एक युवक को षडयंत्र पूर्वक घर बुलाने के बाद उसकी मारपीट कर बलात्कार के केश में फसाने वाले ब्लैकमेलर दंपत्ति सहित तीन गिरफ्तार, सीएसपी ने किया मामले का खुलासा

भिण्ड. शहर कोतवाली के सैनिक कॉलोनी इलाके में नौ दिन पूर्व एक युवक को षडयंत्र पूर्वक घर बुलाने के बाद उसकी मारपीट कर बलात्कार का केस दर्ज कराने की धमकी देकर ७० हजार रुपए ले लिए जाने के मामले में पुलिस ने ब्लैकमेलर दंपत्ति सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। हालांकि इस वारदात के तीन आरोपी अभी भी फरार हैं।

थाना प्रभारी केदार सिंह यादव के अनुसार रविन्द्र उर्फ रवी गुर्जर पुत्र रघुवीर सिंह निवासी पिपांहड़ी गोहद चौराहा ने पुलिस को दिए आवेदन में बताया था कि सैनिक कॉलोनी भिण्ड में किराए के मकान में रह रही बबीता गुर्जर ने ०९ फरवरी को उसे कॉल कर अपने घर बुलाया। जैसे ही वह उसके कमरे में पहुंचा तभी पूर्व से ही किए गए षडयंत्र के तहत उसके पति विजय सिंह गुर्जर के अलावा उसके अन्य साथी सौरभ सिंह, बृजलाल, दीपक सिंह व एक अज्ञात व्यक्ति ने दरवाजा खटखटाया। बबीता ने दरवाजा खोला और उसके बाद वह लोग उससे कहने लगे कि वह उसकी पत्नी के कमरे में क्या कर रहा है। और मारपीट शुरू कर दी। बलात्कार का केस दर्ज कराने की धमकी देते हुए उसके कब्जे से ७० हजार रुपए ले लिए। घटना के उपरांत पुलिस ने फरियादी की शिकायत पर सभी आरोपियों के खिलाफ धारा ३८४, ३४७, १२०बी, ३४ के तहत केस दर्ज कर उनकी तलाश शुरू की थी। पुलिस ने शिकायत के २४ घंटे के अंदर ही ब्लैकमेलर दंपत्ति बबीता गुर्जर तथा उसके पति विजय सिंह गुर्जर के अलावा उसके एक साथी सौरभ सिंह को भी गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि बृजलाल, दीपक सिंह व एक अज्ञात फरार है। पकड़े गए आरोपियों से ५० हजार रुपए नगदी बरामद कर ली गई है जबकि २० हजार रुपए आरोपियों ने खर्च लिए हैं। इसके अलावा आरोपी दंपत्ति के कब्जे से एक एटीएम व एक क्रेडिट कार्ड बरामद किया गया है।

बॉक्स- योजनाबद्ध तरीके से हासिल किया गया था फरियादी का मोबाइल नंबर

Csp आनंद राय ने बताया महिला बबीता गुर्जर व उसके पति विजय सिंह ने योजनाबद्ध तरीके से फरियादी रविंद्र सिंह गुर्जर का मोबाइल नंबर हासिल किया था। दरअसल रविंद्र सिंह के विरोधियों ने आरोपी महिला व उसके पति को बताया था कि रविंद्र को फंसाकर उसका वीडियो बनाने के बाद उसे बलात्कार के आरोप में फंसाने की धमकी पर वह लाखों रुपए दे सकता है। ऐसे में बबीता व उसके पति विजय सिंह ने अपने साथ तीन अन्य साथियों को भी शामिल कर लिया। दरअसल रविंद्र सिंह पंचायत चुनाव की तैयारी कर रहा था। ऐसे में इसके विरोधी पक्ष के लोग उसकी छवि को धूमिल करना चाहते थे। लेकिन उनके मंसूबों पर पानी फिर गया। पकड़े गए तीनों ही आरोपियों से पूछताछ की जा रही है कि अभी तक उनके द्वारा इस तरह कितने लोगों को निशाना बनाकर ब्लैकमेल किया है। इसके लिए पुलिस ने उन्हें न्यायालय से पीआर पर रखने के लिए मांगा है।