6 दिनों में कष्टसाध्य रोगों से पीड़ित 471 रोगियों का उपचार- आयुर्वेद चिकित्सालय में आरोग्य सप्ताह का छठा दिन

बून्दी.KrishnakantRathore/ @www.rubarunews.com- धन्वंतरि जयंती और छठे राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस के अवसर पर जिला आयुर्वेद चिकित्सालय में आरोग्य समिति की ओर से आयोजित आरोग्य सप्ताह के छठे दिन जिला आयुर्वेद चिकित्सालय में आयुर्वेद से पोषण और संपूर्ण स्वास्थ्य विषयक संगोष्ठी का आयोजन व पोषण महाभियान की शुरुआत की गई।
इस अवसर पर अतिरिक्त जिला कलेक्टर एयू खान और अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक किशोरीलाल ने जागरूकता प्रपत्रों का विमोचन करके और लोगों को स्वर्णप्राशन औषधि पिलाकर कार्यक्रम की शुरुआत की।
एडीएम एयू खान ने कोविड काल में रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाकर लोगों को स्वस्थ रखने में जिला आयुर्वेद चिकित्सालय द्वारा चलाए गए महाअभियान की सराहना की तथा पोषण और इम्यूनिटी बढ़ाकर स्वस्थ रखने में आयुर्वेद को काफी कारगर बताया।
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक किशोरीलाल ने बताया कि आयुर्वेद में बताई गई जीवनशैली को अपनाकर स्वास्थ्य को पाया जा सकता है। मुख्य वक्ता डॉ सुनील कुशवाह ने बताया कि देश में लगभग आधी महिलाएं और बच्चे कुपोषण और एनीमिया से पीड़ित हैं स्वास्थय के प्रति जागरूकता और प्रतिबद्धता लाकर उपलब्ध संसाधनों के द्वारा ही इसे दूर किया जा सकता है।
उन्होंने बताया कि दैनिक जीवन में खाना बनाने के लिए नियमित रूप से लोहे के बर्तनों, फल और हरी सब्जियों का उपयोग किया जाए तो काफी हद तक एनिमिया को दूर किया जा सकता है। इसके लिए ही जागरूकता लाने के लिए साल भर तक चलने वाले पोषण महाभियान की शुरुआत की गई है। इस अवसर पर अतिथियों ने जिला आयुर्वेद चिकित्सालय में संचालित पंचकर्म चिकित्सा शिविर का निरीक्षण कर उपचाररत रोगियों से फीडबैक भी प्राप्त किए और चिकित्सालय द्वारा प्रदान की जा रही गुणवत्ता पूर्ण सेवाओं को सराहा।
पीएमओ और पंचकर्म विशेषज्ञ डॉ सुनील कुशवाह ने बताया कि 6 दिनों में अब तक जटिल जीर्ण और कष्टसाध्य रोगों से पीड़ित 471 रोगियों का उपचार किया जा चुका है। कल आरोग्य सप्ताह का समापन भगवान धन्वंतरि जी के महापूजन और उत्कृष्ट कार्य करने वाले कार्मिकों के सम्मान के साथ होगा। समापन समारोह में इस अवसर पर जिला प्रमुख श्रीमती चंद्रावती कंवर, नगर परिषद सभापति श्रीमती मधु नुवाल, पूर्व जिला प्रमुख राकेश बोयत, आयुर्वेद उपनिदेशक डॉ हेमंत कुमार शर्मा समेत आरोग्य समिति के सभी पदाधिकारी मौजूद रहेंगे।