शराब से 4 मौत का मामला,एक दिन पहले आबकारी टीम ने डिस्टलरीज को क्लीन चिट दी, अगले ही दिन उसके मालिक के भतीजे को पुलिस ने बनाया आरोपी

– ग्वालियर डिस्टलरीज के मालिक के भतीजे ने ही अवैध शराब बनाने के के लिए दी थी ओपी, फैक्ट्री से निकलने वाले ट्रकों से कराता था चोरी ने दम तोड़ दिया

भिण्ड। शहर के स्वतंत्र नगर में संचालित शराब की अवैध फैक्ट्री में ओपी की सप्लाई इटावा रोड पर स्थित ग्वालियर डिस्टलरीज से की जा रही थी। डिस्टलरीज के मालिक का भतीजा ही ओपी सप्लाई करता था। वह डिस्टलरीज से निकलने वाले ट्रकों से ओपी चोरी कराता था। रौन पुलिस ने डिस्टलरीज मालिक के आरोपी भतीजे को न्यायालय में पेश कर जेल भेज दिया है। दरअसल 13 जनवरी को शहर के स्वतंत्र नगर इलाके में संचालित शराब की अवैध फैक्ट्री के अंदर एक हजार क्वाटर शराब तैयार की गई थी। इस शराब को बनाने के लिए इंदुख गांव से पांच युवक आए थे। सभी को मजदूरी के रूप में 500-500 रुपए और दो-दो क्वाटर शराब दी गई थी। इनमें एक पुक्क मनीष ने चार क्वार्टर लिए थे। इस शराब को पीने के बाद मनीष जाटव और छोटू उर्फ रवि जाटव पुत्रगण नरेंद्र जाटव निवासी दुखों को 14 जनवरी की रात मौत हो गई थी। बाद में इनके साथ काम करने आए लाखन जाटव के चाचा पप्पू उर्फ रामदास पुत्र राम सिंह निवासी इंदुखी की अगले दिन 15 जनवरी को मौत हो गई। प्रारंभिक पड़ताल में पाया गया कि पप्पू ने भी वही शराब पी थी, जो कि मनीष और रवि ने पी थी। आखिर मौत गांव में संतोष बाथम हो गई, इस मामले में भी सामने आया कि उसने एक दिन पहले शराब पी थी।
शराब फैक्ट्री का मालिक बना रहा था अवैध मकान, प्रशासन ने ढहाया
रविवार को कलेक्टर और एसपी के आदेश पर नगरपालिका प्रशासन ने अवैध शराब बनाने के मामले में आरोपी धर्मवीर बघेल का निर्माणाधीन मकान ढहा दिया। प्रशासन के अनुसार, धर्मवीर ने प्लॉट का डायवर्सन और नामांतरण नहीं कराया था। साथ ही मकान बनाने के लिए उसने नगरपालिका से अनुमति भी नहीं ली थी। मकान तोडऩे की रणनीति एक दिन पहले ही शनिवार को जिला पंचायत में मुख्य कार्यपालन अधिकारी के चैंबर में बन गई थी। शनिवार की देर शाम कलेक्टर डॉ. सतीश कुमार एस. पुलिस अधीक्षक शैलेंद्र सिंह चौहान, एसडीएम उदय सिंह सिकरवार, नगरपालिका सीएमओ सुरेंद्र शर्मा सहित अन्य अधिकारियों ने लंबी बैठक की। इसके बाद रात को ही अधिकारी स्वतंत्र नगर में धर्मवीर का मकान देखने भी गए थे।
शराब फैक्ट्री चलाने वालों को पकडऩे के बाद से ही पुलिस • तलाश रही थी ओपी का स्रोत
11 जनवरी को सप्लाई की ओपी, 13 को बनाई गई अवैध शराब, 14 की रात दो भाइयों की मौत हुई, फिर दो और लोगों अवैध शराब फैक्ट्री मालिक का निर्माणाधीन मकान डिस्टलरीज को दी थी क्लीन चिट, सूत्र बताते आबकारी विभाग की जांच रिपोर्ट का मामला संदिग्ध नजर आ रहा हैअब पुलिस ने भतीजे को बनाया आरोपी खास बात तो यह है कि ग्वालियर डिस्टलरीज से ओपी सप्लाई होने के मामले में दो दिन पहले ही आबकारी की टीम ने डिस्टलरीज के अंदर पहुंचकर जांच की थी। टीम ने डिस्टलरीज के साथ दस्तावेजों के साथ लॉक सिस्टम आदि भी जांचे थे, जिसके बाद आबकारी की टीम ने डिस्टलरीज को क्लीन चिट दी थी आबकारी विभाग मामला संदिग्ध नजर आ रहा हैलेकिन पुलिस डिस्टलरीज मालिक के भतीजे मनीष से तीन दिन से पूछताछ कर रही थी। अब से पुलिस ने मनीष को आरोपी बना दिया है। पुलिस के अनुसार अभी और खुलासा भी हो सकते हैं।
एक घंटे की कार्रवाई के बाद मकान जमींदोज हो गया
स्वतंत्र नगर में स्थित अवैध शराब फैक्ट्री के मालिक धर्मबीर का मकान, जो प्रशासन ने एक घंटे की कार्रवाई में जमींदोज कर दिया। किसी भी अप्रिय घटना से निपटने के लिए बड़ी संख्या में पुलिस बल मौके पर मौजूद रहा। 11 जनवरी को आरोपी ने दी थी 80 लीटर ओपी, मौत होने पर एक केन नाले में बहा दी थी
लहार एसडीओपी अवनीश बंसल ने बताया कि ग्वालियर डिस्टलरीज के मालिक के भतीजे मनीष यादव पुत्र जसवंत यादव हो अवैध शराब बनाने के लिए ओपी सप्लाई करता था। वह डिस्टलरी से निकलने वाले ट्रकों से ओपी निकलवाता था। साथ ही उसे किसी अन्य युवक के जरिए धर्मवीर और गोलू के यहां पहुंचवाता था। 11 जनवरी को मनीष ने एक ही व्यक्ति को 80 लीटर ओपी दो केन में दी थी जबकि ओपी की एक केन और उसके पास रखी थी। 15 जनवरी को जब मनीष को पता चला कि जो ओपी उसने उससे तैयार शराब पीने से दो लोगों की मौत हो गई है तो उसने उस केन को अपने होटल के पीछे वाले नाले में फेंक दिया। हालांकि रविवार को पुलिस ने उस केन को भी बरामद कर लिया है, जिसमें करीब एक से डेढ़ लीटर ओपी भी मिली है। इंदुखी गांव में चार लोगों को शराब पीने से मौत के बाद पुलिस ने आनन फानन में फैक्ट्री संचालित करने वाले गोलू उर्फ आशीष सिरोठिया निवासी महावीर नगर, धर्मवीर बघेल निवासी स्वतंत्र नगर के अलावा शराब रखने व खरीदने वाले विकास यादव निवासी रतनपुरा और आर्यन शर्मा को गिरफ्तार कर लिया था। रौन पुलिस धर्मवीर और गोलू से लगातार शराब बनाने के लिए ओपी कहां से लाने के संबंध में पूछताछ कर रही थी।