कोरोना की तीसरी लहर से मुकाबले के लिए तैयार रहे टीम बूंदी-संभागीय आयुक्त

बूंदी KrishnaKantRathore/ @www.rubarunews.com>> बूंदी जिले को कोरोना की तीसरी लहर से बचाने, खासकर बच्चों को इससे सुरक्षित रखने के मद्देनजर जिला प्रशासन एवं चिकित्सा विभाग टीम सक्रिय हो गई है। जिले में कुपोषण ग्रस्त बच्चों को पुष्ट बनाने की प्रभावी कार्य योजना तैयार की जा रही है ताकि कुपोषित बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाई जा सके। संभागीय आयुक्त श्री केसी मीणा ने शनिवार को इस संबंध में जिले के प्रमुख अधिकारियों के साथ बैठक कर आवश्यक निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि समय रहते तीसरी लहर से मुकाबले के लिए पुख्ता तैयारी की जाए, कुपोषित बच्चों के सुपोषण के लिए अविलंब कार्य शुरू किया जाए ताकि तीसरी लहर को हराया जा सके।

संभागीय आयुक्त ने जिला कलेक्टर कक्ष में बैठक के दौरान जिले में कोरोना के मौजूदा हालात की समीक्षा की और संक्रमण में कमी तथा आवश्यक संसाधनों की बेहतर उपलब्धता पर संतोष जताया। उन्होंने चिकित्सा विभाग द्वारा किए जा रहे घर घर सर्वे की विस्तार से जानकारी ली और निर्देश दिए कि सर्वे के दौरान पाए जाने वाले खांसी जुकाम बुखार के सामान्य लक्षण वाले मरीजों का भी जीरो मूवमेंट सुनिश्चित किया जाए ताकि वे संक्रमण नहीं फैला सकें। उन्होंने कहा कि सीएचसी एवं पीएचसी के प्रबंधन को और मजबूत किया जाए ताकि जिला अस्पताल पर लोड ना आए तथा ग्रामीणों को बेहतर चिकित्सा उनके क्षेत्र में ही मिल सके। ऑक्सीजन, बेड रेमदेसीविर इंजेक्शन एवं अन्य दवा की उपलब्धता के बारे में जानकारी ली गई।

संभागीय आयुक्त ने वैक्सीनेशन की भी समीक्षा की और निर्देश दिए कि वैक्सीन व्यर्थ ना जाए इसकी सघन मॉनिटरिंग हो।
पुलिस अधीक्षक शिवराज मीणा से लॉकडाउन में गाइडलाइन पालना, सीमा पर आवाजाही, उल्लंघन पर कार्रवाई ,पेनल्टी इत्यादि की जानकारी ली और निर्देश दिए कि गाइडलाइन पालना में कोई ढिलाई नहीं बरती जाए। संक्रमण कम होने पर लोग लापरवाह ना हो जाएं,इस पर पूरा ध्यान रहे।मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ महेंद्र त्रिपाठी ने कोरोना संक्रमण एवं प्रबंधन संबंधी सभी सूचनाएं प्रस्तुत कीं। प्रमुख चिकित्सा अधिकारी डॉ प्रभाकर विजय ने बताया कि जिला अस्पताल में अब सभी संसाधनों की पर्याप्त उपलब्धता है। बैठक में अतिरिक्त जिला कलेक्टर ए यू खान, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक किशोरी लाल, उपाधीक्षक कुंदन कंवरिया भी मौजूद रहे।