पूर्व मंत्री डॉ. गोविन्द सिंह से मिलने पहुंचे कंप्यूटर बाबा-बंद कमरे में चली वार्ता

भिण्ड.ShahikantGoyal/ @www.rubarunews.com>> कांग्रेस सरकार के पूर्व मंत्री एवं लहार विधायक डॉ गोविंद सिंह से मुलाकात करने के लिए कंप्यूटर बाबा रविवार को उनके गृह निवास पर पहुंचे। यहां पूर्व मंत्री व कंप्यूटर बाबा की करीब एक घंटे बंद कमरे में बातचीत हुई। यह बातचीत सरकार की नीतियों से लेकर पर्यावरण और नदियों के अवैध उत्खनन पर होना बताई जा रही है। इसके बाद कंप्यूटर बाबा ने प्रेस रिपोर्टरों से मुलाकात की और कहा कि प्रदेश सरकार की करनी और कथनी में अंतर है। प्रदेश की बीजेपी सरकार नदियों के संरक्षण को लेकर काम नहीं कर रही है। नर्मदा से लेकर भिंड-दतिया जिले की सिंध नदी में अवैध उत्खनन रोका जाए।

एक प्रश्न के जवाब में कंप्यूटर बाबा ने कहा कि जब बीजेपी ने नर्मदा आंदोलन के दौरान राज्यमंत्री का दर्जा दिया था। परंतु बीजेपी सरकार ने नर्मदा में हो रहे अवैध उत्खनन को रोकने में साथ नहीं दिया। इस तरह बीजेपी कहती कुछ ओर है। करती कुछ ओर। यद्पि प्रदेश में नदियों के बचाव और पर्यावरण बचाव को लेकर बीजेपी साथ दे तो मैं उसके साथ हूं। उन्होंने इसी समय यह भी कहा कि-मुझे, सरकार में रहने या न रहने का शौक नहीं, नदियों बचे, पर्यावरण बचे, इसी के लिए काम कर रहा हूं।

पत्रकारों से चर्चा करते हुए कंप्यूटर बाबा ने कहा कि आज पूर्व मंत्री डॉ गोविंद सिंह से मुलाकात कर पर्यावरण और नदियों के बचाव को लेकर चर्चा की है। कांग्रेस के पूर्व मंत्री सिंह ने नदियों के बचाव को लेकर न्यायालय में पिटीशन दायर की है। हमारा प्रयास है कि नदियों का अवैध उत्खनन रुके। रेत का अवैध उत्खनन चाहे नर्मदा में हो या भिंड की सिंध में। मैं हर जगह संघर्ष के लिए तैयार हूं।

उत्खनन नहीं रूका तो सूख जाएगी सिंध नदी

प्रेसवार्ता के दौरान डॉ गोविंद सिंह ने अवैध उत्खनन पर निशाना साधा और कहा कि भिंड और दतिया जिले की सिंध नदी जीवन दायनी है। इस नदी की रेत बहुत अच्छी है। इसका दोहन किया जा रहा है। यदि रेत का अवैध उत्खनन नहीं रूका तो आगामी कुछ ही सालों में यह नदी सूख जाएगी। नदी में अवैध रेत उत्खनन से वाटर लेबल 10 से 15 मीटर तक नीचे चला गया है। उन्होंने कहा कि इस ओर प्रदेश सरकार को ध्यान देना चाहिए।