आंखों की बेहतर देखभाल, बचाएगी अंधेपन से

बून्दी.KrishnaKantRathore/ @www.rubarunews.com-  विश्व दृष्टि दिवस हर वर्ष अक्टूबर महीने के दूसरे गुरुवार को मनाया जाता है। यह अभियान के तौर पर डब्ल्यूएचओ के विजन 2020 दृष्टि के अधिकार की वैश्विक पहल’ के तहत हर वर्ष मनाया जाता है। यह अंधेपन और दृष्टि नुकसान के वैश्विक मुद्दे पर ध्यान केंद्रित करने के लिए जागरूकता प्रसारित करने वाला अंतरराष्ट्रीय दिवस है। विश्व दृष्टि दिवस अंधेपन की रोकथाम के प्रयासों को प्रोत्साहित करने के महत्व पर प्रकाश डालता है। अस्सी प्रतिशत अंधापन (रोके जाने योग्य अथवा उपचार योग्य) बचने योग्य है एवं पांच में से चार लोग बचने योग्य दृष्टि नुकसान से पीडित हैं।

सीएमएचओ डॉ. जी0 एल0 मीणा ने बताया कि भारत सरकार की ओर से राष्ट्रीय दृष्टिहीनता एवं अंधापन नियंत्रण कार्यक्रम संचालित है, जो नेत्र देखभाल सेवाओं के प्रावधान के माध्यम से अंधेपन की रोकथाम, दृष्टि हानि तथा भारत में नेत्र देखभाल पर समुदाय की जागरुकता बढ़ाने के लिए वर्ष 1976 से काम कर रहा है। डाॅ मीणा ने बताया कि आहार में अधिक से अधिक मात्रा में हरी सब्जियों एवं पीले व लाल फलों को शामिल करें। धूम्रपान न करें। धूम्रपान मोतियाबिंद, ऑप्टिक तंत्रिका क्षति और धब्बेदार अंधपतन के जोखिम का कारक है। आंखों को सूरज की पराबैंगनी किरणों से बचाने के लिए धूप का चश्मा पहनें। खतरनाक कार्य के दौरान सुरक्षा चश्मा या सुरक्षात्मक चश्में का उपयोग करें। कम्पयूटर स्क्रीन से दूर रहें, हर बीस मिनट में अपनी आंखों को आराम दें, बीस सेकंड के लिए बीस फीट की दूरी पर देखें। अपनी आंखों को मलने से पहले या अपनी आँखों को छूने से पहले अपने हाथ ठीक से धोएं। आंखों की नियमित जांच करवाएं। आंखों के संक्रमण से बचने के लिए बिना चिकित्सीय सलाह के दवाओं का सेवन न करें। नियमित व्यायाम करें, क्योंकि नियमित व्यायाम न केवल आपके शरीर को तंदुरुस्त रखता है, बल्कि आपकी आंखों को भी स्वस्थ बनाता है।