अंतर्राष्ट्रीय बाल अधिकार दिवस पर निवसीड बचपन द्वारा बाल अधिकार मित्रों का हुआ सम्मान

दतिया/ भोपाल @rubarunews.com>>>>>>> अंतर्राष्ट्रीय बाल अधिकार दिवस के अवसर पर निवसीड बचपन द्वारा आयोजितराज्य स्तरीय ऑनलाइन विमर्श में बचपन की आयु के मुद्दे पर विचार किया गया।  इस अवसर पर देश-प्रदेश में बाल अधिकारों के मुद्दे पर कार्यरत सामाजिक कार्यकर्ताओं ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र बाल अधिकार सम्मलेन की मंशा के अनुरूप देश में बच्चों के लिए एक ही आयु का निर्धारण किया जाना चाहिए जोकि 18 वर्ष हो, न कि हर एक कानून के हिसाब से उम्र बदलती रहे और बच्चे परेशान होते रहें।

इस अवसर पर बाल पंचायत के नवनिर्वाचित पदाधिकारिओं ने शपथ ग्रहण की और प्रदेश के कई जिलों के बाल अधिकार मित्रों को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग के सदस्य श्री ब्रजेश चौहान उपस्थित थे। अध्यक्षता संस्था प्रमुख श्री राजेश मालवीय ने एवं सञ्चालन संजय कुमार सिंह और सत्येन्द्र पाण्डेय ने किया।

 

कार्यक्रम के आरम्भ में बचपन, भोपाल के सचिव राजीव भार्गव ने संस्था के 18 वर्ष पूर्ण होने की यात्रा के बारे में संक्षिप्त जानकारी प्रदान की और कहा कि इसकी सफलता का पूरा श्रेय जमीनी कार्यकर्ताओं और उन बच्चों को है जिन्होंने शुरूआती समय से संस्था के साथ जुड़कर बाल सह्भागिता के मुद्दे पर एक बेहतर समझ विकसित करने में सहयोग प्रदान किया। साथ ही प्रदेश के अन्य जिलों में कार्यरत ज़मीनी संगठनों का सहयोग व साथ भी बचपन को बालिग बनाने में सहयोगी रहा।

बाल पंचायत के आरंभिक दौर के दो साथिओं- मनोहर और रवीना ने अपनी सफलता की कहानी प्रस्तुत की. इस अवसर पर बच्चों की पत्रिका- पंखुड़ी के ई-एडिशन का विमोचन भी अतिथियों द्वारा किया गया. हाल में ही संपन्न बाल पंचायत चुनाव में नव निर्वाचित पदाधिकारियों ने अपनी जिम्मेवारियो के निर्वहन हेतु शपथ ग्रहण भी की।

प्रतिनिधियों के नाम इस प्रकार हैं- अध्यक्ष-पल्लवी मोहबे, उपाध्यक्ष- अंकिता मालवीय, सचिव- शिवम् सेन, उपसचिव- वर्तिका, कोषाध्यक्ष- निखिल तिवारी सहायक कोषाध्यक्ष- तारासिंह, पर्यावरण मंत्री- तान्या जाटव, खेल एवं सांस्कृतिक मंत्री- निधि, प्रवक्ता- रिया वर्मा।

बाल अधिकार मित्र सम्मान- 2020 से सम्मानित हुए बाल मित्र

इसी तरह विभिन्न जिलों में स्वतंत्र चयन समितियों द्वारा चयनित बाल अधिकार मित्रों को भी बच्चों के हक में किए गए उल्लेखनीय योगदान के लिए सम्मानित किया गया. *इनमे प्रमुख रूप से शामिल हैं- बलवीर पांचाल- दतिया, अशोक बंजारा-मंडला, श्याम मवासे बेतुल,  दवे- दमोह, अकरम- हरदा, विजय शंकर द्विवेदी-होशंगाबाद, शुभम चौधरी-खरगोन, संदीप सेंगर- मुरैना, महेंद्र सिंह तोमर- रायसेन, मोहम्मद अनीस- अनूपपुर, रामाश्रय रावत- सतना, सपना पांडेय- शहडोल, आनंद सोनी-बडवानी, भूरा कुरैशी- ग्वालियर, जिमी निर्मल- झाबुआ, कविता खरे-खंडवा, कृष्णा बाई-सीहोर, श्रीकांत यादव-शाजापुर और रीना वर्मा-भोपाल।

विमर्श में प्रदेश कई जिलों से बच्चों के अधिकारों पर काम करने वाले साथी सक्रियता के साथ जुड़े रहे जिनमे दतिया से स्वदेश ग्रामोत्थान समिति संचालक व जिला बाल संरक्षण समिति सदस्य रामजीशरण राय, जबलपुर से मेघा पवार, शहडोल से रमेश पांडेय, इंदौर से अनूपा आदि शामिल है।. आयोजन को सफल बनाने में हरिओम परसाई, स्नेहलता, ऋतू रूसिया, तरन्नुम खान, सुनील गावंडे, निहारिका पंसोरिया, रिंकू दुबे,, नेहा शर्मा, प्रीति, राघव रमेश मेवाड़ की सहभागिता रही। उक्त जानकारी सत्येन्द्र पाण्डेय व रामजीशरण राय ने संयुुक्त रूप से दी।