2023 के लिए भारत सरकार का आधिकारिक कैलेंडर जारी Indian government’s official calendar for 2023 released

नईदिल्ली.Desk/ @www.rubarunews.com>>केन्‍द्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री ने वर्ष 2023 के लिए भारत सरकार का आधिकारिक कैलेंडर जारी किया। इस अवसर पर केन्‍द्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि कैलेंडर प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी के सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास के भरोसे का प्रतिबिंब है। उन्‍होंने जोशपूर्ण तरीके से आगे बढ़ रहे भारत को दर्शाने वाली 12 छवियों के एक प्रभावशाली संग्रह वाले कैलेंडर की सराहना की। उन्होंने कहा कि 12 महीनों के लिए 12 थीम सरकार द्वारा लोक कल्याण के लिए किए गए ज़ोरदार प्रयासों की एक झलक है।

सूचना एवं प्रसारण मंत्री ने याद दिलाया कि कैलेंडर को दो साल के अंतराल के बाद वास्‍तविक रूप से कागज पर मुद्रित किया जा रहा है, जबकि दो वर्ष तक कैलेंडर केवल डिजिटल रूप में लाया गया। श्री ठाकुर ने इसे सरकार की सर्वश्रेष्ठ कृतियों में से एक बताते हुए कहा कि इस वर्ष कैलेंडर डिजिटल और भौतिक दोनों रूपों में उपलब्ध है जो सरकार के प्रयासों व कल्याणकारी उपायों के बारे में जानकारी देने के लिए एक प्रसार माध्यम होगा। उन्होंने कहा कि इस संदेश के वितरण का उद्देश्य देश में सभी पंचायतों को कैलेंडर वितरित करके जमीनी स्तर तक ले जाना है।

2023 के लिए भारत सरकार का आधिकारिक कैलेंडर जारी Indian government’s official calendar for 2023 released

सूचना एवं प्रसारण मंत्री ने आगे बताया कि कैलेंडर का यह संस्करण सरकार की अब तक की उपलब्धियों और भविष्य की प्रतिबद्धता दोनों को प्रदर्शित करेगा, इसलिए इसकी थीम ‘नया वर्ष, नए संकल्प’ रखी गई है। इसे हिन्‍दी और अंग्रेजी सहित 13 भाषाओं में उपलब्ध कराया जाएगा तथा सभी सरकारी कार्यालयों, पंचायती राज संस्थानों, स्वास्थ्य केन्‍द्रों, नवोदय और केन्‍द्रीय विद्यालयों, जिलों में बीडीओ और डीएम के कार्यालयों में वितरित किया जाएगा तथा सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों और स्वायत्त संस्थानों की खरीद के लिए उपलब्ध होगा। कुल 11 लाख प्रतियां छपवाई जाएंगी और पंचायतों को क्षेत्रीय भाषाओं में 2.5 लाख प्रतियां वितरित की जाएंगी।
श्री ठाकुर ने मंत्रालय के विभिन्न संस्थानों की उपलब्धियों को भी दोहराया। प्रसार भारती ने अपने सभी एनालॉग टेरेस्ट्रियल ट्रांसमीटरों को समाप्त कर दिया है, महत्‍वपूर्ण स्थानों में 50 ट्रांसमीटरों की उम्मीद है। वहीं डीडी फ्री डिश 2022 की शुरुआत में 43 मिलियन से अधिक घरों तक पहुंच चुकी थी, प्रसार भारती के तहत विभिन्न चैनल 2 करोड़ से अधिक ग्राहकों तक पहुंच चुके हैं। उन्होंने आगे कहा कि इस वर्ष देश में 75 सामुदायिक रेडियो स्टेशन जोड़े गए हैं जिससे इनकी संख्‍या 397 तक पहुंच गई है।
उन्होंने दर्शकों को आगे बताया कि केंद्रीय संचार ब्यूरो की स्वचालन प्रक्रिया पूरी हो चुकी है, यही प्रक्रिया भारत के समाचार पत्रों के रजिस्ट्रार के लिए चल रही है। उन्होंने कहा कि मंत्रालय ने पिछले 5 वर्षों में पत्रकार कल्याण योजना के तहत 290 पत्रकारों और पत्रकारों के परिवारों को 13.12 करोड़ रुपये वितरित किए हैं।

