धूम्रपान मुक्ति के लिए वातावरण निर्माण हमारा सामूहिक दायित्व है : शिवांश गौतम

बूंदी.KrishnakantRathore/ @www.rubarunews.com- तंबाकू व इससे बने उत्पादों के प्रयोग की लत आज समाज में बुरी तरह से व्याप्त होकर एक ज्वलंत समस्या बन चुकी है। धूम्रपान मुक्ति के लिए व्यापक जन चेतना के साथ वातावरण निर्माण हमारा सामूहिक दायित्व है। समय रहते यदि ऐसा नहीं किया गया तो मानव स्वास्थ्य पर मंडराता संकट ओर भी भयावह हो जाएगा। यह बात जनचेतनाकारी फिल्मों से जुड़े कलाकार इंजीनियर शिवांश गौतम ने उमंग संस्थान द्वारा आयोजित धूम्रपान निषेध दिवस की राष्ट्रीय ई कार्यशाला में मुख्य अतिथि पद से बोलते हुए कही।अंतर्राष्ट्रीय धुम्रपान निषेध दिवस के अवसर पर उमंग संस्थान द्वारा देशभर के संभागियों के साथ इस कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसमें कोटा से इंजीनियर गौतम मुख्य अतिथि थे, विशिष्ट अतिथि जयपुर की सामाजिक कार्यकर्ता व चिकित्सा से जुड़ी डॉ मोनिका मेंहरु रहीं। जन जागृति मूवी व बच्चों की सांस्कृतिक प्रस्तुतियों के साथ कार्यशाला में चौदह राज्यों के प्रतिभागियों ने धूम्रपान निषेध के प्रति जनजागृति का संकल्प लिया।

 

मुख्य अतिथि के रुप में बोलते हुए गौतम ने इस अवसर पर कहा कि व्यक्ति धूम्रपान जैसी लत के कारण तन मन और धन से कमजोर होने लगता है और ऐसे में उसका व्यक्तित्व व अस्तित्व दोनों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। व्यसन मुक्ति के लिए जन-जन में एक चिंतन का सूत्रपात होना बहुत आवश्यक है । डॉक्टर मेंहरू ने विशिष्ट अतिथि के रूप में बोलते हुए तंबाकू प्रयोग के शारीरिक मानसिक व सामाजिक दुष्प्रभावो को प्रकट किया तथा कविता के माध्यम से व्यसन मुक्त राष्ट्र निर्माण का संदेश दिया। कार्यशाला का आरंभ बाल कलाकारों दृष्टि शर्मा व कार्तिक चतुर्वेदी की “मत पियो सा छैल तंबाकू ” लोक नृत्य की प्रस्तुति के साथ हुआ। सचिव कृष्णकांत राठौर ने स्वागत भाषण के साथ अतिथियों का अभिनंदन किया व तम्बाकू उत्पादों के विरुद्ध शुरुआत स्वयं के आसपास से करने की बात कही।

हरियाणा से सामाजिक कार्यकर्ता सुशीला देवी, अध्यापिका मंजू लता चित्तौड़ा, बिलासपुर छत्तीसगढ़ से अनुपम डे, नई दिल्ली से रजनी शर्मा, पन्ना मध्य प्रदेश से सतानंद पाठक, सीकर से शबनम भारतीय, गुजरात से शैलेश प्रजापति , पंजाब की उपासना शर्मा व ज्ञानार्थ संयोजिका शोभा कंवर ने कार्यशाला में विशिष्ट वक्ता के रूप में शोध- प्रतिवेदन, कविताओं व अनुभूतियों की प्रस्तुतियों द्वारा तम्बाकू उत्पादों से राष्ट्रीय स्तर पर युवा पीढ़ी के पतन पर चिंता प्रकट की। कार्यक्रम संयोजक समन्वयक सर्वेश तिवारी ने कार्यशाला में सभी प्रतिभागियों को व्यसन मुक्त समाज निर्माण व जनजागृति का संकल्प दिलाया। इस अवसर पर जनचेतना मूवी “भूरा” का प्रदर्शन किया गया। कार्यशाला का संचालन समन्वयक सर्वेश तिवारी ने किया। महिला सशक्तिकरण से जुड़ी कार्यकर्ता अर्पिता शर्मा ने आभार प्रकट किया।