महिला समूह विकास योजनाओं को अपनाकर आत्मनिर्भर बनें : नागर

बून्दी.KrishnaKantRathore/ @www.rubarunews.com-  महिला अधिकारिता विभाग के तत्वावधान में लक्ष्मीपुरा गांव में आत्मा योजना अंतर्गत महिला समूहों की खाद्य सुरक्षा समूह क्षमतावर्धन कार्यशाला का आयोजन किया गया। इस अवसर पर सहायक निदेशक भेरू प्रकाश नागर मुख्य अतिथि थे। कार्यशाला में फ्री बीइंग मी अन्तर्राष्ट्रीय व्यक्तित्व उन्नयन कार्यक्रम के जिला समन्वयक सर्वेश तिवारी व महिला शक्ति केंद्र समन्वयक अर्पिता शर्मा मुख्य वक्ता थे। कार्यशाला में संभागी महिलाओं को संबोधित करते हुए नागर ने कहा कि वर्तमान समय में नवीन तकनीकी ज्ञान व महिला विकास योजनाओं के माध्यम से महिलाएं अर्थोपार्जन कर स्वयं को सशक्त बना सकती हैं । विभाग की विभिन्न महत्वपूर्ण योजनाओं के साथ आत्मा योजना की जानकारी देते हुए नागर ने महिलाओं का आव्हान किया कि महिला समूह अति उपयोगी विकास योजनाओं को अपनाकर स्वयं को आत्मनिर्भर बनाएं। उन्होंने कहा कि योजनांतर्गत प्रत्येक ब्लॉक पर दो समूह का गठन किया जाकर महिला समूह को दस हजार रुपये की राशि उपलब्ध करवाई जाएगी।

 प्रशिक्षण सत्र में मुख्य वक्ता के रूप में सन्दर्भ जानकारी देंते हुए सर्वेश तिवारी ने कहा कि आत्मा एक अतिउपयोगी महत्वपूर्ण योजना है जिसके तहत योजनांतर्गत कृषक महिलाओं की घरेलू एवं पोषण संबंधी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए महिला समूह द्वारा किचन गार्डन, मुर्गी पालन, बकरी पालन, पशुपालन, डेयरी, मशरूम उत्पादन से संबंधित गतिविधियां संचालित की जा सकती हैं । अर्पिता शर्मा ने स्वयं सहायता समूह की आवश्यकता, महत्व व क्रियाविधि के साथ खाद्य सुरक्षा गतिविधियों का प्रशिक्षण दिया। सैद्धांतिक व प्रायोगिक सत्रों में संभागीय महिलाओं ने योजना के अंतर्गत विभिन्न गतिविधियों का प्रशिक्षण प्राप्त किया। कार्यशाला के परिचर्चा सत्र में भाग लेकर महिलाओं ने योजना संबंधी विभिन्न शंकाओं , समस्याओं व जिज्ञासाओं का हल प्राप्त किया। सत्र का संचालन करते हुए शिवम महिला स्वयं सहायता समूह के अध्यक्ष सुगना बाई व गोपाली ने महिला सशक्तीकरण की आवश्यकता के प्रति महिलाओं को जागृत किया। साथिन अर्चना चित्तौड़ा ने आभार प्रकट किया। कार्यशाला में रोवरमेट आतिश वर्मा, ग्रामीण कार्यकर्ता माया वर्मा, वंदना बाई, ममता देवी व प्रेमलता सहित यशांक एसएचजी समूह तथा शिवम स्वयं सहायता समूह की महिला कार्यकर्ताओं ने सहभागिता की।