बजट में बूंदी को लॉलीपॉप थमाया, घोषणा सरकार ने बूंदी में पर्यटन, केशवराय पाटन शुगर मिल , जेतसगर को नही किया बजट में शामिल

बूंदी.KrishnaKantRathore/ @www.rubarunews.com- भारतीय जनता पार्टी के जिलाध्यक्ष छितर लाल राणा व जिला प्रवक्ता मनीष पाटनी ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा प्रस्तुत बजट को झूठ का पुलिंदा बताया है।
मुख्यमंत्री ने कोरी घोषणाएं करके झूठी वाहवाही लेने का प्रयास किया है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा पेश किए गए बजट से प्रदेशवासियों को निराशा ही हाथ लगी है। बजट में बेरोजगारी से त्रस्त युवाओं के लिए कोई ठोस प्रावधान नजर नहीं आते। बार-बार अटकने वाली भर्ती परीक्षाओं के संदर्भ में भी कोई कारगर योजना नहीं दिखती।
दोनों नेताओ ने कहा कि डीजल पेट्रोल पर वैट को कम करने का भी कोई प्रावधान मुख्यमंत्री ने नहीं किया है। लंबे समय से अनेक संविदाकर्मी सरकार के खिलाफ धरने प्रदर्शन कर रहे हैं, लेकिन मुख्यमंत्री कान में रुई लगाए बैठे हैं। संविदाकर्मियों को भी राहत देने का कोई फैसला इस बजट में नहीं किया गया है।
उन्होंने ने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की संवेदनहीनता एवं कोरी बयानबाजी का ही परिणाम है कि वर्ष 2019 में पेश किए गए बजट की घोषणाएं भी अभी तक पूरी नहीं हो पाई है और फिर उन्होंने नई घोषणाएं करने का ही काम किया है। कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा पेश किया गया यह बजट सिवाय निराशा के और कुछ नहीं देता।
राणा व पाटनी ने कहा कि इस बजट से बूंदी के नागरिकों को बड़ी आशा थी लेकिन उनके हाथ निराशा ही लगी हैं। इस बजट में न तो विकास का कोई एजेंडा रखा गया है, न ही बूंदी पर्यटन ,जेतसगर ,केशोराय शुगर मिल, विद्यालयी में शिक्षकों की कमी, पर कोई प्लान है और न ही बूंदी की सड़को का और कॉलोनियों के रेगुलाईजेशन का, वन विभाग में आई आवासीय बस्तियों पर कोई विषय लिया गया हैं।

Umesh Saxena

I am the chief editor of rubarunews.com