10 दिवस में सभी पेयजल उपभोक्ता ग्राम तदर्थ समितियों का गठन

श्योपुर.Desk/ @www.rubarunews.com>> लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा पेयजल परीक्षण एवं स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत कराहल विकासखंड की ग्राम पंचायत रानीपुरा, चितारा, परतवाड़ा, बुढेरा, जाखदा, मदनपुर,  डोब, सेसईपूरा, लहरोनी, निमोनिया के सचिव, रोजगार सहायक एवं पेयजल उपभोक्ता समितियों का प्रशिक्षण सह कार्यशाला का आयोजन किया गया।
कार्यपालन यंत्री पीएचई  संतोष श्रीवास्तव ने जल जीवन मिशन के अंतर्गत बनाई जाने वाली ग्राम कार योजनाओं पर चर्चा की। साथ ही स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत क्षेत्र परीक्षण किट से ग्राम में किए जा रहे पेयजल स्त्रोतों के परीक्षण की जानकारी एकत्रित कर विकासखंड स्तर पर उसकी समीक्षा की। साथ ही उन्होने यह जानकारी दी साझा की कोई भी आंगनवाड़ी, स्कूल जिस पर पेयजल की व्यवस्था नहीं है। वह हमें अवगत कराएं आगामी 100 दिवस में सभी आंगनवाड़ी एवं विद्यालयों पर पेयजल की व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी
जिला सलाहकार श्रीमती आराधना पाराशर द्वारा ग्राम कार्य योजना के सभी महत्वपूर्ण बिंदुओं पर बिंदुवार चर्चा की। साथ ही स्वच्छता सर्वे की जानकारी पर चर्चा की। इसी प्रकार ग्राम में स्वच्छता सर्वे बहुत महत्वपूर्ण है। गांव की स्वच्छता पूरे गांव के स्वास्थ्य को प्रभावित करती है। साथ ही विकासखंड समन्वयक माला ने गंदे पानी से होने वाली बीमारियांे एवं क्लोरिनेशन के महत्व पर चर्चा कर क्लोरिनेशन के इस्तेमाल का प्रशिक्षण दिया।
पखवाडे के अंतर्गत ग्राम पंचायतों में भ्रमण कर ग्रामीण सहभागिता कार्यक्रम को भी पूर्ण किया। साथ ही समुदाय की सहभागिता को सक्रिय करने हेतु समूह सभाओं से बैठक कर ग्राम विकास एवं जल जीवन मिशन के कार्य में आगे आने के लिए रोचक एवं प्रभावी आईईसी गतिविधियों के टूल्स से कार्यक्रम को आयोजित किया। पखवाडे में जल जीवन मिशन की कार्य योजना को समय पर पूरा करने के निर्देश भी दिए। इसी प्रकार सभी ग्राम पंचायतों के मुख्य पेयजल स्रोतों का परीक्षण कर क्लोरिनेशन भी किया गया। इस अवसर पर सीईओ जनपद पंचायत कराहल श्री एसएस भटनागर, जिला सलाहकार श्रीमती आराधना पाराशर एवं अन्य विभागीय अधिकारी/कर्मचारी तथा सचिव, रोजगार सहायक उपस्थित थे।