जिंदगी अनलॉक करें- कोरोना को लॉक करें: मुख्यमंत्री श्री चौहान

  भोपाल.Desk/ @www.rubarunews.com>> मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना संक्रमण के प्रबंधन पर प्रदेशवासियों के नाम जारी संदेश में कहा है कि आज आपसे चर्चा करते समय मेरे मन में संतोष का भाव है। पिछले दो महीनों में हम सबने मिलकर कोरोना के खिलाफ एक भयानक युद्ध लड़ा है। यह दो माह मेरे जीवन का सबसे भयानक अनुभव है। कोरोना से इस युद्ध में हमने नुकसान भी बहुत उठाया। कई अपनों को खोया है। जख्म गहरे हैं, दर्द बड़ा है। कल ही मैंने उन बेटे-बेटियों के खाते में, पेंशन की राशि डाली है। जिन्होंने अपने माता और पिता दोनों को खो दिया था, उन बच्चों का हम सदैव ख्याल रखेंगे। लेकिन आज मैं यह कह सकता हूँ कि सब मिलकर अब कोरोना संक्रमण से लड़ाई जीतने की कगार पर हम पहुँच गये हैं। इस लड़ाई में आप सबका सहयोग मिला, जनता का साथ मिला, समाज के हर वर्ग ने सहयोग किया। सारे जिम्मेदार जन-प्रतिनिधियों, समाज-सेवियों, स्वयंसेवी संस्थाओं, सामाजिक-राजनैतिक दलों के कार्यकर्ताओं ने सहयोग दिया। सरकारी अमला हो, डाक्टर हो, नर्स हो, पैरामेडिकल स्टाफ हो, पुलिस के मित्रों, अलग-अलग विभागों का अमला हो, सबने अपना सर्वश्रेष्ठ देने की कोशिश की है। अपनी जान झोंक कर कार्य किया। मैं ऐसे सभी भाई-बहनों का आभारी हूँ। शहरी हो, व्यापारी हो, गाँव के भाई-बहन हों, मजदूर हो, कामगार हो, किसान हो, सबका साथ इस लड़ाई में मिला।

 

प्रधानमंत्री श्री मोदी का आभार

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आज मैं विशेष रूप से भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद देना चाहूँगा। संकट के इस दौर में जैसा सहयोग प्रधानमंत्री जी ने दिया सचमुच में वह अदभुत है। मैं ऑक्सीजन के संदर्भ को नहीं भूल सकता। प्रधानमंत्री जी से बात की, उन्होंने एयरफोर्स के विमान खाली टैंकरों के लिए भेज दिये। ऑक्सीजन जल्दी पहुँच जाये इसलिए ऑक्सीजन रेल चलाई। दवाइयों के इंतजाम में पूरा सहयोग दिया गया। हरसंभव सहयोग भारत सरकार से मिला। इसलिए मैं प्रधानमंत्री जी और उनकी पूरी टीम को हृदय से धन्यवाद देता हूँ।

 

संक्रमण नियंत्रित हैं पर संकट टला नहीं

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हर उस भाई को, बहन को, जिसका सहयोग इस लड़ाई के दौरान मिला मैं धन्यवाद देता हूँ। यह लड़ाई अभी बाकी है। यह बात अलग है कि आज संतोषजनक स्थिति है। प्रदेश में 30 मई को 75 हजार 417 टेस्ट हुए थे उसमें से केवल 1205 पॉजिटिव आए। पॉजिटिविटी रेट लगातार घटता जा रहा है, जो 1.6% पर पहुँच गया है।  रिकवरी रेट बढ़कर लगभग 96 प्रतिशत हो गया है। लगातार स्थिति सुधर रही है। खण्डवा में तो एक भी पॉजिटिव केस नहीं आया। प्रदेश के 30 जिले ऐसे हैं जहाँ 10 से कम पॉजिटिव केस आये हैं। इंदौर, भोपाल, इन दो शहरों ने भी भरसक प्रयास किया है। अब आने वाले केसेस घटते जा रहे हैं। लेकिन बड़ी संख्या में केसेस अभी भी हैं। कुछ जिले ऐसे हैं जहाँ केस घटते हैं लेकिन दूसरे दिन बढ़ भी जाते हैं। इस संक्रमण को नियंत्रित तो किया है, लेकिन संकट अभी टला नहीं है। अभी सावधान रहने की जरूरत है।

 

