कला, साहित्य, पर्यटन व अद्वितीय संस्कृति का पर्याय है बून्दी, इसकी अतुल्य विरासत का सरंक्षण हमारी साझी जिम्मेदारी है : जिला प्रमुख

बून्दी.KrishnakantRathore/ @www.rubarunews.com- छोटी काशी स्थापना की वर्षगांठ के अवसर पर गुरुवार को जिलेभर में विविध गतिविधियो का आयोजन किया गया। उमंग संस्थान द्वारा स्थापना के सात सौ अस्सी वर्ष पूर्ण होने पर बून्दी स्थापना दिवस विशेषांक का विमोचन व प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का शुभारंभ किया जिला प्रमुख चंद्रावती कंवर ने किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि बून्दी कला, साहित्य, पर्यटन व अद्वितीय संस्कृति का पर्याय रहा है। हमारी अतुल्य विरासत का संरक्षण साझी जिम्मेदारी है। स्थापना दिवस के अवसर पर नगर वासियों को शुभकामनाएं देते हुए जिला प्रमुख ने बूंदी के पर्यावरण संरक्षण व पर्यटन की अपार संभावनाओं पर बल दिया। इससे पूर्व प्रमुख कार्यालय पर आयोजित कार्यक्रम में संस्थान सचिव कृष्णकांत राठौर ने आयोजन के प्रतिवेदन के साथ अतिथियों का स्वागत अभिनन्दन किया। कार्यक्रम समन्वयक सर्वेश तिवारी ने बून्दी को जानो श्रृंखला के अंतर्गत आयोजित स्थापना दिवस विशेष प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता की जानकारी प्रस्तुत की। जिला प्रमुख कंवर ने प्रश्नोत्तरी का बटन दबाकर ऑनलाइन शुभारंभ किया। उपाध्यक्ष लोकेश जैन ने विशेषांक का परिचय दिया इस अवसर पर मुख्य अतिथि द्वारा विशेषांक का विमोचन किया। संस्थान के एजुकेशन सेल प्रभारी कुश जिंदल ने आभार प्रकट किया। इस अवसर पर समाजिक कार्यकर्ता गोविंद सिंह , इंजीनियर अभिमन्यु सिंह व आतिश वर्मा सहित संस्थान सदस्य उपस्थित थे।

सोशल मीडिया पर हुई प्रश्नोत्तरी हुई लोकप्रिय,सहभागिता प्रमाण पत्र के साथ विजेताओं को मिलेंगे पुरुस्कार

कार्यक्रम समन्वयक सर्वेश तिवारी ने बताया कि ऑनलाइन लॉन्चिंग के साथ ही बूंदी की कला संस्कृति पर्यटन व इतिहास को संजोए प्रश्नोत्तरी सोशल मीडिया पर लोकप्रिय हो गई तथा प्रथम दिवस चार सौ पचास प्रतिभागियों ने प्रतियोगिता में सहभागिता कर आकर्षक प्रमाण पत्र प्राप्त किए। प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता में कोई भी व्यक्ति सोशल मीडिया के माध्यम से सहभागिता कर डिजिटल प्रमाण पत्र प्राप्त कर सकता है । तिवारी ने बताया कि प्रतियोगिता में बूंदी स्थापना लाल लंगोट वाले बाबा, सूर्यमल मिश्रण द्वारा रचित ग्रंथों, डाबी के किसान आंदोलन, बूंदी राज्य की स्थापना केंद्र, देश की सबसे बड़ी पंचायत के अध्यक्ष, कजली तीज, विषधारी अभयारण्य, हाडा वंश से संबंधित ललनाओं, कॉपरेटिव बैंक, राजस्थान के प्रथम समाचार पत्र, ऐतिहासिक काव्य रंग में भंग, बूंदी दरवाजा, बूंदी की छतरियां, बूंदी चित्र शैली, बूंदी के प्रसिद्ध इतिहासकार, बर्ड राइडर रॉक पेंटिंग,बून्दी पहचान रेणी-कटार-बासमती, विश्व युद्ध में भाग लेने वाले शासक व बूंदी के प्रसिद्ध घोड़े से सम्बंधित रोचक प्रश्नों का उत्तर देकर आकर्षक डिजिटल प्रमाण पत्र प्राप्त कर सकेंगे तथा चयनित प्रतिभागियों को पुरस्कार भी प्रदान किए जाएंगे ।