परिवार एवं रिश्तों की खुशहाली के लिये जरूरी है : सम्वाद ,सहयोग एवं समर्पण

ग्वालियर.Desk/ @www.rubarunews.com-, राज्य आनन्द संस्थान ग्वालियर द्वारा विश्व परिवार दिवस पर आयोजित ऑनलाइन संगोष्ठी का प्रार्थना “ईश्वर सत्य है, सत्य ही शिव है ” से शुभारंभ हुआ । डिस्ट्रिक्ट प्रोग्राम लीडर(आनन्द) विजय कुमार उपमन्यु ने इस ऑनलाईन संगोष्ठी में सूत्रधार की भूमिका निभाई।

विजय उपमन्यु ने इस दिवस को मनाने और महत्व के बारे में प्रस्तावना में बताया कि संयुक्त राष्ट्र संघ में 1993 में विश्व परिवार दिवस 15 मई को मनाने का प्रस्ताव पारित किया गया , जिसे 1994 में पहली बार मनाया गया । यह दिवस परिवार पोषित वातावरण बनाने , परिवार प्रणाली को मजबूत करने एवं इससे जुड़े विषयों के प्रति जागरूकता के लिये सद्स्य देशों में प्रतिवर्ष मनाया जाता है ।

 

आयोजित संगोष्ठी में खुशहाल पारिवारिक जीवन एवं रिश्ते पर सहभागियों ने अपने विचार रखे। इसमें डॉ. सत्य प्रकाश शर्मा ने वर्तमान सन्दर्भ में परिवार के महत्व औऱ संयुक्त परिवार की आवश्यकता पर प्रकाश डाला । कौशल किशोर बुटोलिया ने खुशहाल परिवार के लिये चिन्ता के दायरे को कम करने औऱ प्रभाव के दायरे को बढ़ाने के बारे में बताया तथा सहयोग , स्व-अनुशासन , स्व-प्रबंधन की भी अहम भूमिका बतायी ।

श्रीमती दीप्ति उपाध्याय ने जीवन में खुशहाल रिश्तों के लिए व्यवहार एवं एहसास की भूमिका को महत्वपूर्ण बताया । हेमन्त निगम ने परिवार को हिम्मत , हौंसला और ताकत बताते हुए रिश्तों में खुशहाली के लिये सहयोग , सम्पर्क और संवाद को जरूरी बताया ।आशा दयाल ने परिवार में सभी को जोड़कर रखने के लिये आपसी तालमेल एवं अनुशासन को जरूरी बताया ।

डॉ. रूपा आनन्द ने खुशहाल परिवार के दायरे को विस्तृत करते हुये इसमें अपने पड़ोसियों और कार्यक्षेत्र के साथियों को भी शामिल करने के लिए कहा । तृप्ति शर्मा ने बताया कि परिवार हमें “मैं’ की भावना से ऊपर उठकर “हम” की भावना से जीना सिखाता है । डॉ. अतुल रायजादा ने परिवारों में आ रही जीवन मूल्यों की कमी औऱ बढ़ते वृद्धाश्रमों पर चिन्ता जताई ।

इस अवसर पर भारती शाक्य द्वारा “जीवन का सुख है परिवार “रचना का पाठ किया औऱ हेमन्त त्रिवेदी ने भी रचना पाठ किया । सुनील चोपड़ा ने अपने समेकन में संयुक्त परिवार में रहने से ज्यादा उम्र , आपसी मदद और व्यवहार विकसित होने के बारे में बताया । उक्त अवसर पर विचार रखने वालों में सहयोगी आनंदक अनेक राजपूत , वंदना राहुल , हेमन्त गुप्ता ,श्रीमती स्वराज माथुर , पवन दीक्षित , अंशुमान शर्मा, बबीता सेंगर , ऋषिकेश वशिष्ठ , आदेश गुप्ता , श्रीमती ज्योत्स्ना सिंह भी शामिल रहे । अन्य आनंदक भी ऑनलाइन उपस्थित रहें ।मास्टर ट्रेनर ई. ए. के.शर्मा ने सभी का हार्दिक आभार व्यक्त किया।