ड्राइबिंग लाइसेंस को लेकर एजेंट से विवाद, बदमाशों ने दुकान घुसकर की मारपीट

-जिला परिवहन कार्यालय के पास मनोज ऑटो पाट्र्स की दुकान में बैठे आरटीओ एजेंट के साथ मारपीट
भिण्ड। ग्वालियर रोड पर स्थित जिला परिवहन कार्यालय के सामने दो लोगों ने एक दुकान में घुसकर युवक के साथ मारपीट कर दी। झगडा ड्राइविंग लाइसेंस को लेकर बढा था। सुबह आरोपियों ने धमकी दी थी और शाम को मारपीट कर दी। फरियादी ने आरोप लगाया कि बदमाशों ने पिस्टल से फायर किए, जिससे वह बाल-बाल बच गया। पुलिस ने मौके से पिस्टल बरामद कर घायल को उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया है। पुलिस के अनुसार 35 वर्षीय मनोज पुत्र राधेश्याम टांक निवासी गणेश कॉलोनी वार्ड 8 की बस स्टैंड के पास ऑटो पाट्र्स की दुकान है। पेशे से यह आरटीओ में एजेंट के तौर पर लोगों के ड्राइविंग लाइसेंस भी बनवाते हैं। एक साल पूर्व मनोज ने पिपरौली निवासी लवकुश सिंह और सतेंद्र सिंह का लाइसेंस बनवाने के लिए आवेदन लिया था। दोनों युवकों ने मनोज को एक-एक हजार रुपए दिए थे। पहला फोटो खिचने के बाद लर्निंग लाइसेंस आ गया था, लेकिन मनोज का कहना है कि लवकुश और सतेंद्र मेन लाइसेंस बनवाने के लिए नहीं आए। इसके लिए उन्हें फोन लगाकर सूचना भी दी थी, मगर वह फोटो तक खिचवाने नहीं आए।
बुधवार को सुबह साढ़े ग्यारह बजे दोनों लोग आए तब मनोज आरटीओ में थे। दोनों लोगों ने मनोज में घुसकर पीटा से रुपए मांगे तो उसने कहा कि रुपाए फीस में चले गए। इस पर दोनों पक्षों में विवाद हुआ शाम 6 बजे जब मनोज अपनी दुकान पर बैठा था, तभी लवकुश और सतेंद्र पिस्टल लेकर आए। उन्होंने मनोज को चाटे मारे। लांकि किसी ने गोली चलने की आवाज नहीं सुनीं, लेकिन मनोज ने पुलिस के सामने यह बयान दिया है कि उक्त लोगों ने पिस्टल से फायर किए, इसी दौरान झूमाझटकी में पिस्टल दुकान के अंदर गिर पडी। पिस्टल किसकी, यह जांच का विषय मामले को लेकर जिन दोनों लोगों पर आरोप लगाए जा रहे हैं, उनका कहना है कि पिस्टल उनकी नहीं है। वह पिस्टल मनोज की है जो जांच में दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा। फिलहाल पुलिस ने पिस्टल जब्त कर मनोज की शिकायत पर दोनों लोगों की तलाश शुरू कर दी है।