मंत्री समूह की अनुशंसाएँ प्रदेश के विकास, जन-कल्याण और गुड-गवर्नेंस का मार्ग प्रशस्त करेंगी: मुख्यमंत्री श्री चौहान

भोपाल.Desk/ @www.rubarunews.com>> मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में मंत्रि-परिषद की बैठक वंदे-मातरम के गान के साथ आरंभ हुई। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मंत्रि-परिषद की बैठक के पूर्व अपने संबोधन में कहा कि कोरोना संक्रमण के परिणामस्वरूप निर्मित परिस्थितियों में विभिन्न व्यवस्थाओं के सम्बंध में अनुशंसाओं के लिए नौ मंत्री समूह गठित किए गए हैं। मंत्री समूह द्वारा गंभीर चिंतन उपरांत अनुशंसा की जा रही हैं।

 

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना संक्रमण ने शिक्षा व्यवस्था को बहुत प्रभावित किया है। इन स्थितियों में शालेय शिक्षा, महाविद्यालयीन व्यवस्था, तकनीकी शिक्षा, मेडिकल और आयुष आदि क्षेत्र की शिक्षा और प्रशिक्षण पर मंत्री समूह द्वारा विस्तृत ऑकलन और सर्व-संबंधित के अभिमत उपरांत अनुशंसाओं की गयी हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इन अनुशंसाओं की प्रशंसा की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि गहन चिंतन उपरांत प्रस्तुत इन अनुशंसाओं से वर्तमान परिस्थितियों में व्यावहारिक समाधान निकलेगा।

 

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मेडिकल ऑक्सीजन उत्पादन में आत्म-निर्भरता और शासकीय एवं निजी क्षेत्र के अस्पतालों के सुनियोजित प्रबंधन और आवश्यक सुविधाओं तथा संसाधनों की उपलब्धता पर मंत्री समूहों द्वारा 2 जुलाई को प्रस्तुतिकरण दिया जाएगा। निश्चित ही ये अनुशंसाएँ गुड-गवर्नेंस, जन-कल्याण और विकास का मार्ग प्रशस्त करेंगी।