घर का कचरा टिपर में ही डालें, प्लास्टिक थैलियों का उपयोग कम से कम करें – सुनील गौतम

कोटा.KrishnakantRathore/ @www.rubarunews.com- अपने घर से जब भी बाजार में निकलें, चाहें सब्जी आनी हो या अन्य घरेलू सामान। साथ मंे थैला लेकर जरूर चलें। ताकि हमें प्लास्टिक की थैलियों का उपयोग नहीं करना पड़े। जहां तक हो सके, प्लास्टिक की थैलियों का उपयोग कम से कम करें। जिससे कि अनावश्यक कचरा इकट्ठा ही नहीं हो।

यह विचार कोटा दक्षिण के वार्ड 68 के पार्षद सुनील गौतम ने अपने वार्ड के नागरिकों को जागरूक करने उद्देश्य से घर-घर जाकर जागरूकता अभियान के दौरान व्यक्त किये। इस दौरान उन्होंने लोगों से टिपर में ही कचरा डालने की अपील करते हुए हर घर से कचरा टिपर में भी डलवाया, ताकि लोगों की आदत बन सके। उन्होंने कहा कि हम भी मिलकर प्रयास करेंगे, तभी जाकर हमारा वार्ड स्वच्छ बन सकेगा। पार्षद सुनील गौतम ने लोगों से प्लास्टिक की थैलियों का कम से कम उपयोग करने की अपील करते हुए कहा कि आज जहां देखो वहां कचरे के नाम पर प्लास्टिक की थैलियों के ढेर नजर आते हैं, नगर निगम अपने स्तर पर इन्हें उठवाता भी है, जहां ये कचरा डम्प होता है वहां प्लास्टिक के पहाड़ बन चुके हैं। प्लास्टिक आज हमारे मानव जीवन के लिए घातक बन चुका है, आज जितनी भी तरह की जानलेवा बीमारियां हमें हो रही है, उसमें कहीं ना कहीं प्लास्टिक का ही प्रभाव है। इसलिए हमें अपने व अपने बच्चों व आने वाली पीढ़ियों के लिए हमें इस आदत को बदलना होगा और घर से थैला लेकर ही निकलने की आदत बनानी होगी। आमजन ने भी पार्षद सुनील गौतम की इस जागरूकता अभियान व पहल की सराहना करते हुए वार्ड को स्वच्छ बनाने में अपना योगदान देने का भरोसा दिलाया।
इस दौरान वार्ड के स्वास्थ्य निरीक्षक सुरेन्द्र सिंह पंवार, स्थानीय निवासी शिवशंकर शर्मा, लक्षेंद्र सल्वेन, राकेश सिंह पंवार, लकी बंसल समेत अन्य स्थानीय निवासी मौजूद रहे।

स्वच्छता के प्रति जागरूक करने के लिए घर-घर घूमे पार्षद सुनील गौतम
– आमजन से की टिपर में ही कचरा डालने की अपील
कोटा, कूड़ा-करकट और गंदगी ही सबसे अधिक बीमारियों का कारण है, जहां स्वच्छता होती है वहां रहने वाले लोग शरीर और मन से स्वस्थ होकर स्वस्थ जीवन जीते हैं। कुछ इसी तरह के विचार कोटा दक्षिण के वार्ड 68 के पार्षद सुनील गौतम ने अपने वार्ड की जनता से टिपर में ही कचरा डालने की अपील करते हुए व्यक्त किये।
पार्षद सुनील गौतम ने मंगलवार को अपने वार्ड में घूम-घूमकर स्थानीय नागरिकों को स्वच्छता को अपनाने व स्वच्छ वातावरण के फायदे गिनाते हुए गली में टिपर के आने पर उसमें ही कचरा डालने की अपील की। उन्होंने कहा कि जहां तक हो सके, हमें गीला व सूखा कचरा अलग-अलग डस्टबिन में डालने की आदत बनानी चाहिए, जिससे कि कचरा