15 वर्षों बाद पुत्री से मिलन

कोटा.K.K.Rathore/ @www.rubarunews.com-कोचिंग सिटी में पिछले 15 वर्ष पूर्व उत्तर प्रदेश के बरेली से कोचिंग करने आई जूही उर्फ सहीना परवीन को अपना घर आश्रम के प्रयास से उसके परिजनों से मिलाकर बरेली रवाना किया गया।

अपना घर आश्रम के सचिव मनोज जैन अदिनाथ ने बताया कि 14 दिसम्बर की रात्रि में महावीर नगर थाने से उनके पास कॉल आया कि 35 वर्षीया एक सहमी हुई महिला लाचार लावारिस अवस्था में है जिसे आश्रम में प्रवेश देवें। अदिनाथ स्वयं अन्य सेवासाथियों के साथ आश्रम पहुँचे जहाँ रात्रि नर्सिंग प्रभारी साहिना परवीन को निर्देश देते हुए महावीर थाने से महिला पुलिसकर्मी एवं हैड कांस्टेबल हरिओम के साथ आई महिला को प्रवेश देने की बात कही। 4 दिन तक चली कॉउंसलिंग के दौरान जूही ने अपने को बरेली का रहने वाला बताते हुए कहा कि मैं 15 वर्ष पूर्व कोटा में कोचिंग के लिए आई थी और मैं फिर लौट के नही गई। अपना घर आश्रम प्रशासन ने बरेली में जूही के परिजनों को ढूंढ निकालकर उनसे फोन पर बात की जिसपर परिजनों को विश्वास नही हुआ और उन्होंने तुरन्त कोटा पहुँचने की बात कही। शुक्रवार को जूही की माँ और भाई उसे लेने बस द्वारा बरेली से रवाना होकर जयपुर होते हुए कोटा स्थित अपना घर आश्रम पहुँचे। जहाँ लंबे अरसे के बाद बेटी को देखकर माँ की रुलाई फूंट पड़ी। दोनों एक दूसरे से लिपट गए।सचिव अदिनाथ ने महावीर नगर थाना पुलिस के समक्ष महिला का पुनर्वास किया।महिला एवं पुलिस के अनुसार जिसके पास वो कोटा में रह रही थी उसका 14 दिसम्बर को बीमारी से निधन हो गया।और वो बेघर हो गयी। इस बीच वो वापिस बरेली नही गयी।