शहर में साम्प्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने का षड़यंत्र कर रही राज्य सरकार

कोटा.KrishnakantRathore/ @www.rubarunews.com- भारतीय जनता युवा मोर्चा कोटा शहर ने राज्य सरकार द्वारा हिंदु नववर्ष पर प्रस्तावित राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यक्रम से पहले धारा 144 लगाने को कोटा शहर में साम्प्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने के षड़यंत्र का हिस्सा बताया है। मंगलवार को युवा मोर्चा ने जिला कलक्टर को सौंपे ज्ञापन में आरोप लगाया कि प्रशासन ने धारा 144 लागू करने के पीछे “द कश्मीर फाईल्स” फिल्म के प्रदर्शन को लेकर साम्प्रदायिक सौहार्द एवं शांति व्यवस्था को बिगड़ने की आशंका की दलील दी थी लेकिन देर शाम जिला प्रशासन द्वारा फिल्म और त्यौहारों पर धारा 144 को लागू नहीं होने के स्पष्टीकरण ये यह बात साबित होती है कि सरकार की मंशा शहर के सामाजिक ताने बाने को बिगाड़ने की थी। जिलाध्यक्ष सुदर्शन गौतम ने कहा कि सम्पूर्ण कोटा शहर में स्मार्ट सिटी घोषणा के तहत केन्द्र सरकार से प्राप्त राशि का अव्यवहारिक एवं बिना योजनाबद्ध तरीके से सड़के, चौराहों, अण्डरपास, फ्लाईओवर आदि का निर्माण किया जा रहा है। युवा मोर्चा मांग करता है कि ये पैसा शहर से गुजर रही वितरिकाओं का ढकान करने में लगाकर आमजन को सुरक्षित किया जाये।

विकास में धर्म विशेष को दे रहे प्राथमिकता

गौतम ने कहा कि एक ओर राज्य सरकार के इशारे पर हिंदु देवी-देवताओं के मंदिरों को निशाना बनाया जा रहा है तो दूसरी ओर विकास में धर्म विशेष को प्राथमिकता दी जा रही है। सालासर में राम दरबार बने प्रवेश द्वार को गिराने की घटना से सरकार की मंशा जाहिर है। कोटा में सूरजपोल दरवाजे पर सरकारी धन से अवैद्यानिक मज़ार के नवीनीकरण एवं विस्तार का कार्य, घोड़े वाले बाबा चौराहे पर मज़ार के विस्तार, नयापुरा पुलिया के नीचे बनाई गई मज़ार सहित अनेक ऐसे उदाहरण है जिनसे सामप्रदायिक सौहार्द बिगड़ सकता है पर उन्हें प्रशासन स्वयं अपनी निगरानी में पूर्ण करवा रहा है, यह समझ से परे है कि सामप्रदायिकता कैसे बनेगी या बिगड़ेगी। इस दौरान भाजयुमो जिला उपाध्यक्ष ईशु दुबे, जिला मंत्री लक्की जैन, सुमित दुबे, मनीष जैन, शैलेंद्र राणावत, रोहित पारेता, नंदन सेन आदि मौजूद रहे।