मृत्युभोज न करने का कटारे परिवार ने लिया संकल्प

गोहद.Desk/@www.rubarunews.com>> सामाजिक कुरीति के रूप में व्याप्त मृत्युभोज न करने की अनूठी पहल का उदाहरण गोहद से कटारे परिवार ने दिया है। दरअसल 28 जनवरी को पत्रकार रिंकू कटारे के चाचाजी महेश कटारे का 50 वर्ष की उम्र में बीमारी चलते निधन हो गया था। जिसके चलते समाजसेवियों मृत्युभोज मिटाने का संकल्प लेकर कार्य कर रही श्री परशुराम सर्व ब्राह्मण की टीम ने कटारे परिवार के यहाँ पहुँच बैठक कर मृत्युभोज न करने का आग्रह किया, बैठक में लोगों ने कहा कि मृत्युभोज जैसी सामाजिक बुराई को आज सभी समाज नकारने लगे हैं हमें भी इस कुरीति को मिटाने का प्रयास करना चाहिए। इस पर कटारे परिवार ने सभी समाजसेवियों की बात मानकर सभी ने एकमत होकर मृत्युभोज न करने का संकल्प लिया।

पत्रकार रिंकू कटारे और उनके परिजनों ने भी कहा कि मृत्युभोज फिजूलखर्ची है इसकी बजाय मृतात्मा को मोक्ष प्राप्ति हो उसके लिए हमें सभी संस्कार विधिविधान से करने चाहिए, मृत्युभोज में फिजूल खर्च करने की बजाय सामाजिक और धार्मिक कार्यों में करना चाहिए। रिंकू कटारे ने बताया कि 9 फरबरी तेरवीं के दिन दिवंगत आत्मा की शांति हेतु 13 ब्राह्मणों को भोजन कराकर आत्मा की शांति हेतु प्रार्थना की जायेगी। बैठक में मुख्य रूप से श्री परशुराम सर्व ब्राह्मण संघ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष/प्रभारी मध्यप्रदेश श्याम सुंदर शर्मा, जिला अध्यक्ष भिण्ड गिरिराज पाण्डेय, पत्रकार अवधेष शर्मा, एडव्होकेट रवीरमन वाजपेयी, रम्मू भार्गव, जगदीश कटारे, ओमप्रकाश कटारे, भगवती प्रसाद कटारे, रामनरेश कटारे, मुकेश कटारे, आशीष मुदगल, गौरव पाण्डेय, दीपक चौधरी, रमाकांत चौधरी सहित सैकड़ों लोग मौजूद रहे।

Umesh Saxena

I am the chief editor of rubarunews.com