एक शिक्षक कि क्षमता विकास और विनास दोनों कि होती है- डॉ मानसिंह यादव

बाँदा.अजय यादव/ @www.rubarunews.com-समाजवादी शिक्षक सभा द्वारा प्रदेश भर में आयोजित किये जा रहे कार्यक्रम ” बूथवार शिक्षकों की भूमिका- संवाद से समाधान की ओर “के छठे दिन डॉ मानसिंह यादव ने बाँदा जिले में शिक्षकों, शिक्षा मित्रों को सम्बोधित किया
अतर्रा बिसंडा रोड बूटू बाई विद्यालय में शिक्षक सभा द्वारा प्रदेश भर में आयोजित किये जाने वाले कार्यक्रम” बूथवार शिक्षकों की भूमिका -संवाद से समाधान की ओर “ के छठे दिन आज बाँदा जिले के अतर्रा मे  हजारों की संख्या में मौजूद शिक्षकों, शिक्षा मित्रों को सम्बोधित करते हुए बतौर मुख्य अतिथि शिक्षक सभा के प्रदेश अध्यक्ष एवं विधानपरिषद सदस्य डॉ मान सिंह यादव ने कहा कि शिक्षक यानी गुरु का स्थान भारत के विद्वानों ने भगवान से भी ऊँचा दिया है।  एक शिक्षक की क्षमता विकास और विनाश दोनों की होती है । अब निर्भर इस बात पर करता है कि वह क्या चुनता है। वर्तमान में गुरुओं की भूमिका निःसंदेह महत्वपूर्ण हो गई है जब समाज में चंद सांप्रदायिक और विघटन कारी ताकतों ने समाज की एकता, भाईचारा में जहर घोल कर मानवता और सद्भाव के सामने चुनौतीखड़ी है। निरंतर देश के ख़राब होते आर्थिक हालात और बढ़ती बेरोजगारी के बावजूद भाजपा सरकार द्वारा निजीकरकण, चंद पूंजीपतियों के हाथ सार्वजनिक संपत्तियों को ऑने पौने दाम पर बेंच दिए जाने की आत्मघाती रवैये के खिलाफ देश के बुद्धिजीवीयों को एकजुट हो आवाज़ उठानी होगी। उन्होंने पार्टी जनों से अपील किया कि नेतृत्व द्वारा जिसे भी उम्मीदवार बनाया जाय बिना किसी भेदभाव के उसे जितने का काम करेंगे।उन्होंने कहा कि समाजवाद एक रूहानी विचारधारा है जिसे आत्मशात करके ही समूची मानवता को बचाई जा सकती है।
डॉ मानसिंह यादव के नेतृत्व में प्रदेश भर में आयोजित होने वाले कार्यक्रम में शिक्षक सभा के उपाध्यक्ष डॉ सुरेश यादव ने चंदौली एवं प्रदेश महासचिव डॉ एस. पी. सिंह पटेल ने अमेठी जनपद में कार्यक्रम आयोजित किया।इस मौके पर प्रमुख रूप से विजय करन यादव, द्वारिका प्रसाद यादव, सत्यनारायण सोनकर, किरन वर्मा रोहित कुमार प्रजापति प्रधान रोहित कुमार यादव प्रधान मुन्ना यादव प्रधान आलोक कुमार यादव प्रधान अंजू कुमारी अमर सिंह राठौर, विवेक बिन्दु तिवारी एडवोकेट डॉ पुष्पेंद्र सिंह, मनीष तिवारी, रामधनी यादव, अम्ब्रीश सिंह,गौतम, डॉ मनोज अस्थाना,डॉ विनोद कुमार त्रिपाठी,डॉ शरद शर्मा, राम उदित यादव, अनुराग प्रजापति, महावीर कश्यप, शेर बहादुर सिंह, राम भूअल प्रजापति, सर्वजीत, नरेन्द्रसिंह,नाथ यादव, वंदना  सिंह, मयंक यादव, डॉ कृष्ण मोहन, अशर्फी लाल रामौतार सिंह यादव रामनरेश यादव कामता प्रसाद यादव वरिष्ठ प्रधान अनीश यादव रामसिंह यादव आदि ने सम्बोधित किया।