तारीख पर तारीख फिर भी नही मिला कंठ गीला करने को पानी

गोहद.ShashikantGoyal/ @www.rubarunews.com>> गोहद नगर की जनता को पेयजल का एकमात्र स्रोत वेसली जलाशय लगभग एक माह से खाली पडा हुआ है जिससे नगर की पेयजल सप्लाई ठप्प पडी हुई है नगर में पेयजल को लेकर त्राहि-त्राहि मची हुई है इसके बाद बेसली जलाशय को नहर से पानी प्रदाय कर भरने के लिए तारीख पर तारीख दी जा रही है लेकिन एक माह व्यतीत होने के बाद बेसली जलाशय में एक फुट भी पानी नही पहुचा है।  एक तरफ जहाँ नगर में पानी को लेकर हाहाकार मचा हुआ है वही ग्रामीण क्षेत्रो में भी किसान नहर से पानी छोडने की मांग कर रहे है हालात बद से बदतर हो गए है कि हैण्ड पम्प पर पानी के लिए लम्बी लाइन लगी हई है मोहल्लों में पानी के लिये झगडा हो रहा है  और गोहद के जनप्रतिनिधि बेसली डेम पर जाकर फोटो खिंचवाकर अखवारों की सुर्खियों बन रहेहै जनता चुनाव में बोट देकर अपना प्रतिनिधि तो चुन सकती लेकिन सरकार तो नही बना सकती  लगभग 20000 परिवार पानी खरीदने को है मजबूर नगर में 100 से अधिक प्राइवेट टैंकर करते हैं सप्लाई  50 ड्रम  600 रूपए टैंकर के हिसाब से खरीद रहे हैं पानी एक दिन पूर्व से सूखा पड़ा है डैम लगभग  एक लाख की आबादी पेयजल  संकट से जूझ रही है प्रशासन नहीं ले रहा सुध  ज्ञात हो कि गोहद नगर में 18 वार्ड मैं लगभग दो लाख की आबादी निवास करती है इसमें गोहद चौराहा छोड़कर गोहद नगर नगर के तीन बार्ड 2-3-5 को छोड़कर सभी वार्डों में नगर पालिका द्वारा पेयजल सप्लाई किया जाता है ऐसी स्थिति में  जलाशय का पानी सूख जाने के कारण गोहद नगर की जनता एक एक बूंद पानी के लिए तरस रही है रात्रि में निकलते हैं पानी की तलाश में रतजगा करते हैं  फिर भी पानी नही मिलता

इनका कहना है:-

मेरे द्वारा सिंचाई मंत्री सिंचाई विभाग पीएस ब  विधानसभा में ध्यानाकर्षण भी लगाया गया तदुपरांत भी नगर की पेयजल आपूर्ति बहाल नहीं हो पा रही है यह भाजपा सरकार की मिलीभगत हैं। कांग्रेस पार्टी को आने वाले नगर पालिका चुनाव में बदनाम करने की पूर्व नियोजित साजिश के तहत पेयजल उपलब्ध नहीं कराया जा रहा है मैंने पहले भी नगर पालिका एवं सिचाई विभाग  के अधिकारियों से बेसली डेम की मोरी  को बंद करने के लिए पत्राचार किया उसके बाद भी अधिकारियों ने जान-बूझकर डेम को खाली कर दिया।

मेवारम जाटव विधायक गोहद

पीलुआ डेम से पर्याप्त पानी नहीं मिलने की बजह से डेम तक पानी नहीं पहुंच रहा हैं। बहुत जल्द डेम मे पानी लाया जा सके इस लिए करयोजना बनाई जा रही हैं।

सीमा त्रिपाठी कार्यपालन यंत्री जल संसाधन विभाग गोहद