सीवर लाइन कार्य में ठेकेदार सड़कें खोदने में आगे, कार्य में गुणवत्ता के नाम पर लीपापोती

भिण्ड.ShashikantGoyal/ @www.rubarunews.com>> शहर में वर्षों से चल रहे सीवर कार्य में कार्य कर रहे ठेकेदार सड़कें खोदने में आगे हैं। इनके द्वारा शहर के अधिकांश वार्डों की सड़कें खुदी पड़ी हैं जिससे लोगों को निकलने में परेशानी हो रही है वहीं इनके कार्य में गुणवत्ता की बात करें तो कार्य में गुणवत्ता के नाम पर लीपापोती चल रही है। जिन वार्डों में सीवर लाइन डाली जा चुकी है उनमें छोटे आकार के पाईपों को डाला गया है जिनसे 20 घरों का भी पानी भी एक साथ नहीं निकल पाएगा। जो कभी भी चौक हो सकते हैं। बतादें कि सीवर लाइन निर्माण में जो पाईप डाले जा रहे हैं वो आम सीवर लाइन पाईपों के आकार में दस गुना छोटे और घटिया किस्म के हैं। कुछ जगह ये पाईप लाइन डालने के बाद परीक्षण किया गया तो चैम्बरों के जोड़ पर पानी ओवरफ्लो हुआ और परीक्षण सफल नहीं सका। कुछ मौहल्लेवासियों द्वारा शिकायत प्राप्त हुई कि पाईपलाईन डलने के बाद सीवर प्रोजेक्ट देख रहे ठेकेदार व इंजीनियर सड़कों को देखने नहीं आते जिससे पाईप लाईन पर पड़ी मिट्टी पर घरों का पानी भर जाता है और सड़कें धंसक जाती हैं। जिससे बड़े बड़े गड्ढे बन जाते हैं जो रास्ता अवरूद्ध करते हैं। और आये दिन वाहन फंसते रहते हैं।

घटिया सीवर निर्माण के चलते वार्ड क्रं.10 में कबीर नगर मौहल्लेवासियों ने रूकवाया कार्य

शहर के वार्ड 10 कबीर नगर में सीवर निर्माण का कार्य चल रहा था। जब उसमें घटिया किस्म का मटेरियल डाला गया तो मौहल्लेवासियों ने विरोध करना शुरू कर दिया और कार्य रूकवा दिया। जब इसकी जानकारी सीवर कार्य देख रहे इंजीनियर को लगी तो उन्होंने मौके पर पहुंचकर कार्य को चालू कराने का प्रयास किया परन्तु वार्डवासियों ने गुणवत्ताहीन मटेरियल डालने से मना कर दिया और उन्हें काम बंद करना ही पड़ा। इतना ही नहीं मौहल्लेवासियों ने बताया कि सीवर ठेकेदार द्वारा एक साथ पूरा नाला खोदकर डाल दिया जिससे लोगों के शौचालय बंद हो गये और घरों से निकलने वाला गंदा पानी सड़क पर फैलने लगा। स्थानीय निवासियों ने मांग की है कि गुणवत्ता पूर्वक काम किया जाए अन्यथा नाले का काम इसी तरह बंद पड़ा रहेगा।