किसानों की सुरक्षा के लिए बनायी गई गौशाला खाली, सड़कों पर झुंड के झुंंड घूम रहे मवेशी

किसानों की फसल सुरक्षा के लिए कांग्रेस सरकार ने बनायी गौशाला, भाजपा सरकार नहीं करवा पा रही संचालन

-शहर सहित अंचल की सड़कों पर घूम रहे हजारों आवारा मवेशी उनकी सुरक्षा के लिए अभी तक नहीं पुख्ता इंतजाम

भिण्ड.ShashikantGoyal/ @www.rubarunews.com>> जिले सहित अंचल में किसानों की फसल सुरक्षित करने व गौवंश की सुरक्षा को ध्यान में रखकर कांग्रेस सरकार के समय आधा सैकड़ा से अधिक गौशालाएं बनायी गई ताकि सड़कों पर आवारा मवेशी दिखाई न पड़े, बावजूद भी शहर से लेकर गांव तक सड़कों पर झुंड के झुंड मवेशी घूम रहे हैं जो रात के समय वाहनों का शिकार होकर घायल हो जाते हैं। कांग्रेस की सरकार बनते ही गौशालाओं को ध्यान में रखकर आनन-फानन में जिलेभर मेंं लगभग 70 से अधिक गौशालाओं का निर्माण किया गया, सड़कों पर घूम रहे आवारा गौवंश को इसमें रखा जा सके। जैसे ही भाजपा की सरकार आई तो कांग्रेस के समय बनायी गई गौशालाओं का ठीक से अब तक संचालन नहीं कर पा रही है जिस कारण आज भी मवेशी किसानों फसल चौपट करने के साथ सड़कों पर घायल हो रहे हैं। कांग्रेस सरकार ने किसानों के प्रति बड़ी संवेदनशीलता दिखाते हुए गांव-गांव व शहर कई गौशलाओं का निर्माण कराकर किसानों की फसल को सुरक्षित करने के लिए संकल्प जाहिर किया था आधा सैकड़ो से अधिक गौशालाएं आनन-फानन में बनाने के आदेश जारी कर दिये जिसमें 35 लाख लेकर एक करोड तक की राशि खर्च हो गई जो इन दिनों खाली पड़ी हुई है ओर किसानों की फसल आवारा मवेशी चौपट करने में लगे हुए हैं इसके साथ ही सड़कोंं पर घूम रहे मवेशी आमजन को घायल करते है और रात के समय खुद भी जख्मी हो जाते हैं। कांग्रेस के समय आनन-फानन में बनायी गई गौशालाओं का मंत्रियों व पूर्व सामान प्रशासन मंत्री ने जगह-जगह ऐसी गौशालाओं का उद्घाटन व शुभारंभ किया जहां उनके भाषणों से ऐसा लगता था कि अब सड़कों पर आवारा पशु देखने को नहीं मिलेगे और किसान पूरी तरह से सुरक्षित हो जायेगा, लेकिन कांग्रेस सरकार जाते ही अधूरी गौशालाएं एवं निर्माण हो रही गौशालाओं की धनराशि का भी बंदरबांट हो गया, लेकिन किसान अपनी फसल बर्वाद होते हुए आज भी देख रहा है। किसानों की फसल की सुरक्षा व आवारा घूम रहे पशुओं की सुरक्षा के लिए भाजपा सरकार किसी तरह के इंतजाम नहीं कर रही है।

 

किसानों की फसल सुरक्षा व मवेशियों के लिए नहीं ध्यान

कांग्रेस सरकार के समय तो आनन-फानन में आवारा घूम रहे मवेशियों के लिए गौशाला बनायी गई, लेकिन अब खाली नजर आ रही हैं। नेताओं द्वारा किसानों की फसल की सुरक्षा व आत्म निर्भर बनाने के लिए आदि के नारे गूंजते रहे, और भाजपा सरकार ने भी ताबड़तोड़ जिले में कांग्रेस सरकार से भी बड़चढ़कर गौशालाअें का निर्माण कराया और अभी कई जगह निर्माण चल रहा है लेकिन हकीकत यह है कि पूर्व से भी ज्यादा गौवंश तथा आवारा पशु जिले की सड़कों पर आज भी धमा-चौकडी मचा रहे हैं और किसानों की आने वाले हरी फसल को चौपट करने के लिए दृढ संकल्पित दिखाई दे रहे हैं।

गौशाला निर्माण व उद्घाटन सिर्फ समाचार पत्र की बनी हेडलाइन, हकीकत…

जिले सहित अंचल में गौवंश की सुरक्षा के लिए सरकार द्वारा बनायी गई गौशालाएं सिर्फ शोपी नजर आ रही हैं। हकीकत आज भी गौशालाओं के निर्माण ओर चालू होने के कई फोटो ग्राफ समाचार पत्रों में प्रकाशित होते रहते हैं,  रोजाना गौशाला के निर्माण के ज्यादत्तर समाचार पत्रों की हेडलाइन बनते है जिनका मंत्रियों से गौशालााओं का शिलान्यास व उद्घाटन के साथ गायों को चारा खिलाते हुए दिखाई देते थे, और rubarunews.com ने  पहले भी गौशालाओं की हकीकत का जिक्र को लेकर कई खुलासे किये और हकीकत में आज गौशालाओं में सिर्फ आवारा पशुओं के चित्र छपे हुए देखे जा सकते है लेकिन हकीकत कुछ और ही बयां कर रही है।

 

शहर के डिबाइडरों आसपास मवेशियों के झुंड

शहर की हालत यह है कि डिवाइडर बनी हुई सड़कों के दोनों तरफ गौवंश गार्ड की तरह खडे दिखाई दे जायेगे, कुल मिलाकर यह है कि गौवंश व आवारा पशु कि बढ़ोत्तरी दिनों दिन दिखाई दे रही है लेकिन बनी हुई गौशालाओ में मवेशी नहीं है किसानों की सुरक्षा के लिए प्रबंधन नहीं है और कभी किसानों की सुरक्षा के लिए किसी तरह के इंतजाम किये जा रहे हैं। यूपी सरकार की तरह यदि किसानों को एक आवार पशु बांधकर रखने के लिए प्रोत्साहित करके प्रतिमाह कुछ राशि उपलब्ध करायी जाये तो गौवाशं व आवारा पशुाअें से निजात मिल सकेगी।