ऑक्सीजन की कमी से दम न टूटे मरीजों की : राघव

डेढ़ लाख रूपये की जमा पुंजी से खरीदे ऑक्सीजन सिलेण्डर

भिण्ड.ShashikantGoyal/ @www.rubarunews.com>> मरीजों को फ्री ऑक्सीजन मिले जिसके लिए लहार के युवा राघव सिंह भदौरिया ने अपनी डेढ़ लाख रूपये की जमां पूंजी  मरीजों को दान कर दी है। युवा राघव सिंह भदौरिया ने बताया कि इस आपदा के समय अपने क्षेत्र के लोगों की फिक्र मेरे मन में है। जब मैंने देखा कि मेरा एक दोस्त कोविड पीडि़त था और ऑक्सीजन के अभाव में खत्म हो गया। ऐसी विपरीत परिस्थितियों में मेरे क्षेत्र के किसी व्यक्ति की सांसें न थमे इसलिए मैंने अपनी कमाई की पूंजी से पांच ऑक्सीजन सिलेंडर खरीदे। मेरी पहली प्राथमिकता लहार के लोगों को कोविड के दौरान सेवा करना है। इन सिलेंडरों के माध्यम से अब तक चंबल संभाग के दस मरीजों को फ्री में ऑक्सीजन सिलेंडर दिए है जिससे उन्हें ऑक्सीजन की कमी से नहीं जूझना पड़ा है।

 

राघव, इन दिनों आगरा में नौकरी कर रहे है। वे भिंड जिले के लहार कस्बे के भीकम पुरा रोड के निवासी है। उन्होंने बताया कि अप्रैल महीने में मेरे एक साथी कोविड पॉजिटिव हुआ। इस दौरान उन्हें उपचार के लिए ऑक्सीजन की व्यवस्था नहीं हो सकी। ऑक्सीजन के अभाव में मेरे साथी की दम घुट गया और मौत हो गई। यह बात मेरे दिल और दिमाग पर बैठ गई। ऐसी हालात में मेरे अपने क्षेत्र के किसी व्यक्ति के साथ ऐसा हादसा न हो। इसलिए अपनी कमाई की डेढ़ लाख रुपए से पांच ऑक्सीजन सिलेंडर खरीदे।

 

मुझे बहुत दुख हुआ जब मरीज को नहीं मिल सकी ऑक्सीजन

राघव ने बातचीत के दौरान कहा कि दो रोज पहले मेरे पास दिल्ली से फोन आया। उनके परिवार के सदस्य कोविड पॉजिटिव थे। उनका लहार कस्बे के जनकपुरा में रहता था। फोन पर पूछा कि आपके पास सिलेंडर है। मैंने कहा हां अभी एक सिलेंडर है। तब बताया कि लहार में हॉस्पिटल में ऑक्सीजन की व्यवस्था नहीं है। मेरे परिजन की हालत खराब है। ऑक्सीजन लेवल 40 है। सिलेंडर चाहिए। मैंने कहा किसी को आगरा भेज दो। सिलेंडर में दे दूंगा। इसके बाद आधे घंटे बाद फोन आया कि मौत हो गई। तब मुझे बहुत दुख हुआ।

 

स्वास्थ्य केंद्रों पर है ऑक्सीजन की कमी

राघव का कहना है कि लहार सहित आस पास के स्वास्थ्य केंद्रों पर ऑक्सीजन की व्यवस्था नहीं होती है। ऐसे में इन मरीजों की जरूरत को पूरा करना मेरा धैय है।