राहत कार्यो में तेजी लायें-कमिश्नर श्री सक्सेना

श्योपुर.Desk/ @www.rubarunews.com- चंबल संभाग के कमिश्नर  आशीष सक्सेना ने चंबल-ग्वालियर संभाग के कलेक्टरों को निर्देश दिये है कि बाढ से प्रभावितों को दी जाने वाली राहत के कार्यो में तेजी लावे। फसल सर्वे के कार्य अतिशीघ्र पूर्ण करें। उन्होने कहा कि बाढ प्रभावित क्षेत्रों में गति से आंकलन के लिए केन्द्रीय दल संभवतः 16 अगस्त को मुरैना-श्योपुर जिले का भ्रमण करेगें। जिलो के कलेक्टर केन्द्रीय दलों का भ्रमण कराने के स्थानों का चिन्हांकन कर ले। केन्द्रीय दल को ज्यादा क्षतिग्रस्त वाले गांवों का भ्रमण कराना है।

चंबल कमिश्नर  आशीष सक्सेना शुक्रवार को वर्चुअल मीटिंग लेकर कलेक्टरों को निर्देश दे रहे थे। उन्होने मीटिंग के दौरान कई ग्रामीणों से भी चर्चा की। समीक्षा के दौरान कलेक्टर मुरैना ने केन्द्रीय सर्वेक्षण दल को सबलगढ के कुढेरापुरा, जयन्त, जौरा, वेदपुरा का भ्रमण कराने को कहा। गूगल मीट में आयुक्त श्री सक्सेना को श्योपुर कलेक्टर  शिवम वर्मा ने बताया कि केन्द्रीय टीम को जिले के ग्राम श्यामपुर, गोरस, प्रेमसर, ननावद, पाण्डोला, आवदा डैम को दिखाने के लिए तैयारियां कर ली गई है। उन्होने कमिश्नर को बताया कि यह सभी गांव बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित हुए है। कलेक्टर श्री वर्मा ने बताया कि राहत कार्य तेजी से चल रहे है। 21 गांवों को छोडकर जिले के सभी गांव में बिजली बहाल कर दी गई है। लगभग 05 हजार प्रभावितों को ढाई करोड की राहत राशि को उनके खातों में पहुंचाई जा चुकी है। आज तक राहत राशि का आंकडा 05 करोड पहुंच जायेगा।
इसी प्रकार भिण्ड कलेक्टर श्री सतीश कुमार एस ने बताया कि बाढ में आंशिक नुकसान ज्यादा है। वास्तविक गति का आकंलन किया जा रहा है। उन्होने कहा कि जहां लोग दूसरी जगह शिफ्ट होना चाहते है। उनके लिए जगह चिन्हित की जा रही है। ऐसे लोगों को प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ दिया जायेगा। कलेक्टर ने कहा कि बाढ का सर्वे कार्य चल रहा है। तात्कालीक राहत राशि का वितरण भी जारी है।

कमिश्नर  आशीष सक्सेना ने कलेक्टरों सहित सभी राजस्व अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे राजस्व परिपत्र अधिनियम 6(4) के नियमों के तहत ही रातह राशि का वितरण करें। नियमों को अच्छी तरह से पढ़ ले, समझ ले। उन्होने बाढ़ प्रभावित कार्यो में लगे अधिकारी/कर्मचारियों की भूरी-भूरी प्रशंसा करते हुए कहा कि वास्तव में आम जनता के सहयोग से अधिकारी/कर्मचारियों ने बहुत मेहनत की है। वे सभी बधाई के पात्र है। में उनके कार्यो की सराहना करता हूॅ।

कमिश्नर ने कहा कि राहत राशि का वितरण पूरी पारदर्शिता के साथ किया जावे। फसल सर्वे का सबसे पहली प्राथमिकता दी जावे। अन्य क्षतिग्रस्त ग्रामों का भी सर्वे प्राथमिकता के साथ जितनी जल्दी हो सके। लोगों में किसी भी तरह का आक्रोश नही बढ़ना चाहिए। जिन जिलों में खाद्यान वितरण नही हुआ है। वहां शीघ्र कैम्प लगाकर राहत राशि, खाद्यान वितरण का वितरण सुनिश्चित करें। जो गांव सर्वे से छूट गए है। उनका सर्वे भी शीघ्र करे। कमिश्नर ने कलेक्टरों से कहा कि जिन तहसीलदारों, नायब तहसीलदारों के स्थानांतरण आपके जिलो में हुए है, उन्हे तत्काल जोइंन कराये। जोइन नही करने की स्थिति में मुझे बताये। राहत कार्यो में किसी भी तरह का विलम्ब नही होना चाहिए। जिन पशुओं का पोस्ट मार्डम हो चुका है, उन्हे तत्काल राहत राशि दी जावे।