ब्लैक फंगस से हम लड़ रहे हैं

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि ब्लैक फंगस नाम की बीमारी से भी हम लड़ रहे हैं। ब्लैक फंगस के जो मरीज हैं उनकी हम पूरी चिंता कर रहे हैं। एन्टी फंगस इंजेक्शन का संकट था। लेकिन अब उनकी आपूर्ति सुनिश्चित होती जा रही है। प्राइवेट अस्पतालों में भी इंजेक्शन भेजने का हम इंतेजाम कर रहे हैं। ब्लैक फंगस से निपटने में भी हम अपनी तरफ से कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।

स्कूल, कॉलेज, कोचिंग संस्थान बंद रहेंगे

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना से अभी लड़ाई लड़ते रहना है। इसलिए कोरोना कर्फ्यू अभी हम समाप्त नहीं कर रहे हैं। कोरोना कर्फ्यू 15 जून तक जारी रहेगा। लेकिन कोरोना कर्फ्यू में हम छूट दे रहे हैं। सुरक्षा भी और समृद्धि भी। अपनी सुरक्षा भी करना है लेकिन आर्थिक गतिविधियाँ भी आरंभ करना है, जिससे व्यापार चल सके, निर्माण के काम चल सकें। गरीब की रोटी चल सके। मेहनत- मजदूरी मिल सके। क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप चाहे वे हमारे जिले के हों, हमारे ब्लाक के हों, वार्ड या गाँव हों, उन्होंने अपने-अपने यहाँ तय किया है कि 15 जून तक कौनसी गतिविधियाँ चलेंगी और कौनसी गतिविधियाँ नहीं चलेंगी। लेकिन कुछ गतिविधियाँ ऐसी हैं जिन पर पूरे प्रदेश में प्रतिबंध रहेगा। अपनी सुरक्षा के लिए, संक्रमण को रोकने के लिए यह पाबंदियाँ जरूरी हैं। सभी सामाजिक,राजनैतिक, धार्मिक आयोजनों पर प्रतिबंध रहेगा। खेल की गतिविधियाँ, मनोरंजन, शैक्षणिक, सांस्कृतिक गतिविधियाँ, मेले इत्यादि पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेंगे। स्कूल-कॉलेज कोचिंग संस्थान यह भी बंद रहेंगे। सिनेमा घर, शापिंग माल्स, व्यायामशाला, जिम, स्वीमिंग पूल, थिएटर, पिकनिक स्पॉट, बार, ऑडिटोरियम,सभागृह यह सभी बंद रहेंगे।

 

विवाह में दोनों पक्षों को मिलाकर 20 लोग सम्मिलित हो सकेंगे

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अत्यावश्यक सेवाएँ देने वाले कार्यालय के अतिरिक्त शेष कार्यालय 100 प्रतिशत अधिकारी और केवल 50 प्रतिशत कर्मचारियों के साथ संचालित हो सकेंगे। सभी धार्मिक और पूजा स्थलों में एक समय में चार से अधिक भाई-बहन नहीं जाएंगे ताकि पूजा हो सके लेकिन भीड़ न लगे। अंतिम संस्कार में अधिकतम 10 लोग सम्मिलित होंगे। मृत्यु भोज में भी 10 लोग ही सम्मिलित हो सकेंगे। विवाह में दोनों पक्षों को मिलाकर 20 लोग सम्मिलित हो सकेंगे। किसी भी एक स्थान पर एक साथ 6 लोगों से अधिक संख्या में लोग इकट्ठा नहीं होंगे। पूरे प्रदेश में शनिवार रात  10 बजे से सोमवार सुबह 6 बजे तक पूरी तरह से जनता कर्फ्यू जारी रहेगा। प्रदेश में प्रतिदिन रात 10 बजे से लेकर सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू लागू रहेगा।  कुछ जिलों ने वहाँ संक्रमण की स्थिति देखकर इन प्रतिबंधों को और कड़ा किया है। वे अपने जिले की जनता को सूचना दे देंगे  ताकि वहाँ संक्रमण फिर से न बढ़ सके।

 

