आदिवासियों की अनूठी पहल-प्रशासन की बेरूखी पर खुद जुटे ग्रामीणों ने बनाई बाढ़ से टूटी पुलिया

श्योपुर.Desk/ @www.rubarunews.com–गत दिनों आई बाढ ने पूरे श्योपुर जिले में तबाही का मंजर पैदा कर दिया था जगह जगह पुल पुलिया सड़क दरक गये थे उसी दौर में ग्राम बंधाली के पास आवदा बांध के ओवर फ्लो से निर्मित जलस्रोत पर बनी पुलिया भी जगह जगह से टूट गई थी जिस कारण से बंदाली का निकटस्थ वन ग्रामों मठ नीमोदा,सारसल्ला,भोजका,कैलोर सायपुरा आदि ग्रामों से संबंध टूट गया था जिस कारण एक लंबा चक्कर लगा कर ही इन गांवों तक पहुंचा जा सकता था इस संबंध में ग्रामवासियों ने कई बार आवेदन के माध्यम से प्रशासन को पुलिया की मरम्मत हेतु निवेदन किया था पर प्रशासन की अनदेखी से परेशान होकर एकता परिषद की पहल पर ग्रामीणों ने श्रमदान के माध्यम से इस पुलिया की मरम्मत का बीड़ा उठाया तथा श्रमशक्ति से उसे पूरा कर दिखाया जो जिले के अन्य समस्या ग्रस्त ग्रामों के लिए एक मिशाल बना गया है ग्रामीणों के इस महती अवदान से न केवल सभी के लिए जंगल व निकटस्थ ग्रामों तक पहुंचने के लिए मार्ग सुगम हो गया है बल्कि अन्य ग्रामों के लिए भी यह कार्य प्रेरणा बन गया है कि किस तरह समस्या के निदान हेतु प्रशासन का मुंह न ताक कर यदि लोग खुद आगे आयें तो कोई काम असंभव नहीं है
यह जानकारी देते हुए गांधी सेवा आश्रम के प्रबंधक जयसिंह जादौन ने बताया कि गत दिवस बंधाली ग्राम के निवासियों ने आश्रम के कार्यकर्ता कल्याण मारू को अवगत कराया था कि उनके गांव की बाढ से टूटी पुलिया की मरम्मत प्रशासन को जानकारी देने के बाद भी नहीं हो पा रही है जिसके कारण निकटस्थ ग्रामों में जाने के लिए काफी चक्कर लगाकर जाना पड़ता है इस पर गांधी आश्रम ब एकता परिषद की पहल पर गूंज के सहयोग से ग्रामीणों को श्रम शक्ति का महत्व बताते हुए इस कार्य को स्वयं पूर्ण करने की प्रेरणा दी गई उन्हें बताया गया कि इस कार्य हेतु कुछ जीवनोपयोगी सामग्री उन्हें दी जा सकती है अंततः ग्रामीणों ने इस कार्य को पूरा करने का बीड़ा उठाया तथा श्रम शक्ति से इस कार्य को पूरा कर दिखाया ग्रामीणों को प्रोत्साहन प्रदान करने के लिए आज समाजसेवी कैलाश पाराशर के साथ कार्यस्थल पर पहुंचकर श्रमदान भी किया तथा उनकी हौसला अफजाई की निश्चित ही इसकी लौ अन्य ग्रामों तक पहुंची तो बहुत सी समस्याओं का निराकरण स्वयं ग्रामीण कर सकेंगे