बारिश की रिम-झिम फुहारों के बीच रानपुर में विराजे वासुपूज्य भगवान

कोटा.KrishnakantRathore/ @www.rubarunews.com-रानपुर स्थित नवनिर्मित श्री दिगम्बर जैन मंदिर मे रविवार को भव्य वेदी प्रतिष्ठा, संत सुधासागर संतशाला शिलान्यास समारोह आयोजित हुआ। कई दिनों से पड़ रही भीषण गर्मी रविवार को अचानक से जैसे सावन की फुहारों मंे बदल गई। रानपुर में वासुपूज्य भगवान की वेदी प्रतिष्ठा महोत्सव के दिन रविवार को शहर का मौसम अचानक से बदल जाने से जैन समाज मंे खुशी की लहर दौड़ गई। जैसे ही मुनिश्री सुधासागर जी महाराज के पावन चरण रानपुर की ओर बढ़े बारिश की फुहारें शुरू हो गईं। और जब मंदिरजी में मंत्रोच्चार के बीच भगवान की वेदी प्रतिष्ठा प्रारंभ हुई, लगा मानो जैसे सावन की घटाएं ही छा गई। इन्द्रदेव प्रसन्न मन से स्वयं भगवान का अभिषेक कर रहे हों। इस अलौकिक और मनोहारी पावन दृश्य को मंदिरजी में मौजूद श्रद्धालुओं ने निहारा वहीं लाखों श्रद्धालुओं ने लाइव प्रसारण के माध्यम से इसका पुर्ण्याजन किया। सकल दिगम्बर जैन समाज के नरेश जैन वेद ने बताया कि सुबह अभिषेक, शांतिधारा, नित्य नियम पूजन हुआ। मंदिर पर ध्वजारोहण का राजमति बज-पीयूष बज, श्रीमती कविता, मनीष जी, पिंकी जी आर्यमन बज परिवार द्वारा किया गया। पुर्ण्याजकों मंे धर्मचन्द्र-श्वेता शाह नासिरदा वाले, नरेश-निशा जैन वेद परिवार, रमेशचन्द-श्रीमती चिंतामणि दोराया रानपुर चूनावाले, नवीन-सीमा खटोड़ रानपुर वाले, अमृतलाल-श्रीमती विमला लाम्बावास रानपुर वाले ने किया। इस मौके पर नवीन जैन, पवन जैन, प्रेम जैन मौजूद रहे। विधि विधान की क्रियाएं बाल ब्रह्मचारी प्रदीप भैया एवं पंडित जिनेन्द्र जैन द्वारा की गई। इस मौके पर धर्मसभा में मुनिश्री सुधासागर जी ने कहा कि यह वासुपूज्य भगवान का अतिशय ही है कि आज जहां इतने दिनों से भीषण गर्मी पड़ रही थी, आज प्रकृति अनुकूल हो गई। उन्होंने कहा कि ऐसी मूर्तियां अतिशयकारी होती है। उन्होंने कहा कि सिलोर की तरह रानपुर से भी तीर्थ क्षेत्र निकलना चाहिए। मुनिश्री ने कहा कि श्रद्धालु महीने मंे एक बार यहां आकर शांतिधारा जरूर करें, तुम्हारी भक्ति और भगवान की शक्ति दोनों बढ़ेगी। मंगलग्रह की शांति के लिए लाभकारी है। उन्होंने कहा पितृदोष दूर करने के लिए कहीं ओर भटकने के बजाय जिस गांव मंे पूर्वज रहे हों, वहां शांति विधान करने जरूर जाएं।

स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल ने मुनिश्री का लिया आर्शीवाद
नरेश जैन वेद ने बताया कि रविवार को स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल रानपुर पहुंचे, जहां उन्होंने मुनिश्री सुधासागर जी महाराज से आर्शीवाद दिया। इस दौरान उन्होंने मुनिश्री से विभिन्न विषयों पर चर्चा की।

मुनिश्री ससंघ की अगवानी में बिछाए पलक पांवड़े
रविवार की अलसुबह मुनि पुंगव सुधासागर जी महाराज ससंघ पावन चरण रानपुर की ओर बढ़े, तो मानो प्रकृति खुशी से झूम उठी। कई दिनों से भीषण गर्मी का मौसम एकाएक परिवर्तित हो गया और घनघोर घटाएं बरसकर मुनिश्री की जैसे अगवानी करने को आतुर दिखी। स्थानीय जैन समाज ने संतों की अगवानी मंे पलक पांवड़े बिछा दिये। संतों की अगवानी बैण्डबाजों के साथ हुई, जिसमें पांच तरह के बैण्ड शामिल थे, दो महिला बैंड व बूंदी का चक्रवती बैंड, शहनाई व पांच ढोल एवं 15 बघ्घियां,उंटगाड़ी व पांच घोड़े शामिल रहे। नरेश जैन वेद ने बताया कि इस दौरान डेढ़ किलोमीटर लंबा जुलूस बन गया। रानपुर के प्रवेशद्वार पर पहुंचते ही श्रद्धालुओं ने पाद प्रक्षालन कर जोरदार अगवानी की। मार्ग में जगह-जगह पर उनके दर्शन व पादप्रक्षालन की होड़ी सी लगी रही।