प्रभारी मंत्री को हटाने की मांग ने फिर पकड़ा जोर

भिण्ड.desk/@www.rubarunews.com>> जिले के प्रभारी मंत्री आरिफ अकील को हटाए जाने की मांग ने फिर जोर पकड़ा है। इस बार यह मांग भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन के जिलाध्यक्ष अतुल मिश्रा ने सीएम कमलनाथ से की है, इससे पहले भाजपा के अलावा जिला कांग्रेस के पदाधिकारी भी प्रभारी मंत्री को निष्क्रिय बताकर इनके स्थान पर किसी और को जिले का प्रभारी मंत्री नियुक्त करने की मांग करते रहे हैं, लेकिन इस पर सुनवाई नहीं हो सकी। जून 2019 में प्रभारी मंत्री आरिफ अकील के कथित भांजे के पकड़े जाने के बाद से अब तक प्रभारी मंत्री ने अपने क्षेत्र से मुंह फेकर रखा है। इन 7 माह में इन्होंने जिले की सीमा में कदम तक नहीं रखा। ऐसे में इनके स्थान पर किसी ओर को प्रभारी मंत्री की जिम्मेदारी दी जाने की मांग उठ रही है, लेकिन शीर्ष नेतृत्व ने इस ओर ध्यान नहीं दिया है। इस बार भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन के जिलाध्यक्ष श्री मिश्रा ने सीएम कमलनाथ को पत्र लिखकर कहा है कि जिले के प्रभारी मंत्री बनने के बाद से अब तक श्री अकील सिर्फ दो बार ही जिले में आए और विगत 7 माह से तो उनकी सूरत तक नहीं देखी गई। उन्होंने अपने पत्र में लिखा कि इस मामले पर भोपाल में जब प्रभारी मंत्री से मुलाकात की गई तो उन्होंने स्वयं स्वीकार किया कि भिण्ड जिले से मेरा कोई मजलब नहीं है। इसलिए उन्हें हटाकर किसी ओर को जिले का प्रभारी मंत्री नियुक्त किया जाए। पत्र में उल्लेख किया गया कि जिले में प्रभारी मंत्री की अनुपस्थिति के चलते विकास कार्यों से जुड़ी योजनाएं रूकी पड़ी हैं साथ ही जनहित से जुड़े निर्णय नहीं लिए जा रहे हैं। उन्होंने आने वाले निकाय व पंचायत चुनाव से पूर्व इस मुद्दे पर निर्णय लिए जाने की मांग की है, ताकि निष्क्रिय प्रभारी मंत्री की अनुपस्थित से पार्टी को इन चुनावों में खामियाजा न उठाना पड़े।

कथित भांजा बना प्रभारी मंत्री की फजियत का कारण

जून 2019 को प्रभारी मंत्री  अकील का भांजा बनकर सर्किट हाउस में मौज उड़ाने का मामला सामने आने के बाद प्रभारी मंत्री के निर्देश पर पुलिस ने कथित भांजे को गिरफ्तार किया था, लेकिन उसे बिना कार्रवाई के छोड़ दिया गया था। जिसके बाद प्रभारी मंत्री की जमकर फजीहत हुई, जिसके चलते उन्होंने जिले से मुंह फेर लिया। उनके कथित भांजे पर रेत की दलाली का आरोप लगा, जिसके चलते उन्हीं की पार्टी के कार्यकर्ताओं ने प्रभारी मंत्री का जमकर विरोध किया था।

Umesh Saxena

I am the chief editor of rubarunews.com