सम्पूर्ण प्रदेश में मुक्त रहेंगी कई गतिविधियाँ

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कुछ गतिविधियाँ ऐसी हैं, जो सम्पूर्ण प्रदेश में मुक्त रहेंगी, मतलब यह गतिविधियाँ संचालित की जा सकेंगी। इसमें सभी प्रकार के उद्योग, औद्योगिक गतिविधियाँ, उद्योगों में कच्चा माल या तैयार माल का आवागमन, अस्पताल, क्लीनिक, नर्सिंग होम, मेडिकल इंश्योरेंस कम्पनी, अन्य स्वास्थ्य एवं चिकित्सा सेवाएँ, पशु चिकित्सा अस्पताल, केमिस्ट, राशन की दुकानें, किराना दुकानें, फल-सब्जी, डेरी, दूध, पशु आहार की दुकानें, पेट्रोल डीजल पम्प, गैस स्टेशन, रसोई गैस, मंडी, खाद-बीज, कृषि यंत्र की दुकानें, खेती संबंधी सभी गतिविधियाँ चालू रहेंगी। रेस्टोरेंट और भोजनालय से टेक होम डिलेवरी की जा सकेगी। लाजिंग होटल आगंतुकों के साथ रूम डायनिंग के साथ चालू रहेंगे। बैंक, बीमा कार्यालय, एटीएम, प्रिंट एवं इलेक्ट्रानिक मीडिया तथा केबल आपरेटर, नान बैंकिंग फाइनेंसिंग कम्पनियाँ, सहकारी साख समिति, केश मैनेजमेंट एजेंसी आदि का संचालन एवं आवागमन चालू रहेगा।  इलेक्ट्रीशियन्स, प्लम्बर, कारपेंटर, मोटर मेकेनिक, आईटी सर्विस प्रोवाइडर का आवागमन, एम्बुलेंस, ऑक्सीजन टैंकर का सम्पूर्ण प्रदेश में आवागमन, अस्पताल, नर्सिंग होम और टीकाकरण के लिए आवागमन कर रहे नागरिक और कर्मचारी, सार्वजनिक परिवहन,  चाहे वह बस हो या ट्रेन के माध्यम से हो, आ-जा सकेंगे। सभी प्रकार के सामान और माल की आवाजाही, निजी सुरक्षा सेवाएँ, घरेलू सेवा देने वाले जैसे कपड़ा धोने वाले, ड्राइवर, हाउस हेल्प, मेड, कुक आदि का आवागमन, ई-कामर्स कम्पनियों तथा अत्यावश्यक वस्तुओं की दुकानों से होम डिलेवरी की जा सकेगी। रेड जोन के बाहर के गाँव में समस्त मनरेगा से संबंधित कार्य, ग्रामीण विकास एवं अन्य विभागों के निर्माण कार्य, तेंदूपत्ता के संग्रहण का कार्य, तेंदूपत्ता तोड़ने का काम, फायर बिग्रेड टेलीकम्युनिकेशन, विद्युत प्रदाय, रसोई गैस, पेट्रोल-डीजल, केरोसीन टैंकर, होम डिलेवरी सेवाएँ, दूध एकत्रितकरण और वितरण, फल-सब्जी के परिवहन, डाक एवं अन्य कूरियर्स सेवाएँ, मोहल्लों एवं कालोनियों में एकल दुकानें, कोल्ड स्टोरेज एवं वेयर हाऊसिंग की सर्विसेस, समस्त सिविल मरम्मत कार्य तथा नवीन कंस्ट्रक्‍शन गतिविधियाँ संचालित होंगी। परीक्षा केंद्र आने और जाने वाले विद्यार्थी, परीक्षा केंद्र में परीक्षा की व्यवस्था से जुड़े कर्मी तथा अधिकारियों का आवागमन, आटो, ई-रिक्शा में दो सवारी, टैक्सी व निजी चार पहिया वाहन में ड्राइवर सहित तीन सवारी कोविड प्रोटोकाल के साथ, जिला स्तर पर परम्परागत लेबर मार्केट कोविड प्रोटोकाल के साथ, व्यक्तियों और वस्तुओं का राज्य के भीतर और बाहर आवागमन, यह सब गतिविधियाँ जारी रहेंगी। इन पर कोई प्रतिबंध नहीं रहेगा। अन्य गतिविधियों के बारे में अलग-अलग जिला अपनी स्थिति के अनुसार निर्णय लेगा।

