किसान पुत्र सलिल की डीएसपी पद पर पदोन्नति होने पर ग्रामीणों ने किया स्वागत

किसान एवं पूर्व सरपंच का बेटा पदोन्नत होकर बना डीएसपी, स्वागत में उमड़ा पूरा गांव

दतिया @rubarunews.com>>>>>>>>>>>>>>>>>
कहते है कि किसी में अगर प्रतिभा हो तो आर्थिक विपन्नता भी उसके मार्ग में अवरोध पैदा नही कर सकती। वह निखर कर सामने आ ही जाती है। ऐसी ही एक प्रतिभा गांव उनाव में कुछ इस तरह निखरी कि वह दूसरे के लिए मिसाल बन गई। गांव के किसान एवं पूर्व सरपंच वीरेंद्र नारायण पंडा उर्फ वीरन बापू का बेटा सलिल शर्मा आज पदोन्नति पाकर डीएसपी (DSP) बन गया।वह जब अपने गृह गांव उनाव पहुंचा तो उनके सम्मान के लिए जनसमुदाय उमड़ पड़ा। उन्होंने खुद को साबित कर दिखा दिया कि कुछ करने की ठान लो तो तमाम व्यवधान, विषमताओं के बाबजूद सफलता मिल ही जाती है।

गांव वालों ने अपने लाडले अधिकारी का किया भव्य स्वागत

दतिया जिले के कस्वाई गांव उनाव के किसान एवं पूर्व सरपंच बीरन बापू का बेटा सलिल शर्मा उर्फ राजकुमार एस आई से टीआई और प्रमोशन पाकर लोकायुक्त भोपाल में डीएसपी बन गया है। गांव पहुंचने पर ग्रामीणों द्वारा भव्य स्वागत किया गया। गांव के लोगों ने अपने लाडले अधिकारी बेटे को आंखों में बिठा लिए। बाजेगाजे के साथ लोगों का उत्साह देखते ही बन रहा था। फूल मालाओं से लदे डीएसपी बेटे ने गांव के बड़े बुजुर्गों का चरण छू आशीर्वाद लिया।

उनकी जुबानी संघर्ष की कहानी

आर्थिक विपन्नता के बीच पिता को कठिन परिश्रम करते देखा तो पिता के सपने को पूरा करने अधिकारी बनने का निश्चय बचपन से ही कर लिया था। पढ़ाई में दिक्कतें आने पर मेरे सभी शिक्षकों ने भरपूर मदद की और आगे बढऩे के लिए हमेशा प्रोत्साहित किया। विज्ञान से 12 वीं करने के बाद बीएससी एवं एमएससी करते हुए आगे एलएलबी एवं पीएचडी तक पढ़ाई जारी रखी। वर्ष 2000 मैं शासकीय सेवा के रूप में एसआई की पोस्टिंग भोपाल हुई। कुछ समय सीहोर के वुधनी में भी रहा । 2007 में टीआई के रूप में छतरपुर में पदभार ग्रहण किया। वर्तमान में मेरी पदोन्नति लोकायुक्त भोपाल में डीएसपी के रूप में हुई है ।गुरुःजनों में वह अपना आदर्श देवेंद्र कुमार शर्मा, जीआर विंचुरकर, एसएस श्रीवास्तव, सहगल सर को मानते हैं जिनके उचित मार्गदर्शन परामर्श के कारण आज इस मुकाम पर पहुंचे।

पढ़ाई में शुरू से ही होनहार

माध्यमिक स्कूल तक गांव में पढ़ाने वाले सेवानिवृत्त शिक्षक देवेंद्र कुमार शर्मा ने बताया कि सलिल शर्मा पढ़ाई में शुरू से ही होनहार था। मुझे विश्वास था कि आगे चलकर गांव का नाम रोशन करेगा।

आर्थिक विपन्नता की स्थिति सामान्य 

घर की आर्थिक स्थिति सामान्य थी। पिता किसान है। एक बहिन दो भाइयों में बड़ा बेटा डीएसपी लोकायुक्त भोपाल और छोटा बेटा भी उनाव में शिक्षक के रूप में अपनी सेवाएं दे हा है।