स्कूली शिक्षा के साथ-साथ छात्र-छात्राओं को शारीरिक शिक्षा का ज्ञान होना भी बहुत जरूरी : डा. नम्रता आनंद

पटना.Desk/ @www.rubarunews.com>> राजकीय-राष्ट्रीय सम्मान से अंलकृत और सामाजिक संगठन दीदीजी फाउंडेशन की संस्थापिका डा. नम्रता आनंद को पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन ने सम्मानित किया है।
राजधानी पटना के अनिसाबाद के पुलिस कॉलोनी पार्क, सेक्टर सी में 22 वें सेसिनकाई वार्षिक अवार्ड समारोह का आयोजन किया गया। इस अवसर पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) विधायक नितीन नवीन मुख्य अतिथि के तौर पर मौजूद थे। कार्यक्रम की शुरूआत दीप प्रज्जवलित कर की गयी। मौके पर डा. नम्रता आनंद विशिष्ठ अतिथि के तौर पर मौजूद थी। पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन ने डा. नम्रता आनंद को अंग वस्त्र और मोंमोटो देकर सम्मानित किया।
इस अवसर पर डा. नम्रता आनंद ने कहा कि स्कूली शिक्षा के साथ-साथ छात्र-छात्राओं को शारीरिक शिक्षा का ज्ञान होना भी बहुत जरूरी है। हर स्कूल एवं कॉलेजों में बच्चों को मार्शल आर्ट का प्रशिक्षण देना जरूरी है। मार्शल आर्ट की शिक्षा शारीरिक विकास के साथ-साथ मानसिक विकास में भी अहम भूमिका निभाती है। कराटे सहित मार्शल आर्ट की अन्य विधाएं हमें सिर्फ शारीरिक रूप से ही मजबूत नहीं बनातीं बल्कि इससे व्यक्ति मानसिक रूप से भी परिपक्व होता है।आत्मरक्षा के लिए मार्शल आर्ट का प्रशिक्षण जरूरी है।
डा. नम्रता आनंद ने कहा कि आज के दौर में आत्मरक्षा बहुत आवश्यक हो गयी है।सेल्फ डिफेंस के लिए युवा वर्ग को मार्शल आर्ट का प्रशिक्षण जरूरी है, इसे भी दैनिक कार्य की तरह जीवन का हिस्सा बनाया जाना चाहिए। नियमित मार्शल आर्ट का अभ्यास करने से शारीरिक, मानसिक, नैतिक आत्मिक विकास को एक साथ बल मिलता है।
गौरतलब है कि डा.नम्रता आनंद करीब दो दशक से महिला सशक्तीकरण की दिशा में काम कर रही है। डा. नम्रता आनंद महिलाओं को समाज में उचित एवं सम्मानजनक स्थिति पर पहुँचाने के लिए अपनी संस्था के माध्यम से महिला सशक्तिकरण पर आधारित कई कार्यक्रम का आयोजन कर चुकी है। डा. नम्रता आनंद को हाल ही में सामाजिक क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिये राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में ग्लोबल कायस्थ कॉन्फ्रेंस की ओर से आयोजित महादेवी वर्मा स्मृति सम्मान 2022 से सम्मानित किया गया है।