संक्रमण पर नियंत्रण के लिए टेस्ट और कांटेक्ट ट्रेसिंग जारी रहेगी

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि इन सभी गतिविधियों को चालू रखते हुए हम कोविड के संक्रमण पर नियंत्रण कैसे करेंगे, इसकी भी व्यवस्था हमने जमाई है। हम पूरे प्रदेश में लगातार बड़ी संख्या में टेस्ट जारी रखेंगे। प्रतिदिन 75 हजार से कम टेस्ट नहीं होंगे। संक्रमण हो या न हो, टेस्ट होते रहेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अपील की कि आप सब सेम्पल देने में सहयोग करें, क्योंकि जिले के हर हिस्से से सेम्पल लेना होगा ताकि किसी भी हिस्से में संक्रमित भाई-बहन हो तो उसका तत्काल पता चल सके। अगर कोई भाई-बहन पॉजीटिव निकलता है तो उसे आईसोलेट करेंगे, कोविड केयर सेंटर ले जायेंगे, घर में जगह है तो वहीं रखेंगे। दूसरी चीज हम कांटेक्ट ट्रेसिंग करेंगे। मतलब उसके सम्पर्क में आने वाले जितने लोग हैं उनका भी हम सेम्पल लेकर टेस्ट करेंगे। ताकि उनमें से किसी को संक्रमण हो तो तत्काल पता लगाया जा सके। हमारे कोविड केयर सेंटर चलते रहेंगे।

किल-कोरोना अभियान चलता रहेगा

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि किल कोरोना अभियान चलता रहेगा। मेरी गाँव की क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी से कहा है  कि हमारा अमला गाँव-गाँव आयेगा। सर्दी, खाँसी, जुकाम के प्रकरणों और कोई पॉजिटिव केस तो नहीं है, इसका पता करेगा। इस अमले को पूरा सहयोग किया जाए। ताकि सर्दी, खाँसी, जुकाम का कोई भी प्रकरण गाँव में मिले तो हम तत्काल दवा दे सकें, उसका सेम्पल ले सकें, टेस्ट कर सकें। समय पर पता लगना ही संक्रमण को रोकने का प्रभावी उपाय है। यह सारे प्रयत्न करके हम संक्रमण को तत्काल पहचानेंगे, फैलने नहीं देंगे। तत्काल उपचार करेंगे। व्यवस्थाएँ करेंगे। इससे संक्रमण फैलने से रूकेगा और आर्थिक गतिविधियाँ भी चलती रहेंगी।

 

अति आत्म-विश्वास में नहीं आएँ प्रदेशवासी

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रदेशवासियों से हाथ जोड़कर प्रार्थना की कि वे अति आत्म-विश्वास में नहीं आएँ।  कोविड एप्रोपिएट बिहेवियर का पालन हम को करना पड़ेगा। मतलब कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए आवश्यक व्यवहार हमें अपनाना होगा। अत: मेरी अपील है फेस मास्क जरूर लगायें,मास्क से मुँह-नाक-चेहरा ढँके। मास्क बिना जीवन नहीं चल सकता। इसको अपनी दिनचर्या का अंग बनाना जरूरी है। मास्क न पहनना सामाजिक अपराध है। यदि कोई मास्क नहीं पहनेगा तो उस पर कार्यवाही भी होगी, क्योकि यह संक्रमण फैलने से रोकने के लिए जरूरी है। यह आपके लिए जरूरी है। मास्क नहीं तो सामान नहीं, मास्क नहीं तो बात नहीं, मास्क नहीं तो आना-जाना नहीं, अभियान हम सबको चलाना होगा। अपने हाथों को साबुन, सेनेटाइजर से लगातार साफ करते रहें। दो गज की दूरी जरूरी है। यह आप को बनाकर रखनी पड़ेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि यदि जरूरी न हो तो घर से बिलकुल नहीं निकलें। भीड़भाड़ वाली जगह पर नहीं जाएँ।

व्यापारी भाइयों से अपील

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने व्यापारी भाइयों से अपील करते हुए कहा कि दुकानदारों के लिए भी कुछ नियम बनाये जा रहे हैं, उनका पालन करें, दुकान के सामने गोले बनाएँ जिससे आने वाले ग्राहक दूरी बनाकर रख सकें, यह जरूरी है।

व्यायाम अवश्य करें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मैं एक सलाह और दूंगा  हो सके, तो सवेरे पैदल अवश्य घूमें, व्यायाम जरूर करें। इम्यूनिटी बढ़ाने का, अपने आप को निरोग रखने का योग एक तरीका है, योगाभ्यास शारीरिक के साथ-साथ मानसिक बल भी प्रदान करता है। कृपया कर प्राणायाम जरूर करें। कोरोना के जितने भी प्रोटोकाल हैं उनका कड़ाई से पालन करें।

