाल की अध्यक्षता में आयेजित हुआ। कार्यक्रम में कन्या महाविद्यालय के सह आचार्य डॉ. आशुतोष बिरला मुख्य वक्ता रहें। मुख्य वक्ता के रूप में संबोधित करते हुए डॉ. बिरला ने वर्तमान समय में अधिकार एवं कर्तव्य के मध्य सामंजस्य बैठाने की आवश्यकता पर जोर दिया। इन्होंने संविधान में वर्णित अधिकार एवं कर्त्तव्यों का उदाहरण देते हुए महाविद्यालय के शैक्षणिक एवं  अशैक्षणिक स्टाफ को प्राचीन भारतीय ग्रंथों गीता तथा रामायण से उद्धरण द्वारा धर्म और कर्म विस्तार से प्रकाश डाला। विषय प्रवर्तन डॉ. पूर्ण चन्द्र उपाध्याय एवं कार्यक्रम का संचालन डॉ. आलोक श्रीवास्तव ने किया। इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त शिक्षक एवं शैक्षणिक अधिकारी तथा कर्मचारी एवं छात्र मौजूद रहे।

वर्तमान में अधिकार एवं कर्तव्य के मध्य सामंजस्य की आवश्यकता At present, the need for harmony between rights and duties