माफियाओं के दबाब में विपक्ष की आवाज दबा रहा है जिला प्रशासन- डॉ. भारद्वाज

(सरकार और प्रशासन माफियाओं के आगे नतमस्तक)

*(कांग्रेस ने अवैध खनन,और नगर पालिका के भृष्टाचार तंत्र के खिलाफ मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपा)*

भिण्ड- मप्र में भारतीय जनता पार्टी के कार्यकाल में भिण्ड जिले सिंध नदी रेत माफियाओं द्वारा छलनी किया जा रहा है। अवैध उत्खनन रोकने में भिण्ड जिला कलेक्टर पूरी से असफल साबित हुए। जिला प्रशासन और सरकार माफियाओं के आगे नतमस्तक हैं ये आरोप कांग्रेस जिला प्रवक्ता डॉ. अनिल भारद्वाज ने ज्ञापन के माध्यम से लगाए। श्री भारद्वाज ने कहा कलेक्टर साहब ओर पुलिस हमारे साथ चले दिन दहाड़े पनडुब्बियों से नदी की गहराई से खनन हो रहा है।हिम्मत हो तो रोक ले।

*माफियाओं के दबाब में धरने की अनुमति केंसिल की* कांग्रेस प्रवक्ता ने एसडीएम उदय सिंह सिकरवार से कहा हमारे धरने की अनुमति खनिज माफियाओं के दबाब में केंसिल की गई है, लगता हैं जिला प्रशासन का भी हिस्सा फिक्स है।जो प्राभारी मंत्री के आदेश की भी धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। रोज 200 ट्रक और 500 ट्रेक्टर से खनन रोक के बाबजूद रोड पर निकल रहे । पुलिस खुद प्रायवेट कटरों से बसूली में मस्त हैं। माफिया किसानों को बंदूक की दम पर किसानों के खेतों पर कब्जा कर खनन कर रहे हैं।

*नगरपालिका में भर्ष्टाचार की हद पार की*

*ऑफलाइन टेंडर से जनता के पैसा का बंटाधार हो रहा है*- कांग्रेस नेता ने भिण्ड नगरपालिका अधिकारी को अब तक का सबसे ज्यादा भ्रष्ट बताया और कहा उनको निलंबित कर विभागीय जाँच हो जो एक लाख के टेंडर पर जमकर लूट मचा रहे हैं, स्टीमेट बनाकर पैमेंट ठेकेदारों को हो रहे है जबकि उक्त कार्य कहा हो रहा है समझ ही नही आ रहा है। एक ही ठेकेदारों को कई बार एक एक लाख के टेंडर दिए जा रहे हैं। ऐसा लगता है जनता के पैसे का नगरपालिका द्वारा दुरुपयोग किया जा रहा है।

2 म.प्र.शासन के राजस्व एवं जिले के प्रभारी मंत्री जिला भिण्ड के आदेश का जिला प्रशासन पर कोई असर नहीं हुआ है। खनन पर रोक होने के बावजूद अजीता, अजनार, रोहानी, परायच, भारौली, इन्दुखीं बरेठी खुर्द पर दिनदहाड़े पनडुब्बियों से नदी का सीना चीरकर गहराई से रेत निकाल रही है।

3 रेत माफिया बंदूक के दम पर स्थानीय ग्रामीणों को धमकाकर उनके स्वामित्व एवं आधिपत्य के खेत में होकर रास्ता बना लेते हैं उनके डर की वजह से लोग शिकायत नहीं कर पा रहे है, लेकिन किसान परेशानी में है।

4 यह कि,सिंध नदी में खनन प्रतिबंध होने के बावजूद भी लगभग दो दर्जन पनडुब्बियां दिन-रात रेत निकाल रही है।

5 यह कि, प्रशासन और पुलिस की सहमति से 200 से ज्यादा डम्पर एवं 500 से अधिक ट्रेक्टर रेत के अवैध परिवहन में लगे हुए है। यह कि, भिण्ड नगर पालिका परिषद् के प्रशासक भिण्ड के कलेक्टर होते हुए खुलेआम भ्रष्टाचार हो रहा है, जिसमें ऑफलाइन टेण्डर 1-1 लाख रूपये के टेण्डर कार्य करने का ऑर्डर दिया जा रहा है, जबकि कोई भी कार्य नही किया जा रहा है व भुगतान कर दिया जाता है, इससे प्रतीत हो रहा है कि नगर पालिका में जनता के धन का दुरूपयोग किया जा रहा है।

कांग्रेस प्रवक्ता ने नगर पालिका परिषद् भिण्ड के कार्यालय की छतों की मरम्मत हेतु एक-एक लाख रूपये के ऑफलाइन टेण्डर दिये गये है व भुगतान कर दिया गया है जबकि एक ही छत के कई बार कई ऑर्डर दिये गये एवं भुगतान कर दिया गया है जबकि एक लाख से ऊपर की लागत के कार्य हो तो उसकी विज्ञप्ति दी जाकर टेण्डर दिये जाते हैं, जबकि नियमों का पालन कर चहेतों को लाभ दिया जा रहा है। अतः भिण्ड नगर पालिका के सी.एम.ओ. को निलंबित कर विभागीय जांच की जायें।

*प्रशासक जिला कलेक्टर फिर बिना जाँच पैमेंट कैसे* नगरपालिका में जो बंटाधर एक जनप्रतिनिधि के दबाब में नगरपालिका अधिकारी कर रहे हैं जब कलेक्टर महोदय प्रशासक की भूमिका में फिर बिना सत्यापन किए बिल कसे पास हो रहे हैं, क्या उनकी भी भूमिका संदिग्ध हैं?

कांग्रेस प्रवक्ता डॉ.अनिल भारद्वाज के नेतृत्व में दिए गए ज्ञापन में पूर्व जिलाध्यक्ष जयश्रीराम बघेल,ईरशाद अहमद,सजंय भूता,ममता मिश्रा,अंशु अरेले,रामहर्ष कुशवाह,,महेश जाटव,दीपचंद्र तिवारी,सतपाल अगरैया,दीपू दुबे,विनोद जाटव,अमित शिवहरे,अरविंद सोनी,आलोक सोनी,विजय देपुरिया, कमलेश जाटव,सोहन तिवारी,अदीब खान,भगीरथ कुशवाह,गिरीश यादव, ब्रजेश जैन,रितेश परिहार,अशोक गुप्ता,अजय शर्मा,शंकर पटेल,बबलू त्यागी,गोविंद शाक्य,हीरा सिंह बघेल,किशन तिवारी,पिंटू शर्मा,अंकित यादव, आदि शामिल रहे।