बाढ़ के कहर ने हजारों लोगों को किया बेघर, टेंशन के समय अफसर वोट व हेलीकॉप्टर में बैठकर की मस्ती

 

-जिंदगी बचान के लिए मडवारी में एक किशोरी ने सोशल मीडिया पर किया वीडिय़ो वायरल, बाढ़ पीडि़तों को बचाने पुलिस पहुंची तो एक बुर्जुग कुल्हाड़ी लेकर दौड़ा

-छतों पर बैठकर भगवान से जिंदगी की लगा रहे गुहार, बाढ़ पीडि़तों के साथ सोशल मीडिया पर सेल्फी हो रही वायरल, यह कैसा मजाक

भिण्ड.ShashikantGoyal/ @www.rubarunews.com- चंबल अंचल में बाढ़ के कहर ने हजारों लोगों को बेघर कर दिया है सर छिपाने के लिए किसी के पास छत तक नहीं बची है और अपनी-अपनी छतों पर चढ़कर भगवान से जिंदगी बचाने की गुहार लगा रहे हैं, सभी लोगों के चेहरों पर टेंशन की लकीर साफ दिखाई दे रही है। सिंध नदी के रौंद्र रूप ने सैकड़ों घर बर्वाद कर दिये हैं, मवेशी पानी में बह गये हैं लोग भूखे-प्यास छतों पर सुरक्षित स्थान पहुंचने के इंतजार में बैठे हुए हैं। इसी बीच टेंशन के समय अफसर वोट व हेलीकॉप्टर में बैठर मौज-मस्ती करते हुए एक सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल हुआ, जिसमें लहार तहसील के एसडीएम, एसडीओपी, जनपद सीईओ और एक अन्य अफसरों ने वोट में बैठकर मौज-मस्ती का एक वीडियो बना रहे थे वहां से 45 किलो मीटर दूर रौन तहसील के मड़वारी गांव में 300 लोग दो दिन से बाढ़ मेंं फसे हुए थे। मड़वारी गांव की एक युवती ने वीडिय़ो बनाकर जारी किया और जिला प्रशासन से मदद की गुहार लगाई। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में लोग भूखे-प्यासे छतों पर बैठकर मदद की राह देख रहे हैं तो उधर अफसर टेंशन के समय में भी सोशल मीडिया पर सेल्फी लेकर मौज मस्ती करने में जुटे हुए हैं अरे साहब इस वक्त मौज मस्ती का नहीं लोगों की जिंदगी बचाने का है मौज मस्ती तो फिर कभी भी कर सकते हैं अगर कोई व्यक्ति बाढ़ में बह गया तो उसका घर उजड़ जायेगा, जिस ओर भी जिला प्रशासन को ध्यान देना चाहिए। बाढ़ में फसे मड़वारी के लोगों की सूचना जब रौन थाना प्रभारी उदयभानसिंह को मिली तो रेस्क्यू चलाकर गांव लोगों को बचाने के लिए पहुंचे तो एक वृद्ध पुलिस पर कुल्हाड़ी लेकर दौड़ पड़ा, जिसके बाद उन्होंने काफी समझाया, तब जाकर वृद्ध को सुरक्षित बाढ़ में फसे गांव से बाहर निकाला गया। कई अफसर अपनी जान की बाजी लगाकर लोगों को बचाने में जुटे हुए हैं तो कई अफसरों को मजाक सूझ रहा है इस वक्त सिर्फ और सिर्फ राहत कार्य के लिए जिला प्रशासन व पुलिस के अफसरों को आगे आना चाहिए मौज-मस्ती को बाद में भी हो जायेगी।

हेलीकॉप्टर के अंदर अफसरों ने ली सेल्फी

रौन क्षेत्र के ग्राम हिलगवां में बाढ़ के पानी में कई लोग फस गये थे, जब इसकी सूचना जिला प्रशासन को मिली तो तुरंत हेलीकॉप्टर भेजकर रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया गया और लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला। इस दौरान भी एक अफसर ने सेल्फी ले ली, क्योंकि यह वक्त फिर से लौटकर नहीं आयेगा। तो उधर कई गांव में वोट भेजकर लोगों को बाहर निकाला जा रहा है तो इस दौरान अफसर व पुलिस जवान सेल्फी लेने से नहीं चूक रहे हैं।

वोट में बैठकर अफसर कर रहे मौज-मस्ती

सिंध नदी की बाढ से लहार तहसील सबसे पहले प्रभावित हुई। एक दर्जन से ज्यादा गांवों में पानी भर गया। एसडीआरएफ, एनडीआरएफ, वायुसेना और आर्मी के जवान जिंदगियां बचाने में जुटी हैं, लेकिन जिला प्रशासन के अफसरों की यह हरकत शर्मिंदा करने वाली है। गिरवासा गांवों के पास लहार एसडीएम आरए प्रजापति, एसडीओपी अवनीश बंसल, जनपद पंचायत सीईओ आलोक प्रताप इटोरिया और अन्य एक अफसर बोट में बैठकर मौज-मस्ती का वीडियो बनाते रहे। इस वीडियो में एसडीएम लहार आरए प्रजापति बोट में बैठकर हाथ हिला रहे हैं। इस पर एक अफसर कमेंट कर रहा है कि देखो-देखो मोदी जी जैसे हाथ हिला रहे हैं। वहीं, दूसरा अफसर, अपना हाथ उठाकर कॉपी भी करता है। इसके बाद एसडीओपी अवनीश बंसल ने कहा आप लोग जल्द फोटो खींचो।

इनका कहना है:

ऐसा कुछ नहीं हुआ है, यह वीडिय़ो उस समय बनाया गया था जब गिरवासा में 37 लोगों और 20 पशुओं को रेस्क्यू किया गया, लेकिन ऐसी कोई बात नहीं हुई।

-अवनीश बंसल, एसडीओपी, लहार

 

रेस्क्यू के दौरान हाथ हिलाकर लोगों को सचेत किया जा रहा था, इस दौरान किसी ने कोई कमेंट नहीं किया।

आरए प्रजापति, एसडीएम लहार