केंद्रीय संचार ब्यूरो के महानिदेशक श्री मनीष देसाई ने श्रोताओं को बताया कि कैलेंडर की थीम ‘नया वर्ष, नए संकल्प’ में भारत सरकार के विभिन्न कार्यक्रमों और नीतियों को प्रदर्शित किया गया है। इसका विषय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की परिकल्पना, पहल और नेतृत्व के अनुसार तैयार किया गया है। कैलेंडर पूरे भारत में केंद्र सरकार के कार्यालयों में वितरित किया जाएगा। श्री देसाई ने कहा कि इसके साथ ही, केंद्रीय संचार ब्यूरो की मास मेलिंग यूनिट ने क्षेत्रीय भाषाओं में भारत की 2.5 लाख से अधिक पंचायतों को कैलेंडर वितरित करने के लिए इंडिया पोस्ट के साथ समझौता किया है।

कैलेंडर के बारे में
कैलेंडर 2023 माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की परिकल्पना, पहल और नेतृत्व के अनुसार सर्वांगीण विकास करने के भारत सरकार के संकल्प को प्रदर्शित करता है। प्रत्येक महीने शासन के उन चुनिंदा सिद्धांतों और नीतियों पर प्रकाश डाला जाता है, जिन्होंने एक मजबूत भारत के पोषण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।
जनवरी
जैसे ही भारत ने अमृत काल में प्रवेश किया, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 22 सितंबर को राजपथ का कर्तव्य पथ के रूप में पुनः नामकरण किया। यह पहल औपनिवेशिक मानसिकता की बेड़ियों को तोड़ने और हमारे राष्ट्र के प्रति कर्तव्य पथ पर आगे बढ़ने का प्रतीक है।
फ़रवरी
फरवरी “किसान कल्याण,” या किसानों की भलाई के कार्यक्रमों को समर्पित है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने उचित ही कहा है कि किसान हमारे देश का गौरव हैं और सरकार ने समृद्ध भारत के निर्माण के लिए किसानों को सशक्त बनाने के उद्देश्य से कई नीतियों को लागू किया है।
मार्च
मार्च भारतीय महिलाओं की भावना- नारी शक्ति का सम्मान करने का महीना है। हर घर में महिलाओं का धन्यवाद करने के लिए, हम इस महीने में 8 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाते हैं। यह उन सभी महिलाओं के लिए उत्सव मनाने का महीना है, जिन्होंने उनके समक्ष आने वाली बाधाओं को तोड़ा है और खुद के लिए एक मुकाम बनाया है तथा दूसरों के अनुसरण के लिए मिसाल कायम की है। भारत सरकार हर वर्ष उपलब्धि हासिल करने वाली महिलाओं को ‘नारी शक्ति पुरस्कार’ से सम्मानित करती है।
अप्रैल
शैक्षिक सुधारों पर जोर देना सरकार के प्रमुख एजेंडे में से एक है। यह लक्ष्य प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नारे, “पढ़े भारत, बढ़े भारत”, का सार है और अप्रैल का विषय शिक्षित भारत है। नई शिक्षा नीति जैसे सुधारों के साथ प्राथमिक, माध्यमिक और उच्च शिक्षा में जमीनी स्तर पर बदलाव लाने के साथ, भारतीय शिक्षा प्रणाली लंबे समय से प्रतीक्षित बदलाव के दौर से गुजर रही है।
मई 
मई कौशल भारत कार्यक्रम के लिए समर्पित महीना है। राष्ट्रीय कौशल विकास अभियान सुव्यवस्थित संस्थागत दृष्टिकोणों के माध्यम से भारत में 30 करोड़ से अधिक लोगों को व्यापक कौशल के साथ प्रशिक्षित करने का इरादा रखता है। स्किलिंग यह सुनिश्चित करेगी कि देश का कोई भी युवा अपनी वास्तविक क्षमता तक पहुंचने से वंचित न रहे।
