कोरोना गाइड लाइन की व्यापारी उड़ा रहे धज्जियां- जिला प्रशासन बना मूकदर्शक

भिण्ड.ShashikantGoyal/ @www.rubarunews.com>> पूरे देश में इस समय कोरोना महामारी फैली हुई है, जिससे बचाने के लिए लॉकडाउन लगा हुआ था, इसी दौरान लोगों को राहत देने के लिए कलेक्टर ने दो शिफ्ट में बाजार खोलने के लिए बैठक में निर्णय लिया तो व्यापारी वर्ग इसका गलत फायदा उठाकर निमयों को धता दिखा रहे हैं, कहीं इस तरह की लापरवाही भारी न पड़ जाये। कोरोना महामारी के चलते सोमवार तक जिले में लॉकडाउन के बाद मंगलवार से अनलॉक प्रक्रिया शुरू कर दी गई। अनलॉक प्रक्रिया शुरू होते ही बाजार में खरीददारों की भीड़ उमड़ पड़ी है। बुधवार को बाजार में कोविड नियमों की जमकर धज्जियां उड़ती हुई दिखाई दी। कहने को पुलिस प्रशासन दिन भर कवायद करती रही। मगर न सामाजिक दूरी का पालन हुआ और न मास्क की जरूरत समझी गई। दुकानों के अंदर जमकर भीड़ जुटाई जा रही है सोशल डिस्टेसिंग को खंूटी पर टांग दिया है लोग समझ रहे है महामारी का साया उने ऊपर से हट गया है इसलिए सभी लोग लापरवाह दिख रहें हैं।

 

अनलॉक का उठा रहे सभी लोग गलत फायदा

कोरोना महामारी से बचाने के लिए लगभग 48 दिन तक हुए लॉकडाउन में आमजनों में धैर्य, संयम और एकजुटता का जो तिलिस्म दिखा था बुधवार को वह टूटकर चकनाचूर होता नजर आया। लोग एक-दूसरे को देख बाहर निकले और बाजार में बेपरवाह दिखाई दिए। बाजार में भीड़ के चलते कई बार जाम भी लगा। दिनभर बाजार में कहीं पर सोशल डिस्टेंसिंग लोगों के बीच नजर नहीं आयी। इससे ऐसा लगा कि लोग पूरी तरह कोरोना की बीमारी के प्रति बेपरवाह हैं। न तो उन्हें अपनी जान की कोई परवाह है और न ही दूसरों की। पिछले दिनों कोरोना वायरस का संक्रमण लगातार बढ़ रहा था जिससे निपटने के लिए प्रशासन द्वारा युद्ध स्तर पर प्रयास किया गया और प्रयास काफी हद तक सफल भी रहे लेकिन बुधवार के दिन बाजार का नजारा देख अंदाजा लगाया गया जिला प्रशासन द्वारा किए गए आदेश का खुलेआम अभेलना होती रही और प्रशासन मूकदर्शक बना देखता रहा ।

 

कोरोना का कहर अभी जारी, फिर भी लापरवाही

कोरोना का कहर अभी हमारे ऊपर से गया नहीं है फिर भी बाजार में दुकानदारों द्वारा और आमजन द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग का कोई पालन नहीं किया जा रहा है। सभी लोग दुकानों पर एक दूसरे के नजदीक खड़े नजर आ रहे हैं। साथ ही अधिकतर लोग बिना मास्क के भी बाहर निकले। प्रशासन भी कोरोना के खतरे से बेखबर दिख रहा है।शहर से लेकर ग्रामीण अंचल के लोग सरेआम नियमों को धता बताते हुए देखे जा सकते हैं।

 

प्राइवेट चिकित्सक भी उडा रहे आदेश की धज्जियां

शहर में जैसे ही अनलॉक प्रक्रिया शुरू हुई तो सबसे ज्यादा चमक प्राइवेट चिकित्सकों के चेहरे पर दिखाई दी, कोरोना काल में इन डॉक्टरों ने कोरोना प्रोटोकॉल के प्रत्येक नियमों का उल्लंघन किया था जिसके बाद जिला प्रशासन द्वारा एक के बाद एक कई झोलाछाप डॉक्टर एवं उन डॉक्टरों के ऊपर कार्रवाई की गई थी जिन्होंने कोरोना नियमों की धज्जियां उड़ाई थी और क्लीनिकों को संचालित किया था, लेकिन अनलॉक होते ही जो डॉक्टर अपने एक कमरे वाले क्लीनिक को बंद किए हुए थे, उन डॉक्टरों ने दोबारा से अपनी दुकानदारी शुरू कर दी और दुकानदारी शुरू करते ही कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी द्वारा दिए गए आदेश की अवहेलना करना प्रारंभ कर दिया जिस प्रकार पूर्व में डॉक्टरों के क्लिनिको पर बिना कोरोना प्रोटोकॉल के नियमों का पालन करे भीड़ एकत्रित होती थी वैसी ही भीड़ आज भी उनके क्लीनिकों पर देखने को मिली।

इनका कहना है

यह गलत है कोई भी व्यक्ति एवं दुकानदार नियमों का पालन नहीं करता है तो एग्जीक्यूटिव मजिस्ट्रेट एवं पुलिस द्वारा कार्यवाही की जाएगी।

-सतीश कुमार एस, कलेक्टर भिंड