महिलाएं अपना वजूद भुलाकर बहुत से किरदार निभाती है

बूंदी.KrishnakantRathore/ @www.rubarunews.com-जिला प्रशासन महिला अधिकारिता विभाग व महिला बाल विकास विभाग द्वारा अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर किशोरी मेले व सम्मान समारोह का आयोजन खोजा गेट स्थित खेल संकुल खेल मैदान में हुआ।

कार्यक्रम की मुख्य अतिथि जिला प्रमुख चंद्रावती कवर रही अध्यक्षता रेनू जयपाल ने की।

मुख्य अतिथि चंद्रावती कवर ने संबोधित करते हुए कहा कि महिला अबला नहीं है। महिलाएं अपना वजूद भुलाकर बहुत से किरदार निभाती है। महिला एक देवी की तरह हर घर को स्वर्ग बनाती है। किसी भी क्षेत्र में आज महिलाएं पीछे नहीं है।अध्यक्षीय उद्बोधन में जिला कलेक्टर रेनू जयपाल ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की हौसला आफजाई करते हुए कहा कि इन्होंने कोविड काल में अच्छा काम किया।इनसे कोई भी सर्वे कराया जाता है तो बहुत अच्छे से करती है। मा के गर्भ में आने से लेकर बच्चा 6वर्ष का होने तक ये महिला के साथ लगी रहती है हर अच्छी बुरी बात के बारे में समझाती है। यह हमारे लिए गर्व की बात है कि एक महिला होकर दूसरी महिला का दुख दर्द बाटती है। जन्म से लेकर बच्चे के अन्नप्राशन तक में ये सहयोग करती है। आप ही है जो महिलाओं को सशक्त बना सकती है।ड्रॉपआउट बालिकाओं को स्कूल पहुंचाने में जो आपकी भागीदारी हो सकती है वो किसी और की नहीं हो सकती।क्योंकि आंगनबाड़ी को प्री स्कूल से भी जोड़ा जा रहा है। सीडीईओ तेज कवर को धन्यवाद देते हुवे जयपाल ने कहा कि उनके द्वारा चलाए जारहे कैंपेन तारे जमीं पर जिसमें विद्यालय आंगनबाड़ी केंद्र का रंग रोगन व कार्टून बनवाकर उनमें अच्छे खिलौने रखवाएंगी। ताकि जो बच्चे गरीब है निजी स्कूलों में जो सुविधाएं मिलती है वह सुविधाएं उन्हें आंगनबाड़ी केंद्र में मिल पाएगी ताकि उनका जीवन भी सुखद हो सके।महिलाओं के अंदर शांति दुख को सहन करने की क्षमता होती है वो पुरुष में नहीं हो सकती। महिला ही है जो घर भी चला सकती है साथ ही नौकरी भी कर सकती है। महिला ही है जो देश का भविष्य तैयार करती है।महिलाएं अच्छे समाज का निर्माण करने में सहयोग दे।नगर परिषद सभापति मधु नुवाल ने बताया कि आज महिलाएं 100 फिट नीचे खदान में काम कर रही है तो अंतरिक्ष में महिला पहुंच रही है। महिलाओं में इतनी क्षमता है कि जो कोई नहीं कर सकता वो महिला कर सकती है

द्वीप प्रज्जवलन के साथ कार्यक्रम की शुरुआत हुई । एडीपीओ साजदा खानम ने मुख्य अतिथि जिला प्रमुख चंद्रावती कवर,अध्यक्षता जिला कलक्टर रेणु जयपाल को सीडीईओ तेज कंवर ने नगर परिषद सभापति मधु नुवाल को स्मृति चिन्ह भेट कर स्वागत किया।कार्यक्रम में अर्षिका व सलोनी शर्मा ने मनमोहक नृत्य की प्रस्तुति दी। महिला बाल विकास विभाग सुपरवाइजर ज्योति गोडसे ने विभागीय प्रतिवेदन प्रस्तुत किया।

सम्मानित हुए

महिला सशक्तिकरण कार्य क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य कर रही सहायिका सहयोगिनी को माता यशोदा पुरस्कार 5 साथिंन पुरस्कार दिए गए । विभाग के द्वारा वर्ष 2022 के इंदिरा महिला शक्ति पुरस्कार व सम्मान की कड़ी में व्यक्तिगत श्रेणी में कमला महाजनी को प्रथम पुरस्कार, संस्था उमंग संस्थान को द्वितीय पुरस्कार व दीपिका पाराशर को तृतीय पुरस्कार, ममता कुमारी को जिला स्तर पर सर्वश्रेष्ठ साथिन पुरस्कार से सम्मानित किया गया। किशोरी मेले में आयोजित प्रतियोगिताओं प्रथम द्वितीय, तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले विजेताओ को भी पुरस्कार दिए गए।

इससे पूर्व किशोरी मेले में राधिका स्वयं सहायता समूह द्वारा हैंडीक्राफ्ट, केजी बी वी हिंडोली, यूपी एस नानक पुरिया, कस्तूरबा गांधी बालिका छात्रावास माटुंडा, कस्तूरबा गांधी बालिका लाखेरी,द्वारा मॉडल का प्रदर्शन किया गया। सखी वन स्टॉप सेंटर, सलाह केंद्र, इंदिरा महिला शक्ति केंद्र, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, के द्वारा महिलाओं को आर्थिक सशक्तिकरण, मनोसामाजिक परामर्श, महिला सुरक्षा परामर्श महिलाओं एवं बालिकाओं संबंधित योजनाओं की जानकारी दी गई। इस दौरान हुई रस्सी कूद, कुर्सी दौड़, मेहंदी , रंगोली नृत्य प्रतियोगिता फैंसी ड्रेस का आयोजन हुआ जिसमें महिलाओं बालिकाओं ने बढ़ चढ़कर भाग लिया।

किशोरी मेले में दो महिलाओं की गोद भराई व दो बालकों का अन्नप्राशन किया गया।जिसमें सीडीपीओ साजिदा खानम ने महिलाओं की गोद भराई की रस्म पूरी की व बालकों को मुंह मीठा कराकर अन्न प्राष्नन करवाया गया।कार्यक्रम का संचालन रविराज मिश्रण व मोना शर्मा ने किया।

समारोह में सीएमएचओ महेंद्र त्रिपाठी भेरू प्रकाश नागरविभिन्न जिला स्तरीय अधिकारीगण सहित स्वयमसेवी संगठन महिला अधिकारिता विभाग महिला बाल विकास विभाग एवं प्रशासनिक अधिकारियों ने शिरकत की। इस दौरान सखी वन स्टॉप सेंटर केंद्र प्रबंधक रानू खंडेलवाल, महिला सुरक्षा एवं सलाह केंद्र छाया सक्सेना, आई एम शक्ति केंद्र प्रबंधक, मांगीलाल शेखर,मोना शर्मा, अर्पिता शर्मा, सलोनी शर्मा सुगना मीणा सहित आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, साथिन, महिलाएं व बालिकाएं उपस्थित रही।