जून
दुनिया भर में 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने भारत में प्रत्‍येक आयु वर्ग के लोगों को शारीरिक रूप से सक्रिय जीवन शैली अपनाने के लिए प्रोत्साहित करने हेतु फिट इंडिया मूवमेंट की शुरुआत की। इस महीने की थीम ‘फिट इंडिया, हिट इंडिया’ फिटनेस के मंत्र को भारत के हर घर तक ले जाती है।
जुलाई
स्वास्थ्य के संबंध में किसी भी तरह की चर्चा पर्यावरणीय स्वास्थ्य के संदर्भ के बिना अधूरी है। भारत जलवायु के अनुकूल स्वस्थ विकल्पों को चुनने में अग्रणी रहा है। पर्यावरण के लिए जीवन शैली- मिशन लाइफ- ऐसे कार्यक्रम विकसित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है, जो लोगों को “‘कम करें, पुन: उपयोग करें और रीसायकल करें’ को अपनाने के लिए प्रेरित करते हैं।
अगस्त
केवल ओलंपिक और राष्‍ट्रमंडल खेल ही नहीं, बल्कि दिव्यांगों के लिए आयोजित अंतर्राष्ट्रीय खेल स्‍पर्धाओं में भी भारतीय खिलाड़ियों के शानदार प्रदर्शन ने हम सभी को गौरवान्वित किया। अगस्त की थीम खेलो इंडिया है। भारतीय खिलाड़ियों को जमीनी स्तर पर सहायता देने से लेकर विश्व स्तरीय बुनियादी सुविधाएं तैयार करने तक, खेलो इंडिया भारत को सभी खेलों में पोडियम के शीर्ष पर ले जाने का वादा करती है।
सितम्‍बर
सितंबर की थीम वसुधैव कुटुम्बकम, या “समूचा विश्‍व एक परिवार है” है। “एक पृथ्वी, एक परिवार, एक भविष्य” पर आधारित जी-20 की भारत की अध्यक्षता इस प्राचीन भारतीय प्रतिमान को वैश्विक स्तर पर ले जाती है। इसके अनुसार, हित और सरोकार सभी लोगों को समान रूप से प्रभावित करते हैं, और हमें इस धरती पर रहने वाले प्रत्‍येक प्राणी के जीवन की गुणवत्ता में सुधार के लिए सहयोग करना चाहिए।
अक्टूबर
कठिन और दुर्गम लक्ष्‍यों की प्राप्ति की इच्‍छा रखने के साथ ही हमारा ध्‍यान देश की बुनियादी जरूरतों को पूरा करने पर भी है। सरकार ने राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के माध्यम से सभी भारतीयों के लिए भोजन के अधिकार का समर्थन किया है। अत: अक्टूबर माह की थीम खाद्य सुरक्षा है।
नवम्‍बर
नवंबर की थीम आत्मनिर्भर भारत, देश को आत्मनिर्भर बनाने के हमारे प्रधानमंत्री के उत्साह से प्रेरित है और यह सपना 2 सितम्‍बर, 2022 को आईएनएस विक्रांत की कमिशनिंग के साथ बखूबी साकार हो गया। यह भारत में कोचीन शिपयार्ड लिमिटेड में बनने वाला पहला विमानवाहक पोत है।
दिसम्‍बर
जीवन को संवर्धित करने और पूर्वोत्तर की छिपी हुई प्रतिभा व खजाने को सम्‍मानित करने पर ध्‍यान केंद्रित करते हुए प्रधानमंत्री ने पूर्वोत्तर के आठ राज्यों को अष्टलक्ष्मी करार दिया है। यह भारत की समृद्धि के लिए इन आठों राज्यों के व्यापार, वाणिज्य, प्राकृतिक संसाधनों और विविध संस्कृतियों के महत्व को दर्शाता है और समावेशी भारत के निर्माण की दिशा में एक कदम के रूप में देखा जाता है।