मध्य प्रदेश में छा सकता है अँधेरा – बिजली कंपनी के कर्मचारी करेंगे अनिश्चितकालीन कामबंद हड़ताल

भिण्ड.ShashikantGoyal/ @www.rubarunews.com>> चम्बल अंचल सहित पुरे प्रदेश में छा सकता हे अँधेरा आप को बता दे की मध्यप्रदेश के बिजली आउटसोर्स कर्मचारी  कर सकते हे 27 सितम्बर  को अनिश्चितकलीन कामबंद हड़ताल,बिजली कम्पनी के कर्मचारियों ने 23 अगस्त को मध्यप्रदेश सरकार को अपनी विभिन्न मांगो को लेकर मध्यप्रदेश के ऊर्जामंत्री प्रदुमनसिंह तोमर को अवगत करवाया था, इन कर्मचारीयो की मांगे थी की बिजली के नियमितीकरण को रोका जाये और आउटसोर्स कर्मचारीयो का संबिलियन किया जाये, इन मांगो के सम्बन्ध में ऊर्जा मंत्री प्रदुमनसिंह तोमर द्वारा वचनबद्ध आश्वासन दिया था कि आपकी इन मांगो  को जल्दी ही एक महीने के बीच पूरा किया जायेगा, लेकिन दो महीना पूरा होने के बाद भी बिजली कर्मचारीयो की  मांगो को पूरा नहीं किया गया। जिस पर आउटसोर्स कर्मचारी संघटन ने शुक्रवार को सभी कर्मचारी अपने अपने जिले में कलेक्टर और अधीक्षण यंत्री को हड़ताल करने की सुचना ज्ञापन के माध्यम से दिया, और 27 सितम्बर को अनिश्चितकालीन हड़ताल करने की सूचना दी। मध्य प्रदेश विद्युत वितरण कंपनी में आउटसोर्स कर्मचारियों पर हो रहे शोषण के खिलाफ मौ डी सी पर प्रदेश व्यापी आंदोलन एक दिवसीय संपूर्ण कार्य बहिष्कार में कर्मचारियों ने हड़ताल की मौ डीसी पर समस्त आउटसोर्स कर्मचारियों ने कार्यालय आकर विरोध प्रदर्शन किया एवं धरना पर रहे और अपने कार्य को बंद रखा। जिला भिंड इकाई के नवनिर्वाचित जिला अध्यक्ष संतोष भारद्वाज के आवाहन पर मौ डी सी के प्रमुख मनोहर गौर जी के नेतृत्व में संपूर्ण कर्मचारियों ने मौ में हड़ताल  की मध्य प्रदेश आउटसोर्स कर्मचारी संघ इस समय अपनी दुर्दशा पर कर्मचारी संघ आंसू बहा रहा है। अब इन कंपनियों द्वारा भी आउटसोर्स कर्मचारियों का शोषण किया जा रहा है द्वारा शासकीय कर्मचारियों के लिए चुनावी समय पर बाही बाही लूट जाती हैं  लेकिन मध्य प्रदेश आउट सोर्स कर्मचारियों के साथ मध्य प्रदेश विद्युत वितरण कंपनी की नई कंपनियों द्वारा वेतन में कटौती की गई है लेकिन इस ओर किसी मंत्री विधायक नेता जनप्रतिनिधि एवं अधिकारियों का कोई ध्यान नहीं है राज्य शासन द्वारा आउटसोर्स कर्मचारियों के साथ सौतेला व्यवहार किया जा रहा है। अपनी मांगों को लेकर बिजली कर्मचारी संगठन 27 सितंबर को प्रदेशव्यापी अनिश्चित कालीन हड़ताल करेगे।