मलेरिया/डेंगू, चिकुनगुनिया रोगों पर आधारित प्रशिक्षण आयोजित

श्योपुर.Desk/ @www.rubarunews.com>> जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. एसएन बिंदल एवं मेडिकल विशेषज्ञ डॉ. विष्णु गर्ग द्वारा मलेरिया/डेंगू, चिकुनगुनिया तथा अन्य वेक्टर जनित रोगों का प्रशिक्षण होटल मंगल पैलेस के मीटिंग हॉल में सामुदायिक स्वास्थ्य एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के चिकित्सा अधिकारियों व प्राइवेट चिकित्सकों को आज दिया गया।
जसमें मलेरिया के लक्षणों व उपचार एवं रोकथाम के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई। साथ ही मच्छरों के प्रजनन स्थलों तथा मच्छरों के लार्वा नस्टिकरण की जैसे सात दिवस में पानी की निकासी करना तथा जहाँ से सम्भव ना हो उस स्थान पर टेमोफोस या जला हुआ इंजिन का ऑइल डालें तथा लंबे समय तक भरे रहने वाले गड्डो में गंबूझिया मछली का संचयन करें आदि के बारे में जानकारी दी गई। इसी प्रकार मलेरिया की जाँच करने का तरीका बताया गया। डॉ. विष्णु गर्ग द्वारा मलेरिया की दवानीति 2013 के अनुसार पूर्ण उपचार पर विस्तृत जानकारी दी गई।ं साथ ही बताया कि कोई भी बुखार मलेरिया हो सकता हैं। इसलिए प्रत्येक बुखार के मरीज की जाँच करें तथा पॉजिटिव आने पर पूर्ण उपचार करें तथा जिला व्हीबीडी सलाहकार श्री किरतसिंह कवचे द्वारा डेंगू/चिकुनगुनिया, फाइलेरिया एवं अन्य वेक्टर जनित बीमारियों के लक्षणों की जानकारी दी गई।
साथ ही बीमारियों का लक्षणों के आधार पर उपचारित करने की जानकारी दी गई साथ ही बताया गया हैं कि किसी भी बीमारी के लक्षणों का पता चलते ही रेपिड फीवर सर्वे, लार्वा सर्वे, लार्वा नस्टिकरण स्पेस स्प्रे, फॉगिंग आदि कार्य कर  नियंत्रण की कार्यवाही करवाये तथा अपने वरिष्ठ अधिकारियों को सूचित करें ताकि प्रभावी कार्यवाही कर उक्त बीमारियों को समय पर नियंत्रण किया जा सके। इसी प्रकार सभी प्रकार मलेरिया डेंगू, चिकुनगुनिया के प्रोटोकॉल भी उपलब्ध करवाये गये। साथ ही कोरोना वायरस की जानकारी भी दी कि मास्क, हैंड्स सेनेटाइजर का उपयोग करें। सामाजिक दूरी बनाकर रखें, भीड़भाड़ वाले क्षेत्र में जानें से बचें, जब तक दवाई नहीं तब तक ढिलाई नहीं आदि जानकारी दी गई। इस दौरान बीबध्चीब के मेडिकल अधिकारी व  आकाश व्यास थ्भ्प् श्योपुर एवं मलेरिया विभाग से शहरी मलेरिया निरीक्षक  श्यामलाल बाथम, डॉटा एंट्री ऑपरेटर  अमित गुप्ता एवं संतोष टांक उपस्थित थे।