वैक्सीनेशन में म.प्र. देश में चौथे स्थान पर

भोपाल.Desk/ @www.rubarunews.com>>मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना के प्रति हमें इतना चौकन्ना रहना है कि प्रदेश में यदि तीसरी लहर की आहट भी हो तो हमें सुनाई देनी चाहिए। इसके लिए अधिक से अधिक संख्या में कोरोना टेस्ट किए जाना तथा कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग अनिवार्य हैं, जिससे हर मरीज की तुरंत पहचान कर उसे आइसोलेट कर उसका उपचार किया जा सके। इस कार्य में थोड़ी भी ढिलाई नहीं होनी चाहिए।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना संक्रमण में मध्यप्रदेश देश के समस्त राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों में 32वें स्थान पर है। संक्रमण न्यूनतम स्तर पर है, परंतु हमें बिल्कुल भी असावधानी नहीं करना है। कोविड अनुकूल व्यवहार करना है तथा कोरोना प्रोटोकॉल का पूरा पालन करना है।

 

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वैक्सीनेशन महाअभियान के अंतर्गत मध्यप्रदेश में तेज गति से वैक्सीनेशन चल रहा है। वैक्सीनेशन के मामले में मध्यप्रदेश का देश में चौथा स्थान है। प्रदेश में 18+ के 33% व्यक्तियों का टीकाकरण किया जा चुका है, जबकि गुजरात और राजस्थान में 40% तथा कर्नाटक में 38% पात्र जनसंख्या का टीकाकरण किया जा चुका है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मंत्रालय से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं वैक्सीनेशन कार्य की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस और स्वास्थ्य आयुक्त श्री आकाश त्रिपाठी आदि उपस्थित थे।

 

म.प्र. में 2 करोड़ से अधिक डोजेज़ लगाए गए

मध्यप्रदेश में 18+ से अधिक के व्यक्तियों को 2 करोड़ से अधिक वैक्सीन डोजेज़ लगाए गए हैं। इनमें से एक करोड़ 80 लाख व्यक्तियों को पहला तथा 20 लाख से अधिक व्यक्तियों को दूसरा डोज़ लगाया गया है।

कोरोना के 38 नए प्रकरण

प्रदेश में कोरोना के 38नए प्रकरण आए हैं। प्रदेश की साप्ताहिक तथा आज की पॉजिटिविटी रेट 0.1% है। कोरोना रिकवरी रेट बढ़कर 98.8% हो गई है। एक्टिव प्रकरणों की संख्या 630 रह गई है।

 

टेस्ट कम नहीं होने चाहिए

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि प्रदेश के किसी भी जिले में कोरोना टेस्ट कम नहीं होने चाहिए। अलीराजपुर, विदिशा, ग्वालियर, देवास, सीहोर, रायसेन, धार, टीकमगढ़, राजगढ़ एवं बड़वानी जिलों को टेस्ट बढ़ाने के निर्देश दिए गए।

ब्लेक फंगस के मरीजों के इलाज पर विशेष ध्यान दें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में अभी भी ब्लेक फंगस के 712 मरीज उपचाररत हैं। इनके उपचार पर विशेष ध्यान दिया जाए। उपचार के लिए ‘एम्फोटेरिसिन-बी’ इंजेक्शन और अन्य दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करें।

 

वैक्सीनेशन महाअभियान में रिकार्ड वैक्सीनेशन

प्रदेश में चलाए जा रहे वैक्सीनेशन महाअभियान के अंतर्गत 21 जून को प्रदेश में 17 लाख 42 हजार, 23 जून को 11 लाख 6 हजार तथा 26 जून को 10 लाख 10 हजार व्यक्तियों का वैक्सीनेशन किया गया। प्रदेश में 24 जून को 7 लाख 06 हजार तथा 28 जून को 4 लाख 65 हजार व्यक्तियों का टीकाकरण किया गया।

37 जिलों में शून्य प्रकरण और 6 जिले पूर्ण रूप से कोरोना मुक्त

प्रदेश के 52 जिलों में से 37 जिलों में कोरोना का कोई नया प्रकरण नहीं आया है। वहीं 6 जिले ऐसे हैं जो पूर्ण रूप से कोरोना मुक्त हैं। यहाँ न तो कोई नया प्रकरण आया है और न ही कोई एक्टिव प्रकरण है। ये जिले अशोकनगर, बुरहानपुर, देवास, खंडवा, मंडला तथा सीधी हैं।

 

अब 15 जिलों में ही कोरोना के नए प्रकरण

अब प्रदेश के 15 जिलों भोपाल, इंदौर, बैतूल, जबलपुर, राजगढ़, रतलाम, रायसेन, निवाड़ी, बड़वानी, दमोह, गुना, ग्वालियर, हरदा, नरसिंहपुर तथा नीमच जिलों में ही कोरोना के नए प्रकरण आए हैं। भोपाल में 7 तथा इंदौर में 6 नए प्रकरण आए हैं। शेष जिलों में 5 से कम कोरोना के नए प्रकरण आए हैं।