लक्षण हों तो छुपाए नहीं

एक बात का ध्यान रखें, जरा भी लक्षण हों तो छुपाए नहीं, छुपाना ही घातक है। तुरंत टेस्ट कराएँ, आईसोलेट हो जाएँ ताकि आप संक्रमण फैलाने वाले न बनें और स्वयं भी बचें।

 

टीका अवश्य लगवाएँ, यह सुरक्षा चक्र है

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अपील की कि टीका अवश्य लगवाएं, यह सुरक्षा चक्र है। टीकाकरण के लिए विशेष अभियान चलाया जाएगा। इस अभियान में सहयोग दें। कुछ लोगों ने भ्रम का वातावरण बनाया है। यह लोग समाज के और आपके हितचिंतक नहीं हैं। इसलिए आप भी टीका लगवाएँ और गाँव, वार्ड, शहर में क्राइसिस कमेटी लोगों को टीकाकरण के लिए प्रेरित करें।

परीक्षा के संबंध में जल्दी ही चर्चा होगी

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मैं बच्चों के संबंध में अलग से बात करूंगा। उनकी परीक्षाएँ उनकी शिक्षा के लिए मंत्रियों का एक अलग से समूह बनाया है। उसकी क्या व्यवस्था होगी इसके बारे में मैं जल्दी ही चर्चा करूंगा।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अब तीसरी लहर की बात हो रही है। यह तीसरी लहर क्या है? यह हमारी लापरवाही और असावधानी ही है, जो तीसरी लहर को जल्दी जन्म दे देगी। लापरवाही का मतलब यही है कि हम कोविड एप्रोपिएट बिहेवियर का पालन नहीं कर रहे हैं। एक भी संक्रमित होगा तो वह दस को संक्रमित करेगा। दस, सौ को करेंगे, सौ हजार को करेंगे और संक्रमित यदि घूमते रहे तो फिर विस्फोट हो जाएगा। इसलिए तीसरी लहर से बचने में हमें भी बहुत महत्वपूर्ण योगदान देना है। हम सब आवश्यक तैयारी करेंगे। अस्पताल, ऑक्सीजन बेड, आईसीयू बेड, बच्चों के वार्ड, इस पर समानान्तर रूप से हम कार्य कर रहे हैं।

 

‘ कठिनाइयों को पार करके विजय तो हमने पाई है, सावधान रहना होगा अभी आगे लंबी लड़ाई है’

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मेरा विश्वास है कि आत्मानुशासन, आत्म-संयम रखेंगे तो काफी हद तक तीसरी लहर पर काबू पा लेंगे। आखिर कब तक संक्रमण फैलने के बाद हम गाँव और शहर को बंद करेंगे। अत: ऐसी जीवन शैली अपनाएँ कि कोरोना का वायरस भी रहे और वह संक्रमण फैलाने भी न पाए। क्योंकि अभी तो उसके साथ ही जीना है। वायरस तो अभी रहेगा। काम-धंधा भी चले और संक्रमण को भी नियंत्रित करते रहें। यह जवाबदारी अकेले मुख्यमंत्री की नहीं है। मैं कोई कसर नहीं छोडूँगा। ऐसे ही दिन-रात एक करता रहूँगा, लेकिन आपको साथ देना होगा। जैसा अभी साथ दिया है। मिलकर काम करेंगे। अभी भी हमने मिलकर लड़ाई लड़ी तो हम विजय की कगार पर हैं। कठिनाई को पार करके हम मिलकर लड़े, अच्छा काम किया, गाँव वालों, शहर वालों, आमजन और क्राइसिस मेनेंजमेंट कमेटियों ने। मैं अभिभूत हूँ। आप सबके कारण ही आज संक्रमण पर नियंत्रण पाया गया है। अभी भी साथ मिलकर लड़ना है। निश्चिंत नहीं हो जाना है। ‘कठिनाइयों को पार करके विजय तो हमने पाई है, सावधान रहना होगा, अभी आगे लंबी लड़ाई है’ असावधान मत रहना मेरे बहनों और भाइयों, सावधान रहकर हम काम करते रहें, तो दुनिया भी हम चलाते रहेंगे और संक्रमण को भी हम काबू में रखेंगे। आईये, अपने व्यवहार से हम जिन्दगी अनलॉक करें और कोरोना को लॉक करें।