कोरोनाकाल में बंद एवं नई रेलगाडिय़ों का संचालन जल्द शुरू किया जाए  : राहुल भारद्वाज

भिण्ड.ShashikantGoyal/ @www.rubarunews.com>> ग्वालियर भिण्ड इटावा रेलखंड का निरीक्षण करने आये डीआरएम झांसी मण्डल आशुतोष को भिण्ड के समाजसेवियों के प्रतिनिधिमंडल ने एक अतिआवश्यक निवेदन पत्र सौंपा है। पत्र के माध्यम से डीआरएम को समाजसेवी राहुल भारद्वाज ने बताया कि कोरोना काल मे बन्द की गई कोटा-इटावा एक्सप्रेस एवं ग्वालियर- भिण्ड पैसेंजर को पुन: अविलम्ब शुरू किया जाए क्योंकि अन्य क्षेत्रों में लगभग सभी रेलगाडिय़ां शुरू कर दी गयी हैं।

आगे अवगत कराते हुए बताया कि आजादी के इतने सालों बाद भी भिण्ड रेल यातायात के क्षेत्र में इतना पिछड़ा हुआ है,हमारे भिण्ड को रेल यातायात के माध्यम से भोपाल, मुम्बई, अहमदाबाद, लखनऊ, प्रयागराज, दिल्ली, जम्मू से सीधे तौर पर जोड़ा जाए क्योंकि भिण्ड चम्बल अंचल के कई लोग भारतीय फौजों में सेवाएं दे रहे हैं, रेलवे कनेक्टिविटी बढऩे से उन्हें बहुत सहूलियत होगी। कई ट्रेनों के प्रपोजल 5-5 सालों से अटके पड़े हैं जिन पर रेल मंत्रालय का बिल्कुल भी ध्यान नहीं है।

राहुल भारद्वाज ने पत्र के माध्यम से कहा कि ओखा- गोरखपुर एक्सप्रेस एवं सूरत- मुजफ्फरपुर एक्सप्रेस बहुत लंबा चक्कर लगाते हुए वर्तमान में संचालित की जा रही हैं जबकि वाया भिण्ड- इटावा लाइन से इन गाडिय़ों को शुरू किया जाए तो शासन को राजस्व की, जनता को किराए एवं समय की बहुत बचत होगी।

डीआरएम से रूबरू होते हुए कहा कि भिण्ड का विकास तभी सम्भव है जब भिण्ड रेलवे स्टेशन पर सुविधाएं विकसित की जाएं और नवीन ट्रेनों का संचालन बढ़ाया जाए अन्यथा करोड़ों रुपये की लागत से तैयार किया गया ग्वालियर भिण्ड इटावा रेलमार्ग अर्थहीन होकर नगण्य ही माना जायेगा,इस रूट पर ट्रेनों का आवागमन कम होने से भिण्ड का विकास अवरुद्ध हो रहा है, इस विषय पर गंभीरता दिखाई जाये। इस अवसर पर प्रतिनिधिमण्डल के रूप में मनोज जैन, प्रतीक पाण्डे, शिवम दुबे, गोपाल सोनी,पारस थापक, शनि राजावत, रमाकांत कांकर, विवेक व्यास, ऋषभ शर्मा, अम्बेश थापक, प्रहलाद भदौरिया आदि सहित कई समाजसेवी युवा मौजूद रहे।